मकर राशि में गुरु का गोचर, जानिए कैसा पड़ेगा राशियों पर असर?

इस साल 30 मार्च 2020 को गुरु गोचर कर मकर राशि में आ जाएंगे। 30 जून 2020 को ये वक्री होकर धनु राशि में पुनः अपनी स्वराशि में आ जाएंगे और फिर 20 नवंबर को गुरु वापस मकर में गोचर करेंगे। तो चलिए राशिनुसार जानते हैं कि साल 2020 में गुरु के गोचर से 12 राशियों पर क्या पड़ेगा असर? साथ ही हम आपको राशिनुसार टिप्स भी देंगे ताकि आप गुरु के अशुभ प्रभाव से बच पाएं।

 

वैदिक ज्योतिष में गुरु

ज्योतिष के मुताबिक, गुरु शुभ हो तो जातक को ज्ञानवान, अच्छा वक्ता, धनवान, अध्यापक, संपादक और बैंकर आदि से संबंधित व्यवसाय देता है। गुरु ग्रह वैवाहिक जीवन और संतान का कारक है। गुरु शुभ हो तो बहुत अच्छा जीवन साथी मिलता है और वैवाहिक जीवन में सुखी रहती है।  संतान से सौभाग्य प्राप्त होता है। गुरु उच्च शिक्षा दिलाते हैं, गुरु मस्तिष्क पर बहुत गहरा प्रभाव डालते हैं तभी गुरु को ज्ञान और बुद्धि का कारक कहा गया है।

 

गुरू का राशि परिवर्तन कर मकर राशि में आना आपके कुंडली के अनुसार कैसा रहेगा? जानने के लिए बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से। अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

गुरु गोचर का बरहों राशि पर प्रभाव

 

मेष राशि

मेष राशि के जातकों के लिए गुरु का मकर राशि में आना कुछ खास संकेत नहीं दे रहा है। मेष राशि के जातकों को इस समय अपने व्यवहार के लेकर व्यापार व नौकरीपेशा लोगों को अपने कार्य पर ध्यान देने की आवश्यकता होगी। इसके साथ ही जो जातक शादीशुदा हैं उन्हें भी साथी के साथ विनम्र रहना होगा।


वृषभ राशि

वृषभ राशि के लिए बृहस्पति का राशि परिवर्तन कर मकर राशि में आना बेहद शुभ है। बृष जतकों को इस समय का लाभ उठाना चाहिए। इस समय आपका भाग्य आपको आगे चलेगा। जो भी कार्य आपका रुका हुआ था वो इस समय पूरा हो सकता है। इसके साथ ही जो जातक साथी के साथ विवाद में हैं इनसे भी आपको राहत मिलेगी। व्यापार व करियर में जातक अच्छा लाभ पा सकते हैं। 

 

मिथुन राशि

गुरु का मकर में आना मिथुन राशि के जातकों के लिए शुभ नहीं कहा जा सकता है। इस समय मिथुन जातकों को अपने कार्य के साथ ही सेहत पर भी ध्यान देना होगा। किसी भी तरह की लापरवाही आपको भारी पड़ सकता है। प्रेमी जातक भी अपने साथी के साथ धैर्य से रहे। समय के साथ सब ठीक हो जाएगा।

 

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के लिए गुरु का गोचर कर मकर राशि में आना बेहद शुभ संकेत दे रहा है। इस समय कर्क जातक अपना कोई भी कार्य शुरू कर सकते हैं। परंतु इसके पूर्व आपको अपने सहयोगी व शुभचिंतकों से सलाह जरूर ले लेनी चाहिए। व्यापार में भी जातकों को अच्छा लाभ होता दिखायी दे रहा है। कुल मिलाकर समय आपका है। लाभ उठाएं।

 

सिंह राशि

गुरु का धनु राशि से गोचर कर मकर राशि में आना सिंह राशि के जातकों के लिए कुछ खास संकेत नहीं दे रहा है। इस समय सिंह राशि के जातकों को धैर्य से काम लेने की आवश्यकता है। इस दौरान आपको किसी भी तरह की जल्दबाजी करना भारी पड़ सकता है। आपको अपने कार्यों को पूरा करने की कोशिश करनी चाहिए। किसी पर भी निर्भर न हों।

 

