Skip Navigation Links
कंकालीन मंदिर - इस सिद्धपीठ में गिरा था देवी सती का कंगन


कंकालीन मंदिर - इस सिद्धपीठ में गिरा था देवी सती का कंगन

छतीसगढ़ के रायपुर जिला मुख्यालय पर पहाड़ ताज के समान है। इसी पहाड़ के नीचे कंकालीन देवी लोगों की मन्नतें पूरी करती हैं। यहां स्थित कंकालीन देवी की शक्तिपीठ रियासत काल से ही लोगों की आस्था का केंद्र है। इस पीठ को देवी की 51 शक्तिपीठों में माना जाता है। मान्यता है कि यहां पर देवी सती का कंगन गिरा था। नवरात्र के दिनों में तो यहां दूर-दूर से लोग देवी का दर्शन करने आते हैं।



कंकालीन मंदिर की पौराणिक कथा

पौराणिक कथानुसार कनखल (हरिद्वार) में राजा प्रजापति दक्ष ने यज्ञ का आयोजन किया लेकिन अपने जमाता व देवी सती के पति भगवान शंकर को निमंत्रित नहीं किया। जब देवी सती ने इसका कारण पूछा तो भगवान शंकर के बारे में भला बुरा कहा जिससे आहत होकर देवी सती ने यज्ञ अग्निकुंड में कूदकर अपने प्राण त्याग दिये। सती के वियोग में भगवान शंकर व्यथित हो गए। उनके तांडव से तीनों लोकों में प्रलय के आसार हो गए। भयभीत देवताओं ने विष्णु भगवान से प्रार्थना की। भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से देवी सती के शरीर को खंड-खंड करते गये। जहां-जहां देवी के अंग गिरे वहां-वहां शक्तिपीठ बनीं।


कंड्रा वंश के शासन काल में हुई मंदिर की स्थापना

कहा जाता है कि सोमवंश के पतन के बाद चौदहवीं सदी में कंड्रा वंश के शासक पद्मदेव के कार्यकाल में यहां मंदिर की स्थापना की गई।


मंदिर व मूर्ति स्थापना की एक और प्रचलित कहानी

कंकालीन मंदिर के वर्तमान पुजारी अभिषेक सोनी के अनुसार उनके पूर्वज स्वर्णकार सुखदेव प्रसाद को राजा ने आभूषण बनाने के लिए यहां बुलाया था। कुछ दिनों के पश्चात मां कंकालीन देवी ने उन्हें स्वपन में कहा कि वे जोगी गुफा पहाड़ के नीचे चट्टानों से ढ़की हैं। सुखदेव ने राजा को यह बात बताई जिस पर शुरुआत में तो राजा को विश्वास नहीं हुआ। लेकिन स्वपन फिर से आया तो राजा ने शर्त रखी कि यदि कुछ नहीं मिला तो उन्हें 100 कोड़े लगाए जांएगें। इसके बाद हुई खुदाई में मां कंकालीन और भैरों नाथ की मूर्तियां निकली जिनकी राजा ने विधिवत स्थापना करवाई। आज भी सुखदेव के परिवार की पांचवी पीढ़ी के लोग ही जो कि मूल रुप से उत्तर प्रदेश लखनऊ के पास स्थित कड़ा मानिकपुर से हैं मंदिर में पूजा-पाठ करते हैं।


मंदिर से जुड़ी अनहोनी घटनाएं

ऐसा कहा जाता है, कि पहले इस मंदिर में महिलाएं प्रवेश करते ही बेहोश हो जाती थी या उनके साथ कोई अनहोनी हो जाती। इसलिए यहां महिलाओं का प्रवेश वर्जित था। 1990-91 में माता की विशेष पूजा-अर्चना के बाद महिलाओं का प्रवेश कराया गया।


मंदिर परिसर की चट्टान पर खुदा रहस्य

मंदिर परिसर में चट्टान पर कुछ लिखा हुआ है। यह लिपि आज भी एक रहस्य बनी हुई है। किसी के द्वारा इस लिपि को पढ़े जाने के प्रमाण नहीं हैं। हालांकि यह मान्यता है कि जो इस लिपि को पढ़ लेगा उसे खजाने की प्राप्ति होगी। साथ ही यह भी कहा जाता है कि इस लिपि में 84 लाख जीव-जंतुओं के भोजन के खर्च का ब्यौरा लिखा हुआ है।


यह भी पढें





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शनि प्रदोष - जानें प्रदोष व्रत की कथा व पूजा विधि

शनि प्रदोष - जानें...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास में कोई न कोई व्रत, त्यौहार अवश्य पड़ता है। दिनों के अनुसार देवताओं की पूजा होती है तो तिथियों के अनुसार भी व्रत उपवास रखे जाते ह...

और पढ़ें...
पद्मिनी एकादशी – जानिए कमला एकादशी का महत्व व व्रत कथा के बारे में

पद्मिनी एकादशी – ज...

कमला एकादशी, अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पद्मिनी एकादशी कहलाती है। इसे कमला एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू धर्म में व्रत व त्यौहारों की बड़ी मान्यता है। सप्ताह का...

और पढ़ें...
वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

वृषभ राशि में बुध ...

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना मान...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...