भाई की सुख समृद्धि हेतु राशिनुसार बांधे इस रंग की राखी

02 अगस्त 2020

हिंदू धर्म में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराएं विद्यमान है। दुनियाभर में भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है, यहां आए दिन कोई न कोई पर्व मनाया जाता है। वहीं किसी भी तीज-त्योहार को मनाने के लिए शुभ मुहुर्त का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस बार 03 अगस्त सोमवार को देशभर में भाई-बहन के प्यार के प्रतीक का पर्व रक्षाबंधन मनाया जाएगा।  राखी बांधने के लिए शुभ समय 15 अगस्त सुबह 9 बजकर 28 मिनट से शुरु होगा और रात 9 बजकर 17 मिनट तक रहेगा। 

 

राशिनुसार बांधे रक्षासूत्र

 

इस पावन पर्व पर बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षासूत्र को बांधती हैं और उनसे अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। वहीं स्वास्थ्य की दृष्टि से भी रक्षासूत्र काफी फायदेमंद होता है। राखी बांधने से कफ, पित्त और वात जैसी कई बीमारियां दूर हो सकती हैं और अंतर्मन में भय नहीं सताता है। इतना ही नहीं भाई की सुख-समृद्धि के लिए आप ज्योतिष की मानें तो उनकी राशि के अनुसार आप उन्हें शुभ रंग की राखी बांध सकती हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कि भाई की राशि के अनुसार बहनें उन्हें कौन-से रंग का रक्षासूत्र बांधे।

यद्यपि यह सामान्य जानकारी है। हमारी सलाह है कि अपनी कुंडली के अनुसार रक्षाबंधन को मनाने के लिये आप अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श लें। एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लेने के लिेए यहां क्लिक करें।

 

मेष राशि 

इस राशि का स्वामी मंगल है। इस राशि के जातक की कलाई पर लाल रंग की राखी बांध सकते हैं और उनके माथे पर कुमकुम का तिलक लगा सकते हैं। मालपुए से उनका मुंहमीठा करा सकते हैं। इससे उन्हें नये कार्यों में सफलता मिलने की संभावना बनी रहेगी. 

 

वृष राशि 

इस राशि का स्वामी शुक्र है। जिनके भाइयों की राशि वृषभ है उन बहनों को कलाई पर सफेद रेशमी डोरी वाली राखी बांधनी चाहिए और रोली का तिलक करना चाहिए। मुंहमीठा कराने के लिए उन्हें दूध से निर्मित मिठाई खिलाएं। इससे उन्हें मानसिक शांति मिल सकती है। 

 

मिथुन राशि  

इस राशि के जातकों की कलाई पर हरे रंग की राखी बांध सकते हैं और हल्दी का तिलक लगा सकते हैं। इस राशि का स्वामी बुध है। इससे भाई को दीर्घायु प्राप्त हो सकती है और सुख-समृद्धि बनी रहने की संभावना है। भाई को बेसन से निर्मित मिठाई खिलाएं।

 

कर्क राशि  

इस राशि का स्वामी चंद्रमा है जिसकी वजह से भाई की कलाई में चमकीले सफेद रंग की राखी बांधे और माथे पर चंदन का तिलक लगाएं। मिठाई के रूप में रबड़ी खिलाएं। इस रंग से भावनात्मक रिश्तों में मजबूती बनी रह सकती है।

 

सिंह राशि  

सिंह राशि के जातकों का स्वामी सूर्य है और सूर्य का रंग पीला होता है। इस वजह से आप अपने भाई की कलाई में गोल्डन पीले रंग की राखी बांध सकती हैं और हल्दी मिश्रित रोली का तिलक भी लगा सकती हैं। इससे उनके जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहने की संभावना है।

 

कन्या राशि

अगर आपके भाई की राशि कन्या है, तो आप उन्हे गणेश जी के प्रतीक वाला रक्षासूत्र बांधे और उन्हें गणेश जी की प्रिय मिठाई मोतीचूर का लड्डू खिलाएं। बता दें कि इस राशि के जातकों का स्वामी बुध है, जिसकी वजह से भाई-बहन के बीच हमेशा प्रेमभाव बने रहने की संभावना है।

 

तुला राशि  

इस राशि के जातकों का स्वामी शुक्र है। भाई को अपनी बहन से नीले रंग की राखी बंधवानी चाहिए और भाई को हलवा बनाकर खिलाएं। यह उनकी निर्णायक क्षमता को बढ़ा सकती है और नकारात्मक विचारों से रक्षा करेगी।

 

वृश्चिक राशि  

अगर आपके भाई की राशि वृश्चिक है, तो आप लाल रंग की राखी बांध सकती हैं। मोती युक्त राखी बांधने से भाई के जीवन में खुशहाली बनी रह सकती है। अपने भाई को रोली का तिलक लगाएं, गुड़ से बनी मिठाई खिलाएं।

 

धनु राशि  

धनु राशि के जातकों की कलाई पर पीले या सुनहरे रंग की या चंदन की राखी बांध सकते हैं और हल्दी या कुमकुम का तिलक लगा सकते हैं। मिठाई के रूप में रसगुल्ला खिलाएं। ऐसा करने से मानसिक शांति बनी रहने की संभावना है। इस राशि का स्वामी बृहस्पति है। 

 

मकर राशि  

यदि आपके भाई की राशि मकर है, तो उन्हें नीले रंग की राखी बांधे, गहरे रंग का रक्षासूत्र इस राशि के लोगों की अशुभता से रक्षा कर सकता है। केसर का तिलक लगाएं और भाई को बालूशाही खिलाएं।

 

कुम्भ राशि  

इस राशि का स्वामी शनि है। इस राशि के लोगों को रुद्राक्ष से निर्मित राखी बांधनी चाहिए। इस राशि के जातकों को हल्दी का तिलक करें और कलाकंद खिलाएं। यह उन्हें अच्छा व्यक्तित्व और मजबूत मनोबल प्रदान कर सकता है।


मीन राशि 

यदि आपके भाई की राशि मीन है, तो उन्हें सुनहरे पीले रंग की राखी बांधे और हल्दी का तिलक लगाएं। इसके अलावा उन्हें मिल्क केक खिलाएं। यह उनके मन को प्रसन्नचित्त रख सकता है। 

 

एस्ट्रोयोगी की तरफ से सभी पाठकों को रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएं और हम आशा करते है कि आप के बीच यूँ ही प्रेम, स्नेह बना रहें। 

 

यह भी पढ़ें

रक्षाबंधन - इस बार हैं यह शुभ योग   |   रक्षाबंधन – क्या है धार्मिक महत्व   | 

एस्ट्रो लेख

राहु गोचर 2020 - मिथुन से वृषभ राशि में गोचर

केतु गोचर 2020 - धनु से वृश्चिक राशि में गोचर

कन्या से तुला में बुध के परिवर्तन का क्या होगा आपकी राशि पर असर?

खर मास - क्या करें क्या न करें

Chat now for Support
Support