रिलेशनशिप प्रोब्लम - ज्योतिष बचा सकता है आपके टूटते रिश्ते को!

क्या है आपके रिलेशनशिप में प्रोब्लम? नहीं बन पा रही साथी के साथ बात? क्या अचानक से आया है आपके जीवन में भूचाल? क्या साथी होगा गया है आपके दूर ? तो यह लेख आपको एक बार फिर अपने पिया व प्रिय से जरिया प्रदान करेगा। जिससे आप दोबारा अपने प्यार व यार को पा सकोगे। परंतु इससे पहले आपको यहां विचार करने की आवश्यकता है। आखिर दोष किसका है। आपका या किसी और का? क्योंकि कभी- कभार हम कुछ ऐसा कर जाते हैं जिससे हमारा साथी दुखी हो जाता है। यदि आपने ऐसा कुछ भी नहीं किया है तो हो सकता है की आपके ग्रह की दशा गर्दिश में चल रहे हों इसी के कारण आप दोनों के बीच रिलेशनशिप में प्रोब्लम आया हो। अब आपके मन सवाल उठ रहा होगा की इससे ग्रह की दशा से क्या लेना देना? तो हम आपको बता दें कि इसका लेना देना है जिसके बारे में हम आगे लेख में विस्तार से बात करेंगे। क्या आपके कुंडली में है ग्रह दोष जानने के लिए बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

रिलेशनशिप प्रोब्लम में ग्रहों की भूमिका

सबसे पहले बात कर लेते हैं कि रिलेशनशिप प्रोब्लम में ग्रहों की दशा, दिशा व स्थिति की कितनी भूमिका होती है। ज्योतिषाचार्यों का इस विषय पर कहना है कि यदि रिश्ता बेहतर हो, प्रेम की गाड़ी पूरे रफ्तार में हो और अचानक से स्पीड ब्रेकर आ जाए तो समझ लेना चाहिए कि कहीं न कहीं इसमें स्वयं का दोष है। लेकिन अगर आपका दोष नहीं है तो इसमें निश्चित ही आपके ग्रहों का ही दोष है। फिर भी आज के नौजवान इस पर ध्यान नहीं देते अंततः यह युगल के बिछड़ने का कारण बन जाता है। जानें कैसे पाएं अपने सच्चे प्यार को। लेकिन यदि इन ग्रहों की दशा ठीक कर दी जाए तो यह आपको शुभ परिणाम देंगे।

कुंडली में प्रेम वियोग योग

ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि कुंडली में एक समय ऐसा भी आ सकता है कि वर या कन्या के कुंडली में प्रेम वियोग का योग बन सकता है। यह पता भी नहीं चलता है। धीरे –धीरे रिश्तों में खटास आनी शुरू हो जाती है और आखरी में संबंधों का अंत हो जाता है। परंतु इसके लिए जातक स्वयं को दोषी मानते हैं। लेकिन दोष उनका नहीं होता है। ज्योतिष मानते हैं कि समय रहते इस योग को निष्प्रभाव कर दिया जाए तो रिश्ता बच जाता है। लेकिन ये योग बनता कैसे है? इस पर ज्योतिषियों का कहना है कि इस योग का बनने का कारण प्रेम के कारक का सही स्थान पर न होना साथ ही किसी पाप ग्रह के पीड़ित होना इसका कारक बनता है। कैसे पाएं मन चाहे प्यार को जानने के लिए यहां क्लिक करें।  ज्योतिषियों की माने तो शास्त्र में इनके तोड़ मौजूद हैं। जिससे आप इस दोष को दूर कर सकते हैं।

ज्योतिष से पाएं अपने प्यार को!

ज्योतिष में ऐसे कई उपाय हैं जिन्हें आप अपना कर अपने प्यार को पुनः पा सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको उपाय को करना होगा। क्योंकि ज्योतिषियों का मानना है कि इन कष्टकारी योग को समाप्त किया जा सकता है। जिसके लिए आपको किसी योग्य ज्योतिषाचार्य से अपने कुंडली की गणना करवानी होगी। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि सामान्य ज्योतिषीय उपाय से आपको उतना लाभ नहीं होगा जितना की कुंडली का आकलन करवा कर ज्योतिषीय द्वारा सुझाएं गए उपाय को अपना कर। यदि आप सच में अपने प्यार प्यार को पाना चाहते हैं तो आपको बिना झिझक किए एक बार ज्योतिषीय परामर्श को अपना कर देखना चाहिए। क्या पता इससे आपके जीवन में एक बार फिर आपकी खोई हुई खुशियां दोबारा लौट आएं। तो देर किस बात की अभी परामर्श करें, एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से और पाएं अपने रिलेशनशिप को बचाने का अचूक उपाय।

एस्ट्रो लेख

कन्या संक्रांति...

17 सितंबर 2019 को दोपहर 12:43 बजे सूर्य, सिंह राशि से कन्या राशि में गोचर करेंगे। सूर्य का प्रत्येक माह राशि में परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस संक्रांति को स्नान, दान और ...

और पढ़ें ➜

नरेंद्र मोदी - ...

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे स्पष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच मे...

और पढ़ें ➜

विश्वकर्मा पूजा...

हिंदू धर्म में अधिकतर तीज-त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार ही मनाए जाते हैं लेकिन विश्वकर्मा पूजा एक ऐसा पर्व है जिसे भारतवर्ष में हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है। इस दिवस को भग...

और पढ़ें ➜

पितृदोष – पितृप...

कहते हैं माता-पिता के ऋण को पूरा करने का दायित्व संतान का होता है। लेकिन जब संतान माता-पिता या परिवार के बुजूर्गों की, अपने से बड़ों की उपेक्षा करने लगती है तो समझ लेना चाहिये कि अ...

और पढ़ें ➜