अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष – इन राशियों की महिलाएं होती हैं सबसे जुदा

06 मार्च 2020

एक महिला अपने जीवन में कई किरदारों को मां, बेटी, बहन और पत्नी बनकर बखूबी निभाती हैं। ये अपना जीवन परिवार के लिए समर्पित कर देती हैं। आज महिलाएं परिवार को संभालते हुए कई अन्य क्षेत्रों में भी कार्य कर रही हैं और अपनी प्रतिभा का लोहा भी मनवा रही हैं। अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर इस लेख में हम आपको बताएंगे कि यह दिवस क्यों मनाया जाता है? क्या है इसका इतिहास? यह तो जानेंगे ही साथ ही हम आपको ऐसी कुछ राशियों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी महिला जातक बहुमुखी प्रतिभा की धनी होती हैं। इनका अंदाज़ सबसे जुदा होता है। 

 

क्यों मनाया जाता है महिला अन्तर्राष्ट्रीय दिवस ?

जैसा कि हम जानते हैं कि हर साल अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च के दिन पूरे विश्व में मनाया जाता है। इस दिन को महिला सशक्तिकरण की एक पहल माना जा सकता है। पूरी दुनिया में महिलाएं अपने अधिकारों के लिए जो आवाज़ उठा रहीं हैं, महिला दिवस कहीं न कहीं महिलाओं के ऐतिहासिक संघर्षों को याद करने का दिन भी है। यही कारण है कि पूरी दुनिया में इस दिन को सेलिब्रेट करने के लिये अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता हैं।

 

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस का इतिहास

इतिहास में दर्ज तथ्यों के आधार पर यह दिवस सबसे पहले अमेरिका में सोशलिस्ट पार्टी के आह्वान पर 28 फ़रवरी 1909 को मनाया गया था। इसके बाद यह फरवरी के अंतिम रविवार के दिन मनाया जाने लगा और 1910 में सोशलिस्ट इंटरनेशनल के कोपेनहेगन सम्मेलन में इसे अन्तरराष्ट्रीय दर्जा दिया। उस समय इसका प्रमुख उद्देश्य महिलाओं को मत का अधिकार दिलवाना था। दरअसल उस समय अधिकतर देशों में महिलाओं को वोट देने का अधिकार नहीं था।

 

1917 में रूस क्रांति के दौर में महिलाओं ने महिला दिवस पर रोटी और कपड़े के लिये हड़ताल पर जाने का फैसला किया। यह हड़ताल भी ऐतिहासिक रही। ज़ार के सत्ता छोड़ने के बाद अंतरिम सरकार ने महिलाओं को मत देने के अधिकार दिया। उस समय रूस में जुलिएन कैलेंडर चलता था और बाकी दुनिया में ग्रेगेरियन कैलेंडर का चलन था। जुलिएन कैलेंडर के मुताबिक 1917 की फरवरी का आखिरी रविवार 23 फ़रवरी को था जबकि ग्रेगेरियन कैलैंडर के अनुसार उस दिन तारीख 8 मार्च थी और 1975 में यूनाइटेड नेशन्स ने 8 मार्च के दिन वुमन्स डे मनाना शुरू किया।

 

यह तो थी महिला दिवस के इतिहास की बात अब जानते हैं ज्योतिष शास्त्र राशिनुसार महिलाओं में क्या खूबी देखता है।

 

राशि अनुसार महिला जातक के गुण व स्वभाव

वैसे तो ज्योतिषशास्त्र में कुल 12 राशि हैं। लेकिन हम यहां इनमें से कुछ राशि की महिला जातकों के स्वभाव, गुण और प्रवृत्ति के बारे बताएंगे।

 

मेष राशि

मेष राशि की महिलाएं स्वभाव से बेहद चंचल होती है। ये थोड़ी बातूनी किस्म की होती है और इन्हें बातें करना बहुत ही पसंद होता है। इस राशि की महिलाएं अपने जॉब के साथ-साथ पारिवारिक ज़िम्मेदारी संभालती हैं और परिवार को हमेशा साथ लेकर चलती हैं।

 

वृषभ राशि

वृषभ राशि की महिलाएं स्वभाव से बेहद शांत होती हैं। कोई भी कार्य बड़ी कुशलता करती हैं। इस राशि की महिलाएं जहां रहती हैं वहां का सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है। ये स्वभाव से बहुत सरल और सहनशीलता होती हैं। संबंधों को महत्व देती हैं। एक अच्छा करियर बनाने में कामयाब रहती हैं। 

 

मिथुन राशि

इस राशि की महिलाएं स्वभाव से चंचल व शर्मीली होती हैं। इनके अंदर कुछ न कुछ नया सीखने की चाह होती है। यही चाह इनके पेशेवर जीवन को सफलता की बुलंदियों तक पहुँचती हैं। मिथुन राशि की महिलाओं को रोमांच बहुत ही पसंद होता है। 

 

