Skip Navigation Links
मंगल राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?


मंगल राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?

ज्योतिष में मंगल को वैसे तो पाप ग्रह माना जाता है। लेकिन शुभ कार्यों के लिये, जीवन में उन्नति के लिये मंगल का मंगलकारी होना भी जरुरी है। ऊर्जा के कारक मंगल हैं इसलिये ऊर्जा का सकारात्मक व नकारात्मक उपयोग भी मंगल के शुभाशुभ होने पर निर्भर करता है। मंगल की प्रत्येक गतिविधि ज्योतिषीय दृष्टि से महत्वपूर्ण होती है। 17 जनवरी 2018 को मंगल तुला से राशि से परिवर्तन कर स्वराशि वृश्चिक में गोचररत हो रहे हैं। ऐसे में मंगल का यह परिवर्तन आपके लिये क्या लेकर आ रहा है। आइये जानते हैं क्या होगा असर आपकी राशि पर।

मेष

मंगल आपकी राशि के स्वामी हैं जो कि आपकी राशि से आठवें स्थान में स्वराशिगत हो रहे हैं। अष्टम मंगल वैसे भी शुभ फलदायी माने जाते हैं। यह समय आपके लिये नाम व शोहरत पाने के लिहाज से बहुत ही सौभाग्यशाली कहा जा सकता है। रोमांटिक जीवन में भी साथी या जीवनसाथी के साथ कोई गलतफहमी चल रही है तो वह दूर होने के आसार हैं। आपके घरेलु जीवन की परेशानियां भी कम होने की संभावना है। हालांकि इस समय आपको अपनी सेहत पर थोड़ा ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी।

वृष

वृषभ राशि वालों के लिये मंगल सप्तम भाव में आ रहे हैं। दांपत्य जीवन में आपको थोड़ा संभलकर रहने की आवश्यकता रहेगी। जितना संभव हो साथी के साथ किसी तरह से भी वाद-विवाद में न पड़ें, न ही कोई ऐसी बात अपने मुख से कहें जिससे उनकी भावनाओं को ठेस पंहुचे। अविवाहित प्रेमी जातकों में भी मनमुटाव होने के आसार हैं। स्वास्थ्य की बात करें तो यहां भी आपको संभल कर रहने की सलाह दी जाती है। विशेषकर उदर संबंधि समस्या से दो चार होना पड़ सकता है। कोई छोटी मोटी सर्जरी भी हो सकती है। हालांकि कामकाजी जीवन में मंगल आपके लिये कल्याणकारी हैं यह समय आपके करियर के लिये काफी अच्छा रहने के आसार हैं।

मिथुन

आपकी राशि से मंगल का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है। रोग व शत्रु घर में मंगल आपके लिये मिले जुले परिणाम लेकर आ सकते हैं। एक और व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक जीवन में जहां आप अपने प्रतिस्पर्धियों, अपने प्रतिद्वंदियों, अपने शत्रुओं से मिली चुनौतियों का डटकर मुकाबला करने में सक्षम हो सकते हैं वहीं दूसरी ओर आपको रक्त संबंधी बिमारियों से सचेत रहने की आवश्यकता भी होगी। ऐसा कोई जोखिम न उठाएं जिसमें रक्त संबंधी बिमारी का ख़तरा हो।

कर्क

आपकी राशि से मंगल पंचम भाव में आ रहे हैं। शिक्षा, संतान व प्रेम कारक भाव में मंगल आपके लिये सकारात्मक परिणाम मिलने के संकेत कर रहे हैं। साथ ही कर्मभाव के कारक होने की वजह से कार्यक्षेत्र में उन्नति के योग मंगल बना रहे हैं। जो जातक नई नौकरी की तलाश में हैं उन्हें उचित अवसर मिल सकता है। हालांकि संपत्ति संबंधी लेन-देन के मामलों में आपको निर्णय लेने में दिक्कत आ सकती है। कोई छोटी मोटी यात्रा भी आपको करनी पड़ सकती है।

सिंह

आपकी राशि से मंगल चतुर्थ स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। मंगल का यह परिवर्तन आपके लिये मिले जुले परिणाम लेकर आ सकता है। व्यक्तिगत जीवन में जहां समय आपके लिये उत्साहित नहीं कहा जा सकता वहीं व्यावसायिक जीवन में यह आपके लिये शानदार रहने के आसार हैं। इस समय आपके स्वभाव में क्रोध थोड़ा अधिक हो सकता है। वहीं माता के स्वास्थ्य को लेकर भी आप परेशान हो सकते हैं। दांपत्य जीवन में जीवनसाथी से मनमुटाव हो सकते हैं। वहीं कार्यक्षेत्र की बात करें तो कार्योन्नति के संकेत हैं साथ ही लाभ प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं।

कन्या

कन्या राशि वालों के लिये मंगल का परिवर्तन तीसरे घर में होगा। यह समय आपके लिये अपनी कार्यक्षमता दिखाने के अवसर लेकर आ सकता है। इस समय आप अपने प्रतिद्वदियों द्वारा दी गई चुनौतियों का मुंह तोड़ जवाब दे सकते हैं। भाग्य का भी आपको पूरा साथ मिलेगा। कार्यक्षेत्र की बात करें तो यह परिवर्तन आपके लिये लाभ के नये अवसर प्राप्त होने के संकेत कर रहा है। यदि गत दिनों आपने किसी परियोजना में निवेश किया है तो इस समय आपको उससे लाभ प्राप्त हो सकता है।

