Skip Navigation Links
राखी - शुभ मुहूर्त सहित जानें क्यों खास है इस बार राखी का पर्व


राखी - शुभ मुहूर्त सहित जानें क्यों खास है इस बार राखी का पर्व


वर्ष 2018 में रक्षा बंधन 26 अगस्त, रविवार को मनाया जाएगा। भारत में यह त्यौहार भाई-बहन के अटूट प्रेम को समर्पित है और इस त्यौहार का प्रचलन सदियों पुराना बताया गया है। इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बाँधती हैं और भाई अपनी बहनों की रक्षा का संकल्प लेते हुए अपना स्नेहाभाव दर्शाते हैं।


कब तक रहेगी भद्रा

पिछले साल रक्षाबंधन के पर्व को भद्रा की नजर लगी हुई थी जिस कारण राखी बांधने के समय में फेरबदल हो रखा था लेकिन सौभाग्य से इस बार इस पावन पर्व को भद्गा की नजर नहीं लगी है।  इसलिये बहनें भाइयों की कलाई पर सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त के बीच रक्षाबंधन का अनुष्ठान कर सकती हैं। अनुष्ठान का समय प्रात: 05:59 से सांय 17:25 बजे तक रहेगा। अपराह्न मुहूर्त 13:39 बजे से 16:12 बजे तक है।


क्या है भद्रा

शास्त्रों की मान्यता के अनुसार भद्रा का संबंध सूर्य और शनि से होता है। हिन्दू धर्म शास्त्रों में, भद्रा भगवान सूर्य देव की पुत्री और शनिदेव की बहन है। शनि की तरह ही इसका स्वभाव भी क्रूर बताया गया है। इस उग्र स्वभाव को नियंत्रित करने के लिए ही भगवान ब्रह्मा ने उसे कालगणना या पंचाग के एक प्रमुख अंग करण में स्थान दिया। जहां उसका नाम विष्टी करण रखा गया। भद्रा की स्थिति में कुछ शुभ कार्यों, यात्रा और उत्पादन आदि कार्यों को निषेध माना गया। इसलिये इस बार भद्रा का साया समाप्त होने पर ही रक्षाबंधन अनुष्ठान किया जाता है। लेकिन इस बार भद्रा मुक्त रक्षाबंधन होने से यह बहनों के लिये बहुत ही हर्ष का पर्व है।


इसलिये भी खास है इस बार राखी

रक्षाबंधन का यह पवित्र त्यौहार इस बार रविवार के दिन है। हालांकि सोमवार को भगवान भोलेनाथ का दिन माने जाने की वजह से श्रावण माह में सोमवार का महत्व कुछ बढ़ जाता है लेकिन आपको बता दें कि सावन माह का तो प्रत्येक दिन भगवान भोलेनाथ को समर्पित होता है इसलिये रविवार के दिन होने से रक्षाबंधन का महत्व कम नहीं हो जाता। 


ग्रहण मुक्त है इस बार की राखी

पिछले वर्ष राखी का त्यौहार भद्रा व ग्रहण से पीड़ित होने के कारण बहुत ज्यादा सौभाग्यशाली नहीं माना गया था लेकिन इस बार राखी ग्रहण से मुक्त है क्योंकि इस वर्ष का दूसरा और अंतिम चंद्रग्रहण 28 जुलाई को लगा था। श्रावण पूर्णिमा इस बार ग्रहण से मुक्त रहेगी जिससे यह और भी सौभाग्यशाली हो जाती है।

शुभ महूर्त

रक्षा बंधन तिथि - 26 अगस्त 2018, रविवार

अनुष्टान समय - 05:59 से 17:25 (26 अगस्त 2018)

अपराह्न मुहूर्त - 13:39 से 16:12 (26 अगस्त 2018)

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ - 15:16 बजे (25 अगस्त 2018)

पूर्णिमा तिथि समाप्त - 17:25 बजे (26 अगस्त 2018)

भद्रा समाप्ति समय - सूर्योदय से पहले

एस्ट्रोयोगी की तरफ से सभी पाठकों को रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएं और हम आशा करते है कि आप के बीच यूँही प्रेम, स्नेह बना रहें।

रक्षाबंधन पर ज्योतिषीय परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें

विश्वास और प्यार का एक पवित्र बंधन - रक्षा बंधन   |   रक्षाबंधन – क्या है धार्मिक महत्व   |   सावन पूर्णिमा को लगेगा चंद्र ग्रहण राशिनुसार जानें क्या होगा असर

अन्य त्यौहारों के बारे में महत्वपूर्णजानकारियां और लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें   |   




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

बुध ग्रह राशि परिवर्तन – क्या होगा असर आपकी राशि पर?

बुध ग्रह राशि परिव...

ज्ञान के कारक बुध ज्योतिषशास्त्र में खास मायने रखते हैं। सूर्य के लगभग साथ-साथ गोचर करने वाले बुध लेखन, प्रकाशन, लेखे-जोखे पर नज़र रखने वाले माने जाते हैं। ज्योतिषाच...

और पढ़ें...
पूर्णिमा 2018 – कब है पूर्णिमा व्रत तिथि

पूर्णिमा 2018 – कब...

पूर्णिमा हिंदू कैलेंडर अर्थात पंचांग की बहुत ही खास तिथि होती है। धार्मिक रूप से पूर्णिमा का बहुत अधिक महत्व माना जाता है। दरअसल पंचांग में तिथियों का निर्धारण चंद्र...

और पढ़ें...
शरद पूर्णिमा 2018 – शरद पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि

शरद पूर्णिमा 2018 ...

पूर्णिमा तिथि हिंदू धर्म में एक खास स्थान रखती है। प्रत्येक मास की पूर्णिमा का अपना अलग महत्व होता है। लेकिन कुछ पूर्णिमा बहुत ही श्रेष्ठ मानी जाती हैं। अश्विन माह क...

और पढ़ें...
गुरु गोचर 2018-19 : मंगल की राशि में गुरु, इन राशियों के अच्छे दिन शुरु!

गुरु गोचर 2018-19 ...

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर 2018-19 - देव गुरु बृहस्पति 11 अक्तूबर को लगभग 7 बजकर 20 मिनट पर राशि परिवर्तन कर रहे हैं। गुरु का गोचर ज्योतिषशास्त्र में बहुत महत्वपू...

और पढ़ें...
पापांकुश एकादशी – एकादशी व्रत व पूजा विधि

पापांकुश एकादशी – ...

एकादशी व्रत का हिंदू धर्म में बहुत अधिक महत्व है। पौराणिक ग्रंथों में इसके महत्व के बारे में काफी कुछ लिखा मिलता है। प्रत्येक मास के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशियों...

और पढ़ें...