तुला राशि में मंगल – किसके लिये मंगल किसका करेंगें अमंगल?

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थितियां ऐसी भी होती हैं जिनमें मंगल को अमंगल के लिये जाना जाता है। इस कारण ज्योतिषशास्त्र में मंगल की प्रत्येक गतिविधि काफी मायने रखती है। 10 नवंबर 2019 को अपराह्न 02 बजकर 49 मिनट पर मंगल का परिवर्तन कन्या राशि से तुला में हो रहा है जहां बुध पहले से ही  वक्री होक बैठे हैं। मंगल और बुध का साथ आपके हालात कैसे बदलेगा आइये जानते हैं।

 

मेष -  मंगल का गोचर होना आपके लिए ठीक संकेत नहीं दे रहा है। यह आपको सक्रिय, साहसी और निर्भीक बनाएगा, लेकिन आप सावधान रहें। सावधानी आपको अपने परिवार के सदस्यों से साथ बातचीत में रखना है। कठोर शब्द परिवार या व्यवसाय में संघर्ष पैदा करा सकते हैं। इस गोचर से कानूनी संघर्ष और मुकदमों का भी सिलसिला शुरू हो सकता है। इसका लाभ हो सकता है। लेकिन आपको अपने ऊपर नियंत्रण रखना होगा। संबंधों को सुचारू रखने के लिए आपको साथी के साथ उदार व धैर्य से रहना होगा।

 

वृषभ – मंगल गोचर आपके सेहत और शत्रु गृह को प्रभावित करने वाला है। इस समय चीजों को पाने के लिए आपको कड़ी मेहनत करना होगा। आपको एक टीम में काम करने के लिए अपने अहंकार को अलग रखना होगा। चिकित्सा और यात्रा पर खर्च हो सकता है। ऐसी शारीरिक गतिविधि से बचें जो आपके सेहत के लिए अच्छा न हो। इस समय आपको अपने छिपे हुए शत्रु से सतर्क रहने की आवश्यकता रहेगी। आपके विरोधी कार्य में बाधा डालने का प्रयास कर सकते हैं।

 

मिथुन – मंगल आपको प्यार, स्नेह, रिश्ते और रचनात्मकता का आशीर्वाद देने वाला है। इस गोचर से आपके रिश्तों को मजबूती मिलेगी। इसके साथ ही आप कुछ नए रिश्ते बना सकते हैं। आपके विचारों की सराहना की जाएगी और उन पर काम करने के लिए लोगों को प्रेरित कर सकते हैं। किसी भी प्रतियोगिता को जीतने के लिए यह एक अच्छा समय है। स्वास्थ्य ठीक होने का भी संकेत मिल रहा है।

 

कर्क - कर्क राशि के लिए मंगल एक शुभ ग्रह है। यह सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने वाला है। आपको अपने रिश्ते, व्यवसाय व पेशे में आपको सकारात्मक परिणाम मिलेगा। करियर में नए अवसर मिलेंगे। नई नौकरी ज्वाइन करने लिए भी अच्छा समय है। मंगल का गोचर आपके नाम व प्रतिष्ठा में बढ़ोतरी करेगा। प्रॉपर्टी से जुड़े काम भी पूरे हो सकते हैं।

 

सिंह - मंगल गोचर से आपके मानसिक स्थिति में सुधार होगा। यानी की आपका मानसिक तनाव कम होगा। जिससे आप बौद्धिक कार्यों में सामान्य से अधिक समय तक काम कर सकेंगे। यह अपने विचारों को दूसरों को बेचने का एक अच्छा समय है, यदि आप एक मार्केटिंग पेशे में हैं। तो समय का लाभ आपको उठाना चाहिए। इसके साथ ही अगर कोई आपसे असहमत है तो आपको प्रयास करना चाहिए आपको सफलता मिल सकती है। सेहत पर ध्यान दें।

 

कन्या -  मंगल गोचर आपके लिए अप्रत्याशित वित्तीय लाभ करवाने वाला होगा लेकिन इसके साथ ही आप खर्च भी करेंगे। रिश्तों में सामंजस्य बनाए रखने के लिए धैर्य और दया की भवना का होना मायने रखता है। इसलिए धैर्य व उदार रहें। संपत्ति से संबंधित भाई-बहनों से विवाद हो सकता है परंतु धैर्य व उदारता से काम करने पर अच्छे परिणाम मिल सकते हैं। सरकारी दस्तावेजों को अपडेट रखें ताकि आप किसी भी तरह के समस्या से बच सकें। वित्तीय मुद्दे व्यवसायियों को मानसिक तनाव दे सकते हैं।

 

