Skip Navigation Links
2018 में भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?


2018 में भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?

भारत की कुंडली वृषभ लग्न की है जिसके स्वामी शुक्र हैं। वृषभ लग्न व लग्नेश शुक्र दोनों को ही स्वभाव से शांत माना जाता है। इसी कारण भारत का स्वभाव भी क्षमाशील है। भारत उग्रता का परिचय बहुत ही अति होने के बाद देता है। इसके विपरीत पाकिस्तान की कुंडली को देखा जाये तो वह मेष लग्न की बनती है जिसके स्वामी मंगल हैं। मेष लग्न व लग्नेश मंगल दोनों की प्रकृति में आक्रामकता नीहित होती है। मंगल ग्रह को युद्ध का कारक माना जाता है। इसलिये उग्रता पाकिस्तान के स्वभाव में ही है और अपने स्वभाव को कोई त्याग नहीं सकता। भारत की नरमी और पाक की गरमी को आप भारत-पाक के संबंधों में शुरुआत से ही देख सकते हैं।


भारत के राशि स्वामी चंद्रमा से पाकिस्तान के राशि स्वामी बुध की शत्रुता

लग्न ही नहीं यदि राशिनुसार भी आकलन किया जाये तो भारत की राशि कर्क है जिसके स्वामी चंद्रमा हैं। चंद्रमा को भी शीतलता व शांति का प्रतीक माना जाता है। भारत तो हमेशा से ही शांतिदूत के रूप में जाना जाता रहा है। वहीं पाकिस्तान की राशि मिथुन है जिसके स्वामी बुध हैं। बुध का स्वयं अपना कोई अस्तित्व नहीं होता वह हमेशा दूसरों पर आश्रित रहता है और उनकी सोच से अपना कार्य करता है। लेकिन चंद्रमा से बुध का संबंध शत्रुवत माना जाता है। हालांकि पौराणिक कथाओं में बुध को चंद्रमा का पुत्र माना जाता है और चूंकि चंद्रमा ने बुध की मां तारा से छल किया इस कारण बुध का उससे शत्रुवत सबंध है। यही कारण है कि भारत से पाकिस्तान का संबंध शत्रुता का रहता है।

इस प्रकार जन्म कुंडली के अनुसार लग्न, लग्नेश, राशि आदि के आकलन से भारत और पाकिस्तान का संबंध आरंभ से ही शत्रुवत रहा है। भारत की राशि से पाकिस्तान की राशि 12वीं होने के कारण आपसी प्यार-प्रेम की कमी लगातार दोनों देशों में बनी रहती है। ग्रहों के बीच मैत्री न होने से भी दोनों देश एक दूसरे को राजनीतिक रूप से हमेशा नीचा दिखाने का प्रयास करते रहते हैं। यदि वर्ष 2018 में ग्रहों की दशानुसार आकलन करें तो भारत-पाकिस्तान के बीच 2018 में किसी बड़े युद्ध की संभावनाएं तो कम हैं लेकिन सीमाओं पर स्थिति तनावपूर्ण व छिटपुट घटनाएं देखने को मिल सकती हैं।


मंगल शनि का साथ बिगड़ सकते हैं हालात

वर्ष का आरंभ कन्या लग्न व वृषभ राशि में हो रहा है। वर्ष लग्न स्वामी व पाकिस्तान की राशि के स्वामी बुध हैं जो वर्ष लग्न से नव वर्ष आगमन के समय तीसरे स्थान में गोचर कर रहे हैं वहीं भारत की कुंडली में लग्न व 2018 की वर्ष कुंडली की राशि एक समान हैं राशि स्वामी शुक्र छठे स्थान में विराजमान शनि व सूर्य के साथ विराजमान हैं। वर्ष की शुरुआत में भारत को थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता रह सकती है। नव वर्ष की शुरुआत खुशहाल हो इसके लिये भारत में कुछ स्थानों पर चौकसी भी बढ़ाई जा सकती है। हालांकि बहुत ज्यादा चिंताजनक स्थिति इस समय नहीं कही जा सकती लेकिन मार्च में मंगल व शनि के साथ आने पर हालात थोड़ा बिगड़ सकते हैं। मार्च से लेकर जुलाई के बीच बृहस्पति, शनि व मंगल के वक्री होने के कारण विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता दोनों देशों को होगी। इस समय परिस्थितियां तनावपूर्ण हो सकती हैं। पाकिस्तान प्रायोजित आतंकी घटना को अंजाम देने के प्रयास भी इस समय हो सकते हैं। इसके अलावा समय दोनों देशों में सौहार्द बढ़ाने के लिये प्रयास किये जाने के संकेत कर रहा है।

भारत औऱ पाक के संबंध के बारे में आपने जाना यदि आप अपने संबंधों के भविष्य के बारे में जानना चाहते हैं तो एस्ट्रोयोगी पर देश के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से परामर्श ले सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

अंक ज्योतिष भविष्यफल 2018  |    2018 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   2018 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे   |   

भारत खेल 2018 - खेलों में कैसा रहेगा भारत का प्रदर्शन





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...