नवाजुद्दीन सिद्दीकी - कैसे बने एक्टर? क्या कहती है इनकी कुंडली?

उत्तरप्रदेश के बुधाना में जन्मे नवाजुद्दीन सिद्दीकी का प्रारंभिक जीवन अभाव में बीता। नवाज को लेकर उनके कुल नौं भाई-बहन हैं। ग्रेजुएशन करने के बाद नवाज ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में दाखिला लिया। शिक्षा ग्रहण करने के बाद नवाज करियर बनाने मुंबई आ गए। अपनी फिल्मी करियर की शुरूआत नवाज ने 1999 में अमिर खान की फिल्म सरफरोश से किया। शूल, जंगल तथा राजकुमार हिरानी के निर्देशन में 2003 में बनी फिल्म मुन्ना भाई एमबीबीएस में भी अभिनय किया। परंतु कुछ सफलता हाथ न लगी। जिससे इनके पास काम ना के बाराबर था। 2004 से 2009 तक नवाज अपनी जिदगी गुमनामी में जिये। 2009 में इमोशनल अत्याचार गाने में एक रंगीला का किदार निभाया। लेकिन 2010 में अनुषा रिजवी की निर्देशन में बनी फिल्म पीपली लाइव ने नवाजुद्दीन की जिदगी बदल दी। इस फिल्म में नवाज ने एक पत्रकार की भूमिका निभाई। जिसे फिल्म समीक्षकों ने खूब सराहा। इसके बाद नवाज सफलता की सीढ़ी चढ़ते गए। नवाज ने किक, मांझी द माउंटेन मेन, बदलापुर, रईस, मॉम, सीक्रेट गेम, मंटो तथा ठाकरे में अपने अभिनय का लोहा मनवाया। आगामी 19 मई को नवाजुद्दीन सिद्दीकी का जन्मदिन है। इसी के चलते एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर ने इनकी कुंडली का आकलन कर यह साल इनका कैसा रहने वाला है इसके कुछ संकेत दिए हैं जिसे हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं।

नाम – नवाजुद्दीन सिद्दीकी

जन्म दिनांक – 19 मई 1974

जन्म समय – 14:00

जन्म स्थान – बुधाना (उत्तरप्रदेश)

नवाजुद्दीन सिद्दीकी का जन्म सिंह लग्न, वृश्चिक राशि व जेष्ठा नक्षत्र के चौथे चरण में हुआ है। जिसके चलते इनका व्यक्तित्व आकर्षक तथा इनमें भरपूर ऊर्जा है और ये उदार स्वभाव के हैं। वर्तमान में नवाज पर मंगल की महादशा चल रही है। जो 2024 तक रहने वाली है। अंतरदशा में राहु चल रहा है जो जून 2019 तक तथा प्रत्यंतर दशा में चंद्रमा 10 मई 2019 तक रहने वाला है। सिंह लग्न के जातक अपने जीवन में सदैव अग्रसर रहते हैं। एक बार जिस कार्य को करने की ठान ले तो उसे कर के ही दम लेते हैं। नवाज की कुंडली में सूर्य भी उच्च का होकर भाग्य स्थान में बैठा है जो भाग्य में वृद्धि का कारक बन रहा है। जीवन में उतार-चढ़ाव के बाद सफलता का योग बनता है। मानसिक चिंताओं का दौर भी जून माह तक रहने की संभावना दिखाई दे रही है। जून के बाद नवाज का अच्छा समय शुरू हो रहा है। जिससे सफलताएं मिलेंगी, रूके हुए काम बनेंगे और धन वृद्धि का योग बनेगा।

यह भी पढ़े - माधुरी दीक्षित जन्मदिन विशेष - धक धक गर्ल के लिये कैसा रहेगा आने वाला साल?

बात करें नवाजुद्दीन के कार्यक्षेत्र कि तो इस क्षेत्र का स्वामी शुक्र कुंडली में उच्च का होकर अष्टम भाव में बैठा है जो धन व सुख संबंधी चीजें तो देगा लेकिन स्वास्थ्य समस्याएं भी खड़ी करेगा और नवाजुद्दीन के लिए चर्म से जुड़े हुए रोगों का कारक बनेगा। धन-संपदा के लिए इनके ग्रह इनका साथ दे रहे हैं लेकिन इस वर्ष किसी के द्वारा इन पर लांछन लगने का योग भी बन रहा है। कोर्ट- कचहरी के चक्कर काटने पड़ सकते हैं। कुंडली में इनके सुख के घर में चंद्र ग्रहण योग बन रहा है जो समय-समय पर सुख में कमी लाने का काम करेगा। नवाज के कुंडली में दो ग्रहों का उच्च का होने से इन्हें सफलता तो मिलती है परंतु तीन ग्रहों के नीच का होने से इसमें ग्रहण लग जाता है।

क्या है आपकी कुंडली में चंद्र ग्रहण योग? परामर्श करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

बात करें प्रेम व रोमांस कि तो यह साल इस पहलू के लिए उतार-चढ़ाव भरा रहने की संभावना अधिक है। विचारों में मतभेद व प्रिय व इनके बीच समय-समय पर तकलीफें भी आती रहेंगी। नवाज के इस वर्ष की कुंडली में मंगल का लग्न का स्वामी होकर तीसरे घर यानी की पराक्रम के स्थान में बैठना, इनके पराक्रम को बढ़ायेगा साथ ही करियर को भी चमकायेगा। कुंडली में सूर्य का उच्च का होकर मृत अवस्था में बैठना आत्मबल, आत्मविश्वास और ऊर्जा में कमी लाएगा। धन का कारक बुध भी केंद्र में होकर बैठा है जो एक अच्छा योग तो बना रहा है लेकिन अस्त व मृत अवस्था में होने के कारण धन में कमी व वाणी में विरोधाभास कराने वाला बन जाता है। बुध वाणी का कारक होकर मृत अवस्था में बैठा है। जिससे जातक बोलने में असहज हो जाते हैं। वाणी कहीं-कहीं पर साथ नहीं देती है। जिसके कारण मन में हीन भावना का भी आभास होता है। नवाजुद्दीन सिद्दीकी का साल देखा जाए तो थोड़ा उतार-चढ़ाव भरा रहने वाला है।

एस्ट्रो लेख

शुक्र का सिंह र...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति में भी बदलाव आता ह...

और पढ़ें ➜

विदेश जाने का य...

क्या आपको पता है कि आपके विदेश जाने राज आपके हथेली में छुपा है? क्या आप इस बात को मानते है कि हमारे हथेलियों की लकीर में छिपा है हमारे किस्मत का राज? यदि जवाब हां में है तो ठीक यदि...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद - भादों...

हिन्दू पंचांग के अनुसार साल के छठे महीने को भाद्रपद अथवा भादों का महीना कहा जाता है। ये श्रावण माह के बाद और आश्विन माह से पहले आता है। सावन शंकर का महीना है तो भादों श्रीकृष्ण का ...

और पढ़ें ➜

भाई की सुख समृद...

हिंदू धर्म में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराएं विद्यमान है। दुनियाभर में भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है, यहां आए दिन कोई न कोई पर्व मनाया जाता है। वहीं किसी भी तीज-त्योहार क...

और पढ़ें ➜