जानें पन्ना के चमत्कारी विकल्प रत्न के बारे में

ज्योतिष में कई रत्नों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है। सभी ग्रह-राशि और नक्षत्र के लिए रत्नों को निर्धारित किया गया है। जिसे धारण करने से इसके सकारात्मक प्रभाव मिलते हैं। बात यदि राशि रत्नों की जाए तो इस ज्योतिषीय उपाय का उपयोग आदिकाल से ही किया जा रहा है। वैदिक ज्योतिष में हर ग्रह के लिए उनके प्रभाव व व्यवहार को ध्यान रखते हुए इनके लिए रत्नों को निर्धारित किया है। इसी में से हैं एक रत्न पन्ना। जिसे ज्योतिषी तब धारण करने लिए कहते हैं जब संबंधित ग्रह का आपको सही लाभ न मिल रहा हो या किसी तरह की समस्या हो परंतु ज्योतिषीयों द्वारा कुंडली का आकलन कराने के बाद ही किसी भी रत्न को धारण करने की आपको सलाह दी जाती है। इस लेख में हम आज पन्ना रत्न के उपरत्न कहे जाने वाले वैकल्पिक रत्न के बारे में बताएंगे। जिसे धारण करने पर जातक को समान प्रभाव मिलेगा।

 

हम आपको सलाह देंगे कि कुंडली का आकलन करवाकर आप अपने राशि व ग्रह स्थिति व प्रभाव के आधार पर रत्न धारण करें। जिससे आपको इसका पूरा लाभ मिल सके। यदि आप अपने राशि रत्न के बारे में और अधिक जानकारी चाहते हैं आप एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से बात कर अपनी कुंडली का विश्लेषण कराकर रत्न के बारे में जान सकते हैं। ज्योतिषाचार्य से अभी बात करने के लिए यहां क्लिक करें।

 

पन्ना का किस राशि व ग्रह से संबंध?

ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि पन्ना मिथुन व कन्या राशि से संबंधित रत्न है। इसे खासकर तुला जातकों को धारण करने की सलाह दी जाती है। पन्ना बुध ग्रह से संबंधित है। ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि जिन जातकों की कुंडली में  बुध कमजोर या किसी ग्रह से पीड़ित है तो उन्हें इस रत्न को धारण करने के लिए कहा जाता है।  क्योंकि बुध ज्ञान, बुद्धि, विवेक, शिक्षा, सात्विकता, अध्यात्म और व्यापार व्यवसाय का कारक माने जाते हैं। ज्योतिषशास्त्र में बताया गया है कि राशि चक्र की दो राशियों मिथुन और कन्या का स्वामी बुध हैं। कुंडली में यदि बुध शुभ प्रभाव नहीं दे रहा हो या बुध की महादशा चल रही हो या बुध लग्न हो तो पन्ना रत्न धारण करने की सलाह दी जाती है। पन्ना रत्न धारण करने से बुध प्रभावी होता है और अपना शुभफल देता है।

 

उपरत्न या वैकल्पिक रत्न क्या है?

उपरत्न की बात ज्योतिषशास्त्र में स्पष्टता से की गई है। उपरत्न से आशय है कि मुख्य राशि रत्न का एक विकल्प जो प्रमुख रत्न की तरह ही धारक को लाभ पहुंचाए। ज्योतिषियों का कहना है कि उपरत्न मुख्य रत्न की तरह परिणाम तो देता है परंतु यह अधिक समय तक प्रभावी नहीं रहता है। समय के साथ इसका प्रभाव समाप्त हो जाता  है। जिसके बाद आपको दोबारा रत्न धारण करना पड़ता है। इससे आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि यदि ऐसा है तो ज्योतिष उपरत्न धारण करने की सलाह क्यों देते हैं? हम आपको बता दें कि ज्योतिषाचार्य उन मामलों में ही उपरत्न धारण करने की सलाह देते हैं जब धारक की माली स्थिति मुख्य रत्न को धारण करने की न हो या धारक स्वयं वैकल्पिक रत्न के बारे में परामर्श लेते हैं।

 

पन्ना का वैकल्पिक रत्न

ज्योतिष के अनुसार पन्ना का वैकल्पिक रत्न पेरिडॉट, बैरूज, पन्नी और मरगज उपरत्न हैं। इन्हें धारण करने से पन्ना के समान ही लाभ मिलता है। परंतु जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है कि ये अधिक समय तक प्रभावी नहीं रहते हैं। एक सीमीत समय के बाद इनकी शक्ति खत्म हो जाती है और आपको दोबारा रत्न धारण करना होगा। इसलिए जहां तक हो सके जातक को मुख्य रत्न ही धारण करना चाहिए। इसका प्रभाव अधिक समय तक रहता है। जिससे अधिक लाभ मिलता है।

 

संबंधित लेख

जानिए राशि के अनुसार आपके लिए कौन सा रत्न है शुभ? ।  मूंगा रत्न – मंगल की पीड़ा को हर लेता है मूंगा । पन्ना रत्न - ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ व सावधानियां

एस्ट्रो लेख

वैशाख 2020 – वै...

 वैशाख भारतीय पंचांग के अनुसार वर्ष का दूसरा माह है। चैत्र पूर्णिमा के बाद आने वाली प्रतिपदा से वैसाख मास का आरंभ होता है। धार्मिक और सांस्कृतिक तौर पर वैशाख महीने का बहुत अधिक महत...

और पढ़ें ➜

नवरात्र में कन्...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में माता का रूप बता...

और पढ़ें ➜

माँ कालरात्रि -...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेक...

और पढ़ें ➜

माँ महागौरी - न...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी पाप धुल जात...

और पढ़ें ➜