Skip Navigation Links
पंचक विचार – जानें किस वार से शुरु होता है कौनसा पंचक क्या होता है प्रभाव?


पंचक विचार – जानें किस वार से शुरु होता है कौनसा पंचक क्या होता है प्रभाव?

पंचक कुछ विशेष स्थितियों में बनते हैं वर्ष में कई बार पंचक बनते हैं। पंचक पर क्या विचार कर रहे हैं पंडित मनोज कुमार द्विवेदी। आइये जानते हैं।


क्या होता है पंचक?

भारतीय ज्योतिष के अनुसार जब चन्द्रमा कुंभ राशि और मीन राशि पर रहता है तो उस समय को पंचक कहते हैं। धनिष्ठा से रेवती तक जो पाँच नक्षत्र (धनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वाभाद्रपद, उत्तराभाद्रपद एवं रेवती) होते हैं उन्हें पंचक कहा जाता है।


किस वार से शुरु होने वाले पंचक में क्या होगा प्रभाव?

भारतीय ज्योतिष में पंचक को अशुभ माना जाता है अतः पंचक में कुछ कार्य विशेष नहीं किये जाते है आइये जानते हैं किस वार शुरू होने वाले पंचक में क्या प्रभाव होता है।

रविवार

अगर पंचक प्रारम्भ रविवार से हो रहा है तो यह रोग पंचक कहलाता है इसके प्रभाव में आकर व्यक्ति शारारिक और मानसिक परेशानियों का सामना करता है। इस दिन किसी भी प्रकार का शुभ कार्य का निषेध माना गया है।

सोमवार

सोमवार से शुरू पंचक को राजपंचक कहा जाता है यह पंचक काफी शुभ माना जाता है ऐसी मान्यता है कि इस दौरान सरकारी कार्यों में सफलता हासिल होती है और बिना किसी बाधा के संपत्ति से जुड़े मसलों का निदान होता है।

मंगलवार

मंगलवार से शुरू पंचक को अग्नि पंचक कहा जाता है।

यह पंचक अशुभ माना जाता है ऐसी मान्यता है कि इस दिन औजारों की खरीददारी, निर्माण, मशीनरी का कार्य नहीं करना चाहिए।

बुधवार और बृहस्पतिवार

पंचक यदि बुधवार और बृहस्पतिवार से शुरू हो रहे हैं तो उन्हें ज्यादा अशुभ नहीं माना जाता है, पंचक के मुख्य निशेध कार्यों को छोड़कर कोई भी कार्य किया जा सकता है।

शुक्रवार

शुक्रवार से शुरू होने वाले पंचक को चोर पंचक कहा जाता है इस दौरान यात्रा नहीं करनी चाहिए अन्यथा सामान चोरी और धनहानि की सम्भावना रहती है।

शनिवार

शनिवार से शुरू होने वाले पंचक सबसे ज्यादा अशुभ होते हैं इस पंचक को मृत्यु पंचक कहा जाता है ऐसी मान्यता है कि इस दिन जोखिम भरे कार्य नहीं करना चाहिए अन्यथा व्यक्ति को मृत्यु तुल्य कष्टों का सामना करना पड़ता है।

पाँच दिनों का यह समय, वर्ष में कई बार आता है इसलिए सामान्य जन को यह अवश्य ध्यान रखना चाहिए कि कौनसा जरूरी कार्य इन पाँच दिनों में सम्पन्न किया जाये और कौनसा कार्य इन पाँच दिनों में सम्पन्न न किया जाये तो बेहतर रहेगा।

पं. मनोज कुमार द्विवेदी से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |   चंद्र ग्रहण 2018   |   सूर्य ग्रहण कैसे करेगा आपकी राशि को प्रभावित   |  

 कुंडली में कालसर्प दोष और इसके निदान के सरल उपाय   |   मंगल ग्रह एवम् विवाह   |   जानिए राहू परिवर्तन कैसे करेगा आपको प्रभावित   |   

दान सबसे बड़ा धर्म




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शरद पूर्णिमा 2018 – शरद पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि

शरद पूर्णिमा 2018 ...

पूर्णिमा तिथि हिंदू धर्म में एक खास स्थान रखती है। प्रत्येक मास की पूर्णिमा का अपना अलग महत्व होता है। लेकिन कुछ पूर्णिमा बहुत ही श्रेष्ठ मानी जाती हैं। अश्विन माह क...

और पढ़ें...
वाल्मीकि जयंती 2018 - महर्षि वाल्मीकि विश्व विख्यात ‘रामायण` के रचयिता

वाल्मीकि जयंती 201...

हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन मास की शरद पूर्णिमा की तिथि पर महर्षि वाल्मीकि का जन्मदिवस ‘वाल्मीकि जयंती` के नाम से मनाया जाता है| वर्ष 2018 में वाल्मीकि जयंती 24 अ...

और पढ़ें...
बुध ग्रह राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?

बुध ग्रह राशि परिव...

ज्ञान के कारक बुध ज्योतिषशास्त्र में खास मायने रखते हैं। सूर्य के लगभग साथ-साथ गोचर करने वाले बुध लेखन, प्रकाशन, लेखे-जोखे पर नज़र रखने वाले माने जाते हैं। ज्योतिषाच...

और पढ़ें...
पूर्णिमा 2018 – कब है पूर्णिमा व्रत तिथि

पूर्णिमा 2018 – कब...

पूर्णिमा हिंदू कैलेंडर अर्थात पंचांग की बहुत ही खास तिथि होती है। धार्मिक रूप से पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। दरअसल पंचांग में तिथियों का निर्धारण चंद्र...

और पढ़ें...
गुरु गोचर 2018-19 : मंगल की राशि में गुरु, इन राशियों के अच्छे दिन शुरु!

गुरु गोचर 2018-19 ...

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर 2018-19 - देव गुरु बृहस्पति 11 अक्तूबर को लगभग 7 बजकर 20 मिनट पर राशि परिवर्तन कर रहे हैं। गुरु का गोचर ज्योतिषशास्त्र में बहुत महत्वपू...

और पढ़ें...