Skip Navigation Links
कपिल शर्मा - किस ग्रह की पड़ रही है बुरी नज़र?


कपिल शर्मा - किस ग्रह की पड़ रही है बुरी नज़र?

कपिल शर्मा इस नाम से तो आप सभी परिचित हैं। कपिल शर्मा अपने कॉमेडी शो ही नहीं बल्कि सोशल मीडिया पर भी किसी न किसी कारण से अक्सर चर्चित होते रहते हैं। लेकिन आजकल वे कुछ ज्यादा ही विवादों में घिरे हुए हैं जिस कारण एक के बाद एक उनके शो ‘द कपिल शर्मा शो’ के सह कलाकार साथियों की ओर से उनका शो छोड़ने की खबरें आ रही हैं। खुद कपिल उर्फ कप्पू शर्मा के बाद सबसे प्रभावी कलाकार डॉ. मशहूर गुलाटी एवं रश्मि भाभी का किरदार निभाने वाले सुनील ग्रोवर हैं। खबरें आ रही हैं कि शो के सेट पर कपिल शर्मा द्वारा अपमानित होने के कारण सुनील ग्रोवर ने शो को बॉय बॉय कह दिया है। इतना ही नहीं उनके दोस्त चंदू उर्फ चंदन प्रभाकर ने भी शो छोड़ दिया है। नानी का किरदार निभाने वाले अली असगर द्वारा भी शो का बायकाट करने की खबरें गरम हैं। ऐसा क्या हो रहा है कपिल शर्मा के जीवन में कि एक-एक कर उनके सभी साथियों का उनसे मोहभंग हो रहा है। कौनसे योग बन रहे हैं कपिल शर्मा की कुंडली में। आइये जानते हैं क्या कहते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य उनकी कुंडली के बारे में।

नाम – कपिल शर्मा

जन्म स्थान – अमृतसर, पंजाब, भारत

जन्म तिथि – 2 अप्रैल 1981

जन्म समय – 4:30 प्रात:

उपरोक्त विवरण के अनुसार कपिल शर्मा की कुंडली कुंभ लग्न की बनती है। उनकी चंद्र राशि भी कुंभ है। लग्न व राशि के स्वामी शनि हैं। इनका जन्म शतभिषा नक्षत्र में हुआ है जिसके स्वामी राहू हैं। इस समय इन पर शनि की महादशा तो बुध की अंतर्दशा चल रही है।

किन कारणों से कपिल शर्मा बने द कपिल शर्मा

कपिल शर्मा की इस कुंडली को देखने से पता चलता है कि भाग्य व सुख-समृद्धि का कारक ग्रह शुक्र बना हुआ है जो कि उच्च का है। उच्च शुक्र के साथ ही कर्मेश मंगल भी विराजमान हैं। इन्हीं का योग इनकी कुंडली में धन, ऐश्वर्य के योग बन रहे हैं। धन स्थान को ही वाणी का स्थान भी माना जाता है अत: शुक्र व मंगल की इनकी वाणी पर भी विशेष कृपा है। इतना ही नहीं ख्याति दिलाने के कारक ग्रह सूर्य भी इनके साथ विराजमान हैं जिनके कारण यह छोटे से स्तर से शुरुआत कर इस बड़े मुकाम को हासिल कर सके हैं। लग्न के चंद्रमा व बुध भी इनके लिये अभिनय क्षेत्र में प्रसिद्धि दिलाने वाले योग बनाते हैं इन्हीं के कारण 28 वर्ष से 32 वर्ष के बीच इनका भाग्योदय विशेष रूप से हुआ है।

इन पर दशा की बात की जाये तो 1996 से बृहस्पति की महादशा चल रही थी जो कि 2012 में समाप्त हुई है इसी के कारण जाते हुए बृहस्पति का भी इन्हें विशेष लाभ प्राप्त हुआ और इनकी सफलता का मार्ग प्रशस्त हुआ। बृहस्पति के पश्चात इन पर लग्न व राशि स्वामी की महादशा चल रही है जिसके कारण इन्हें धन की प्राप्ति होने लगी व जीवन में सुख-समृद्धि बढ़ने लगी।

