Skip Navigation Links
यहां होती है श्री कृष्ण के अत्याचारी मामा कंस की पूजा


यहां होती है श्री कृष्ण के अत्याचारी मामा कंस की पूजा

कंस बहुत ही अत्याचारी और क्रूर था यह तो सभी जानते हैं। यह भी जानते हैं कि उसने सिंहासन पाने की खातिर अपने पिता तक को नहीं बख्शा। जिस बहन को वह अपने प्राणों से भी ज्यादा प्यार करता था उसी बहन को उसने आकाशवाणी के बाद (जिसमें देवकी की आठवीं संतान को उसकी मौत का कारण बताया था) जेल में डाल दिया था। वही कंस जिसके दुराचारों से मथुरा निवासियों को मुक्ति दिलाने के लिये स्वंय भगवान ने श्री कृष्ण का अवतार लिया और कंस का वध कर संसार को कंस के अत्याचार से मुक्त करवाया। क्या आप सोच सकते हैं कि ऐसे दुराचारी, पापी, अत्याचारी शासक की कोई पूजा कर सकता है। लेकिन आप यह देखकर हैरान हो जायेंगें कि ऐसी भी जगहें हैं जहां कंस की भी पूजा की जाती है। यह जानते हुए भी कि वह अन्यायी शासक था लोग सदियों से अपने पूर्वज़ों की परंपरा के अनुसार कंस की पूजा करते आ रहे हैं।

यह जगह कहीं और नहीं बल्कि अपने भारत में ही है। लखनऊ से हरदोई की ओर जाने वाले मार्ग पर एक गांव में दूर से ही आपको एक बड़ी मूर्ति दिखाई देगी। जब आप इसके नजदीक पंहुचते हैं तो आप यह देखकर हैरान हो सकते हैं कि यह मूर्ति किसी और की नहीं बल्कि भगवान श्री कृष्ण के अत्याचारी मामा कंस की है।

स्थानीय लोगों के अनुसार कई पीढ़ियों से उनके पूर्वज़ इस मूर्ति की पूजा करते आये हैं। उन्होंने कब कैसे इस परंपरा की शुरुआत की इसका कुछ भी वर्तमान पीढ़ी के लोगों को मालूम नहीं है। लेकिन अब अपने पूर्वज़ों की परंपरा को अपना फ़र्ज मानकर निभाते हैं।

हालांकि किसी दुराचारी, असुर या राक्षस या शासक की पूजा करने वाला यह अकेला गांव नहीं है कुछ स्थानों पर रामायण के खलनायक और वेदशास्त्रों के ज्ञाता माने जाने वाले महापंडित रावण की पूजा भी होती है। दुर्गा पूजा के दिनों में ही कुछ इलाकों में महिषासुर की पूजा भी की जाती है। इसलिये यह कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिये लोक परंपराओं में कई बार खलनायक भी नायक की तरह पूजे जाते हैं। 

अन्य लेख

कंस वध – कब और कैसे हुआ कंस का अंत   |   धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र   |   दानवीर कर्ण थे पूर्वजन्म के पापी, उन्हीं का मिला दंड




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

दस साल बाद आषाढ़ में होगी शनि अमावस्या करें शनि शांति के उपाय

दस साल बाद आषाढ़ म...

अमावस्या की तिथि पितृकर्मों के लिये बहुत खास मानी जाती है। आषाढ़ में मास में अमावस्या की तिथि 23 व 24 जून को पड़ रही है। संयोग से 24 जून को अ...

और पढ़ें...
शनि परिवर्तन - वक्री होकर शनि कर रहे हैं राशि परिवर्तन जानें राशिफल

शनि परिवर्तन - वक्...

शनि की माया से तो सब वाकिफ हैं। ज्योतिषशास्त्र में शनि को एक दंडाधिकारी एक न्यायप्रिय ग्रह के रूप में जाना जाता है हालांकि इनकी टेढ़ी नज़र से...

और पढ़ें...
आषाढ़ अमावस्या 2017 – पितृकर्म अमावस्या 23 जून तो 24 को रहेगी शनि अमावस्या

आषाढ़ अमावस्या 201...

प्रत्येक मास में चंद्रमा की कलाएं घटती और बढ़ती रहती हैं। चंद्रमा की घटती बढ़ती कलाओं से ही प्रत्येक मास के दो पक्ष बनाये गये हैं। जिस पक्ष म...

और पढ़ें...
जगन्नाथ रथयात्रा 2017 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन...

और पढ़ें...
ईद - इंसानियत का पैगाम देता है ईद-उल-फ़ितर

ईद - इंसानियत का प...

भारत में ईद-उल-फ़ितर 26 जून 2017 को मनाया जाएगा। इस्लामी कैलेंडर के नौवें महीने को रमदान का महीना कहते हैं और इस महीने में अल्लाह के सभी बंदे...

और पढ़ें...