प्रेगनेंसी से जुड़ी समस्याओं का राज खोलती हैं हाथ की लकीरें

04 दिसम्बर 2019

शादी दो लोगों के बीच एक साझेदारी का रिश्ता है, जिसमें पति-पत्नी आपस में प्रेम और विश्वास के साथ अपने रिश्ते को आजीवन निभाते हैं। वहीं दांपत्य जीवन की डोर बहुत नाजुक होती है इसे संभालने के लिए कई जतन करने पड़ते हैं इसके बावजूद भी कई तरह की समस्याएं आती रहती हैं। जब शादी हो जाती है तो कुछ समय बाद फैमिली प्लानिंग में लोग तैयारी करने लगते हैं लेकिन कई बार कपल्स को संतान सुख काफी जतन करने के बाद प्राप्त होता है। ऐसे में आमतौर पर लोग शारीरिक समस्याओं को ही संतानप्राप्ति में बाधक मानते हैं लेकिन हाथ की लकीरें भी आपकी प्रेग्नेंसी के बारे में बता सकती हैं, जानिए कैसे?

 

आपकी कुंडली में संतान का योग कब बन रहा है? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

हस्तरेखा सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार, प्रेम, दांपत्य सुख, यौन सुख औऱ संतान सुख के बारे में हथेली पर शुक्र पर्वत को प्रतिनिधि माना गया है। शुक्र पर्वत की स्थिति, इस पर मौजूद विभिन्न प्रकार के चिन्हों के आधार पर हम आने वाली संतान के बारे में और संतान सुख की स्थिति भी जान सकते हैं। हालांकि इन चिन्हों का अर्थ स्त्री और पुरुष की हथेली पर अलग-अलग होता है। इतना ही नहीं हस्तरेखा के द्वारा आप किसी स्त्री के प्रेगनेंसी और उस दौरान आने वाली समस्याओं के बारे में भी पता लगा सकते हैं और उचित समाधान भी कर सकते हैं। तो आज हम आपको जानकारी देगे कि हाथों की कौन सी लकीरें गर्भावस्था में आने वाली परेशानियों के बारे में बताती हैं। 

 

गर्भावस्था में  अड़चनें पैदा करने वाले ग्रह

  • यदि किसी महिला जातक की हथेली में शुक्र पर्वत पर जाल के आकार का चिन्ह हो तो यह शुभ संकेत नहीं है। इसका अर्थ होता है कि उस स्त्री का गर्भपात हो सकता है।

  • अगर किसी स्त्री की हथेली में मणिबंध रेखा से कोई रेखा निकलकर शुक्र पर्वत पर जाए और वहां जाकर किसी आईलैंड की तरह आकृति बना ले तो भी यह अच्छा संकेत नहीं देता है। इससे भी गर्भपात की संभावना बनी रहती है।

  • यदि किसी महिला की कलाई के पास की रेखा से कोई रेखा निकलकर शुक्र पर्वत पर जाए और उल्टा कर्व बनाए तो ऐसी स्त्री को गर्भधारण करने में काफी समस्या आती है और उन्हें संतान का सुख काफी देर से प्राप्त होता है।

  • यदि किसी जातिका के हाथ में जीवनरेखा टूटी हूई हो और कोई ऱेखा शुक्र पर्वत तक जाए तो महिला को गर्भ धारण संबंधी परेशानी आती है। ऐसे में महिला को गर्भ से जुड़ी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।


संतान सुख की प्राप्ति नहीं

  • यदि किसी स्त्री की हथेली पर कोई एकदम सीधी सपाट रेखा कनिष्ठिका(हाथ की सबसे छोटी अंगुली) अंगुली से निकलकर मध्यमा(हाथ के बीच वाली अंगुली) तक जाए तो ऐसी जातिका की संतान बचपन में ही दुर्घटना की शिकार होती है।

  • अगर किसी जातिका की हथेली में मध्यमा और कनिष्ठिका के मध्य के नीचे की ओर बड़ा सा क्रॉस का चिन्ह हो तो यह अच्छा संकेत नहीं है। इसका अर्थ है कि उस स्त्री को संतान का सुख नहीं मिलेगा।

  • संतान सुख न होने का चिन्ह पुरुष की हथेली में भी होता है। यदि किसी पुरुष के शुक्र पर्वत पर बड़ा सा क्रॉस का चिन्ह हो तो उसके अंतरंग रिश्तों में समस्याएं आती रहती हैं।

  • यदि किसी जातक की हथेली पर शुक्र पर्वत के नीचे दोहरी जीवन रेखा हो तो यौन जीवन मुश्किलों से भरा रहता है और यौन संबंधी कई तरह की परेशानियां आती हैं। 

संबंधित लेख

हस्तरेखा से जानें कौनसा क्षेत्र है आपके करियर लिये बेहतर ।  हस्तरेखा और विवाह - हाथ की रेखाएं खोलती हैं आपके विवाह के राज

एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

खर मास - क्या करें क्या न करें

Chat now for Support
Support