कन्या राशि

गुरू का मकर राशि में आना कन्या राशि के जातकों के लिए शुभफलदायी है। इस समय आपको सारे कार्य पूर्ण होगें। इसके साथ ही जो जातक व्यापारी या उच्च पद पर हैं उनके लिए समय अच्छा है। आपको कोई नई ज़िम्मेदारी मिल सकती है। जो जातक नया जॉब तलाश रहे हैं उनकी यह तलाश खत्म हो सकती है। प्रेमी व वैवाहिक जीवन के लिए यह समय अच्छा रहने वाला है।

 

तुला राशि

तुला जातकों के लिए गुरू का राशि परिवर्तन कर मकर राशि में आना सामान्य रहने वाला है। आपको हर कार्य को पूर्ण करने के लिए पहले से अधिक परिश्रम करने की आवश्यकता होगी। किसी भी तरह का आलस करना आपके लिए ठीक नहीं है। जीवन के हर पहलु पर आपको सावधान व धैर्य से काम लेने की जरूरत है। जल्दबाजी न करें।

 

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के जातकों के लिए गुरू का मकर राशि में गोचर करना सामान्य रहने वाला है। आप सभी जातकों को इस समय अपने सेहत पर विशेष ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही कोई कार्य किसी और के भरोसे न छोड़े। इससे आपको हानि का सामना करना पड़ सकता है। प्रेमी जातकों के लिए भी समय ठीक नहीं है। संभलकर साथी की भावनाओं का ख्याल रखें।

 

धनु राशि

गुरू का गोचर कर धनु राशि से मकर राशि में आना आपके लिए अच्छा है। आपके सारे काम बनेंगे। जिन कार्यों को पूरा करने के लिए आप अथक परिश्रम कर रहे थे वह इस समय पूरा हो सकता है। इसके साथ ही जातकों को व्यापार व धन लाभ होगा। करियर में भी आप सफलता हासिल करेंगे। साथी के साथ समय अच्छा बितेगा। संबंधों में गर्माहट आएगी।

 

मकर राशि

मकर राशि के जातकों के लिए गुरू का राशि परिवर्तन कर मकर राशि में ही आ जाना कुछ खास नहीं है। मकर जातकों को इस समय अपने कार्य को पूरा करने में अपना शत प्रतिशत देना होगा। ऐसा न करने पर आपका काम अटक सकता है। व्यापारियों के लिए भी समय समान रहेगा। हर कार्य को गंभीरता से लें। सेहत पर भी ध्यान दें। जरूरी न हों तो बाहर का खाना न खाएं।

 

कुंभ राशि

गुरू का राशि परिवर्तन करना कुंभ राशि के जातकों के लिए के लिए सामान्य रहने वाला है। जो जातक व्यापारी हैं उनके लिए समय उचित नहीं है। व्यापार में निवेश करने से पहले अपने सलाहकार से विचार विमर्श जरूर करें। इसके साथ ही जो जातक वैवाहिक जीवन में उन्हें भी इस समय अपने साथी के साथ तालमेल बना कर चलना होगा। धैर्य से काम लें।

 

मीन राशि

मीन राशि की बात की जाए तो यह गोचर इनके लिए शुभ रहने वाला है। काफी समय से अटका कार्य इस समय पूरा हो सकता है। व्यापारी जातकों के लिए समय अच्छा है व्यापार में आपको लाभ होगा। इसके साथ ही जो जातक नौकरीपेशा हैं उन्हें भी करियर में अच्छी सफलता मिल सकती है। पारिवारिक विवाद भी खत्म हो सकता है। साथी के साथ संबंध अच्छे होंगें। सेहत में भी सुधार होगा। कुल मिलाकर आपके लिए यह गोचर शुभ रहने वाला है।

यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2020 - Grah Gochar 2020 । हस्तरेखा से जानिए अपना भविष्य

एस्ट्रो लेख

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜

परशुराम जयंती 2...

भगवान परशुराम वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन अवतरित हुए भगवान विष्णु के छठे अवतार थे। इन्हें विष्णु का आवेशावतार भी कहा जाता है क्योंकि इनके क्रोध की कोई सीमा नहीं थी। अपने पिता की हत्य...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया पर...

अक्षय तृतीया को विभिन्न कारणों से भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन द्वापर युग समाप्त होकर त्रेता युग की शुरुआत हुई थी। यह दिन भगवान विष्णु के अवतार परशुराम की जन्म दिवस के ...

और पढ़ें ➜