कर्क राशि

कर्क राशि की महिलाएं बहुत ही भावुक प्रवृत्ति की होती हैं। ये छोटी-छोटी बातों को अपने दिल से लगा लेती हैं। संबंध के प्रति वफ़ादार होती हैं। इनके लिए परिवार अधिक मायने रखता है। ये जीवन में कुछ हटकर करने की सोच रखती हैं और सफल करियर बनाने में कामयाब होती हैं।

 

सिंह राशि

इस राशि की महिलाओं में कुशल नेतृत्व करने तथा एक अच्छी लीडर बनने के गुण होते हैं। सिंह राशि की स्त्री के स्वभाव व व्यक्तित्व से लोग स्वत: ही आकर्षित हो जाते हैं। ये किसी कार्य में अनदेखी बर्दाश्त नहीं करती हैं, करियर तथा पारिवारिक जीवन में तालमेल बनाकर चलती है। 

 

कन्या राशि

इस राशि की महिलाएं आदर्शवादी होती हैं। इनका भाग्य हमेशा देता है। ये बेहद मेहनती होती हैं जिसके कारण जल्दी सफलता प्राप्त करती हैं। कन्या राशि की महिलाएं बिज़नेस करने में ज्यादा कुशल होती है। चाहे व्यापार के संबंध में निर्णय लेना हो या परिवार के संबंध में बिना किसी संकोच के निर्णय में सक्षम होती हैं।

 

तुला राशि

तुला राशि की महिलाएं थोड़ी अभिमानी होती हैं, परंतु ये दिल की बड़ी अच्छी होती हैं। इस राशि की महिलाएं प्रभावशाली व्यक्तित्व की धनी होती हैं। ये सदैव दूसरों की मदद करने के लिए तैयार रहती हैं। ये विवादों से निपटने में सक्षम होती हैं, विपरीत परिस्थितियों का सामना पूरी मजबूती के साथ करती हैं। परिवार के प्रति बेहद संवेदनशील होती हैं। पेशेवर जीवन में काफी सफल रहती हैं।

 

वृश्चिक राशि

इस राशि की महिला जातक कुछ जिद्दी होती हैं। ये जिस चीज को हासिल करने का मन बना लें उसे पाकर ही रहती हैं। इसके लिए ये कुछ भी कर गुजरने के लिए तैयार रहती हैं। वृश्चिक राशि की महिलाएं अपने जीवन में किसी का हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करती। काम के मामले में इस राशि की महिलाएं अन्य के तुलना में ज्यादा काम करने में सक्षम होती हैं। ये जल्द ही उच्च पद को प्राप्त करती हैं। 

 

धनु राशि

धनु राशि की महिलाएं बंधन में रहना पसंद नहीं करती हैं, ये स्वभाव से थोड़ी गुस्सैल, लेकिन बड़ी ही भावुक व संवेदनशील होती हैं। ये कठिन परिस्थितियों में साथ निभाती हैं। इनके जीवन में लक्ष्य को पाना पहली प्राथमिकता रहती है जिसके लिए ये परिश्रम करने से पीछे नहीं हटती हैं। ये बड़ी सोच रखती हैं, कुछ हट के करने की सोचती हैं और काफी क्रिएटिव होती हैं। इन्हें कला से काफी लगाव होता है।

 

मकर राशि

मकर राशि की महिलाएं बहुत ही स्वाभिमान होती हैं। इनके लिए सम्मान से बढ़कर कोई चीज नहीं है। स्वभाव जिद्दी होती हैं लेकिन इनका दिल साफ होता है। इनके अंदर प्रतिभा की कोई कमी नहीं होती है और ये बहु प्रतिभा की धनी होती हैं। अपने करियर में मकर राशि की महिलाएं खूब तरक्की करती हैं। ये सहनशीलता होती हैं और परिवार इनकी कमज़ोरी है।

 

कुंभ राशि

इस राशि की जातक हर परिस्थिति का सामना अकेले करने में सक्षम होती हैं। परिवार से इन्हें विशेष लगाव होता है, संबंध के प्रति बेहद संवेदनशील होती हैं। अपने निजी जीवन में हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं करती और किसी की बातों में जल्दी नहीं आतीं। फैसले काफी सोच समझकर लेती हैं।

 

मीन राशि

इस राशि की महिलाएं बड़ी दयालु होती हैं। इनसे किसी का दुख देखा नहीं जाता। ये थोड़ी शर्मीली स्वभाव की होती हैं। लेकिन काम के प्रति बेहद संवेदनशील, ये हर काम कुशलता से और समय पर पूरा करती हैं जिसके चलते अपने पेशेवर जीवन में सफलता हासिल करती हैं। इनके लिए परिवार सबसे पहले और बाकि चीजें बाद में आती हैं।

 

एस्ट्रोयोगी परिवार की तरफ से समस्त महिलाओं को महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 

एस्ट्रो लेख

देवोत्थान एकादशी 2020 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

क्या आप भी जन्मे हैं दिसंबर महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

गोपाष्टमी 2020 तिथि मुहूर्त व व्रत कथा

अक्षय नवमी पर करें आंवले के वृक्ष का पूजन मिलेगा शुभ फल

Chat now for Support
Support