तुला

आपकी राशि से ही मंगल परिवर्तन कर दूसरे भाव में स्वराशिगत हो रहे हैं। धन के मामले में यह परिवर्तन आपके लिये लाभकारी संकेत कर रहा है। संतान व शिक्षा को लेकर भी आप संतुष्ट रह सकते हैं। विद्यार्थियों के लिये समय अनुकूल रहने के आसार हैं। शिक्षा या करियर को लेकर जो जातक विदेश जाने के लिये प्रयासरत हैं उन्हें आगे बढ़ने के लिये हरी झंडी मिल सकती है। रोमांटिक जीवन में साथी का भरपूर सहयोग आपको मिल सकता है। विवाहित जातकों का दांपत्य जीवन भी अच्छा रहने के आसार हैं। हालांकि स्वास्थ्य के प्रति आपको सचेत रहने की आवश्यकता है विशेषकर मानसिक तौर पर तनाव से बचने का प्रयास करें। नेत्र संबंधी समस्याओं के प्रति भी सावधानी बरतें।

वृश्चिक

राशि स्वामी मंगल का प्रवेश आपकी ही राशि में हो रहा है। मंगल के आपकी राशि में आने से आप अपने स्वभाव में आक्रामता महसूस कर सकते हैं। क्रोधित होने से बचने का प्रयास करें। यह समय आपकी सुख सुविधाओं में वृद्धि करने वाला है। आपके स्वभाव में आये इस बदलाव से पारिवारिक जीवन में तनाव महसूस कर सकते हैं। यात्रा के दौरान सावधानी बरतें। यदि वाहन स्वयं चला रहे हैं तो विशेष रुप से सावधानी रखें।

धनु

आपकी राशि से मंगल का प्रवेश 12वें स्थान में हो रहा है। आपके लिये धन निवेश करने के लिहाज से यह समय अच्छा कहा जा सकता है। अपने आवेश को काबू में रखने का प्रयास करें। आक्रामक होने की भी आपको आवश्यकता नहीं है। पराक्रम क्षेत्र में आपके लिये यह वृद्धि का समय है। इस समय आपको अपने प्रतिद्वंदियों पर विजय प्राप्त होगी। विशेषकर प्रतियोगी परीक्षा एवं साक्षात्कार में शामिल होने वाले जातकों को लाभ हो सकता है। रोमांटिक जीवन में थोड़ा संभलकर रहें। साथी के साथ मनमुटाव बढ़ सकता है।

मकर

आपकी राशि से मंगल लाभ घर में गोचर कर रहे हैं। लाभघर में मंगल का स्वराशिगत होना आपके लिये लाभ के नये अवसर लेकर आ सकता है। यही समय है जब आप अपनी बचत में वृद्धि कर सकते हैं। संतान पक्ष से आपके संबंध मधुर रहने के आसार हैं। इस समय आप अपने विरोधियों को करारा जवाब देने में समर्थ रह सकते हैं। व्यावसायिक प्रतिद्वदियों पर भी हावि रह सकते हैं।

कुंभ

आपकी राशि से मंगल कर्मभाव में स्वराशिगत हो रहे हैं। मंगल का यह राशि परिवर्तन आपके लिये कार्योन्नति के संकेत कर रहा है। जो जातक अपना खुद का व्यवसाय आरंभ करना चाहते हैं उनके लिये भी यह समय सकारात्मक रहने के आसार हैं। प्रतियोगी परीक्षा व साक्षात्कार देने वालों के लिये भी सफलता के योग बन रहे हैं। शिक्षार्थियों के लिये भी समय अनुकूल है। स्वास्थ्य बेहतर रहने के आसार हैं। जीवनसाथी व संतान से संबंध अच्छे रहेंगें। हालांकि पिता से आपका मनमुटाव हो सकता है, माता के स्वास्थ्य को लेकर भी चिंतित हो सकते हैं।

मीन

आपकी राशि से मंगल भाग्य स्थान में आ रहे हैं। मंगल का यह परिवर्तन आपके लिये भाग्योदय होने के संकेत कर रहा है। यदि लंबे समय से मकान आदि की खरीददारी का विचार बना रहे हैं तो प्रयास सफल हो सकते हैं। पराक्रम क्षेत्र में आपको भाग्य का पूर्ण साथ व लाभ मिलने के आसार हैं। भाई बहनों का भी सहयोग आपको मिल सकता है। भौतिक सुख साधनों में वृद्धि हो सकती है। कुल मिलाकर यह समय आपके लिये काफी अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं। 

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। अपनी कुंडली के अनुसार मंगल व नीच शुक्र की युति आपको किस तरह प्रभावित करेगी जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

मंगल दोष - जानें कुंडली में मंगल दोष निवारण के उपाय   |   मूंगा रत्न – मंगल की पीड़ा को हर लेता है मूंगा   |   युद्ध देवता मंगल का कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...