तुला – मंगल गोचर आपके ही राशि में हो रहा है। जिससे आपकी शारीरिक ऊर्जा का स्तर काफी अधिक रहेगा और आप इस दौरान बहुत काम करेंगे। जो आपको लाभ करवाएगा। इसके साथ ही आपकी बातों का असर परिवार पर अधिक पड़ेगा। परंतु कुछ सदस्यों को आपकी बात पसंद नहीं आएगी। आपको कार्यालय की राजनीति से दूर रहना होगा। अन्यथा आप अपने लिए समस्याएं खड़ी कर लेंगे। ऊर्जा और संचार में संतुलन बनाने की आवश्यकता है।

 

वृश्चिक – मंगल गोचर आपके कुंडली के सातवें भाव में होने वाला है जहां बुध वक्री होतक पहले से ही विराजनाम है। मंगल का गोचर आपके संबंधों में थोड़ा तनाव ला सकता है। साथी के साथ तनाव बढ़ने के आसार नजर आ रहे हैं। इसके साथ ही आपको अपने संचार और कार्यों के प्रति चौकस रहना होगा। परंतु आपके व्यापार के लि यह एक अनुकूल अवधि है। आप व्यापारिक यात्रा कर सकते हैं। विदेशी देश से नए प्रोजेक्ट या अवसर प्राप्त हो सकते हैं।

 

धनु – मंगल गोचर आपके लक्ष्यों को तैयार करने और उन्हें सक्रिय रूप से आगे बढ़ाने आपकी सहायता करेगा। परंतु आपको वित्तीय प्रलोभनों से बचना होगा। अन्यथा आपको इससे हानि का सामना करना पड़ सकता है। घर में कोई शुभ समारोह हो सकता है। नया रिश्ता बना सकते हैं और आप आनंद का अनुभव कर सकते हैं।

 

मकर – मंगल आपके कर्म भाव से गोचर करने जा रहे हैं। जिसका असर आपके कार्य व करियर पर पड़ सकता है। इसलिए आपको इसके प्रभाव मिलने वाले परिणाम के लिए तैयार रहना चाहिए। इसके साथ ही आप अपने कार्य के प्रति सचेत रहें तो आपके लिए यह अच्छा होगा। पारीवारिक संबंध में उतार-चढ़ाव आ सकता है। आप कानूनी या सरकारी कामों पर धन खर्च कर सकते हैं। मामला पूरा होने तक दस्तावेजों का खुलासा न करें। तो आपके लिए अच्छा होगा।

 

कुंभ – मंगल का गोचर आपके लिए धर्म कर्मदिपति योग बना रहा है जो आपको परोपकारी परिणाम देने वाला है। भाग्य और करियर हाउस के स्वामी के आदान-प्रदान से अच्छे अवसर मिलेंगे। यह संपत्ति खरीदने के लिए एक सहायक अवधि है। विदेश विश्वविद्यालय में प्रवेश, विदेश यात्रा का भी संकेत मिल रहा है। प्रेम और संबंध समृद्ध होंगे। परिवार में सब ठीक होगा।

 

मीन – मंगल भाग्य घर का स्वामी है जो बाधाओं के घर से गोचर करने वाला है। काम में देरी होने का संकेत है। परंतु कार्य होगा। जिसका लाभ भी मिलेगा। अप्रत्याशित चिकित्सा खर्च हो सकता है। इसके साथ ही वित्त संबंधी निर्णय लेने से पहले विचार करें। रिश्ते में विचारों का अंतर दूसरों को मौका दे सकता है। जिससे गलतफहमी पैदा हो सकती है। धैर्य से काम करें।

 

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। अपनी कुंडली के अनुसार मंगल व नीच शुक्र की युति आपको किस तरह प्रभावित करेगी जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

मंगल दोष - जानें कुंडली में मंगल दोष निवारण के उपाय   |   मूंगा रत्न – मंगल की पीड़ा को हर लेता है मूंगा   |   युद्ध देवता मंगल का कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा

एस्ट्रो लेख

उत्पन्ना एकादशी...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। ले...

और पढ़ें ➜

वृश्चिक सक्रांत...

17 नवंबर 2019 को पूर्वाह्न 01 बजकर 08 मिनट पर  ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प...

और पढ़ें ➜

21 नवंबर को धनु...

आगामी 21 नवंबर 2019 को धनु राशि में एक साथ 4 ग्रह एकत्र होने जा रहे हैं, जिसकी वजह से चतुर्ग्रही योग बन रहा है। दरअसल 21 नवंबर को शुक्र का धनु में गोचर और शनि, केतु औऱ बृहस्पति के ...

और पढ़ें ➜

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