कपिल शर्मा के सामने क्यों आ रही हैं परेशानियां

कपिल शर्मा शतभिषा नक्षत्र में जन्मे जातक हैं। इस नक्षत्र में जन्मे जातक कर्मठ, साहसी एवं बोलने में चतुर तो होते हैं लेकिन दुर्व्यसनों में लिप्त होने की संभावनाएं बनी रहती हैं। कला प्रेमी होने के साथ-साथ बिना विचार कर काम करने वाले भी इस नक्षत्र में जन्में जातक होते हैं। इनका स्वभाव बहुत ही आवेशी होता है। इनके क्रोध को तूफानी क्रोध भी कहा जा सकता है जो कि एक दम से आता है और अचानक ही शांत भी हो जाता है।

शनि की महादशा में बुध चल रहा है जिसका इनकी पत्रिका में गहरा संबंध है। लग्नेश इनके लिये अष्टमेश में बैठा है और अष्टमेश लग्न में। इससे इनके स्वास्थ्य में हानि की संभावनाएं तो हैं ही साथ ही अनेक तरह की परेशानियां भी ऐसी दशा जातक के जीवन में लाती है। इस दशा के कारण जातक वाद-विवाद में घिरा रहता है। कोर्ट कचहरी के चक्कर भी लगाने पड़ सकते है। कपिल शर्मा के साथी कलाकारों के साथ बढ़ते विवादों के पिछे भी यह दशा कार्य कर रही है। नक्षत्र स्वामी राहू वर्तमान में इनकी राशि से छठे घर में यानि शत्रु भाव में विराजमान हैं जो कि किसी न किसी व्यस्न के कारण इनसे गलतियां करवा रहा है। हालांकि इससे इन्हें लोकप्रियता भी मिलती है लेकिन यह इनके भविष्य के लिये शुभ संकेत नहीं है।

राहू सिखाने का काम भी करता है। कुंभ जो कि सुधारक राशि मानी जाती है। राहू के प्रभाव से व्यक्ति गंभीरता और संयम के साथ पुन: लक्ष्य की ओर अग्रसर भी होता है।

2 अप्रैल को कपिल शर्मा का जन्मदिन, कैसा रहेगा आने वाला वर्ष

जन्म के वर्षफल से देखा जाये तो वर्ष कुंडली में विवाह के योग बन रहे हैं। पत्नी के आने से भाग्य में शुभ लक्षण भी दिखाई देते हैं। वर्ष कुंडली में मुंथा भी कुंभ की है जो कि बहुत ही शुभ कही जा सकती है। इससे इनके मैत्री संबंधों में पुन: मधुरता आने की संभावनाएं भी बलवती हो रही हैं। हालांकि 2017 के वर्षांत पर शारीरिक रूप से कुछ कष्ट भी इन्हें झेलने पड़ सकते हैं। संपत्ति को लेकर किसी विवाद में फंसने से इन्हें इसमें हानि भी आने वाले समय में उठानी पड़ सकती है। 

कहीं आपकी कुंडली में भी किसी ग्रह की नज़र तो नहीं लगी? जानने के लिये आज परामर्श करें भारत के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

संबंधित लेख

योगी आदित्यनाथ - कुंडली में हैं कौनसे योग?   |   वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा   |   2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

नरेंद्र मोदी 2017 - कैसा रहेगा नया साल प्रधानमंत्री मोदी के लिये   |   सलमान खान – कैसा रहेगा भाई जान के लिये साल 2017   |  




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शनि प्रदोष - जानें प्रदोष व्रत की कथा व पूजा विधि

शनि प्रदोष - जानें...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक मास में कोई न कोई व्रत, त्यौहार अवश्य पड़ता है। दिनों के अनुसार देवताओं की पूजा होती है तो तिथियों के अनुसार भी व्रत उपवास रखे जाते ह...

और पढ़ें...
पद्मिनी एकादशी – जानिए कमला एकादशी का महत्व व व्रत कथा के बारे में

पद्मिनी एकादशी – ज...

कमला एकादशी, अधिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पद्मिनी एकादशी कहलाती है। इसे कमला एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू धर्म में व्रत व त्यौहारों की बड़ी मान्यता है। सप्ताह का...

और पढ़ें...
वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

वृषभ राशि में बुध ...

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना मान...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...