यहां होती है श्री कृष्ण के अत्याचारी मामा कंस की पूजा

कंस बहुत ही अत्याचारी और क्रूर था यह तो सभी जानते हैं। यह भी जानते हैं कि उसने सिंहासन पाने की खातिर अपने पिता तक को नहीं बख्शा। जिस बहन को वह अपने प्राणों से भी ज्यादा प्यार करता था उसी बहन को उसने आकाशवाणी के बाद (जिसमें देवकी की आठवीं संतान को उसकी मौत का कारण बताया था) जेल में डाल दिया था। वही कंस जिसके दुराचारों से मथुरा निवासियों को मुक्ति दिलाने के लिये स्वंय भगवान ने श्री कृष्ण का अवतार लिया और कंस का वध कर संसार को कंस के अत्याचार से मुक्त करवाया। क्या आप सोच सकते हैं कि ऐसे दुराचारी, पापी, अत्याचारी शासक की कोई पूजा कर सकता है। लेकिन आप यह देखकर हैरान हो जायेंगें कि ऐसी भी जगहें हैं जहां कंस की भी पूजा की जाती है। यह जानते हुए भी कि वह अन्यायी शासक था लोग सदियों से अपने पूर्वज़ों की परंपरा के अनुसार कंस की पूजा करते आ रहे हैं।

यह जगह कहीं और नहीं बल्कि अपने भारत में ही है। लखनऊ से हरदोई की ओर जाने वाले मार्ग पर एक गांव में दूर से ही आपको एक बड़ी मूर्ति दिखाई देगी। जब आप इसके नजदीक पंहुचते हैं तो आप यह देखकर हैरान हो सकते हैं कि यह मूर्ति किसी और की नहीं बल्कि भगवान श्री कृष्ण के अत्याचारी मामा कंस की है।

स्थानीय लोगों के अनुसार कई पीढ़ियों से उनके पूर्वज़ इस मूर्ति की पूजा करते आये हैं। उन्होंने कब कैसे इस परंपरा की शुरुआत की इसका कुछ भी वर्तमान पीढ़ी के लोगों को मालूम नहीं है। लेकिन अब अपने पूर्वज़ों की परंपरा को अपना फ़र्ज मानकर निभाते हैं।

हालांकि किसी दुराचारी, असुर या राक्षस या शासक की पूजा करने वाला यह अकेला गांव नहीं है कुछ स्थानों पर रामायण के खलनायक और वेदशास्त्रों के ज्ञाता माने जाने वाले महापंडित रावण की पूजा भी होती है। दुर्गा पूजा के दिनों में ही कुछ इलाकों में महिषासुर की पूजा भी की जाती है। इसलिये यह कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिये लोक परंपराओं में कई बार खलनायक भी नायक की तरह पूजे जाते हैं। 

अन्य लेख

कंस वध – कब और कैसे हुआ कंस का अंत   |   धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र   |   दानवीर कर्ण थे पूर्वजन्म के पापी, उन्हीं का मिला दंड

एस्ट्रो लेख

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