राशिनुसार जानें अपनी सासू मां का स्वभाव, नहीं होगी अनबन

दुनिया में अगर सबसे तालमेल बिठाना वाला रिश्ता है तो वो है सास-बहू का रिश्ता। इस रिश्ते में अक्सर नोकझोंक ही नजर आती है क्योंकि सामाजिक तौर पर यह रिश्ता अनबन वाला माना जाता है लेकिन कई सास-बहुओं में काफी प्यार देखने को मिलता है। जिसको देखकर अक्सर आपके मन में सवाल आता है कि इनके बीच इतना सौहार्द कैसे है? तो इसका कारण ज्योतिष है।

 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, आपकी राशि आपके रिश्तों को भी कहीं न कहीं प्रभावित करती है। वहीं आपकी राशि आपके ससुरालवालों के साथ भी आपके रिश्तों पर असर डालती है। इसलिए आज हम राशिनुसार आपकी सास के स्वभाव के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देंगे ताकि आप अपने रिश्ते को सुधार सकें और सासू मां को समझ सकें।


यदि आप इस सास-बहू के झगड़े को समाप्त करना चाहते हैं तो आपको एक अनुभवी ज्योतिष के परामर्श की जरूरत है जो आपको पाप ग्रहों से बचने के उपाय और आपके झगड़ों को खत्म करने का समाधान भी बताएगा। इसलिए आज ही एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

मेष राशि (21 मार्च-अप्रैल 19) -

इन राशि की सास स्वभाव से काफी तेजतर्रार और शब्दों से कठोर होती हैं। इस राशि की सास को दखलअंदाजी कतई पसंद नहीं होती है। वे चाहती है कि उनकी बहू उनके काम में कतई दखल न दे। कई दफा दखलअंदाजी को लेकर सास-बहू में झगड़ा भी होने लगता है, लेकिन इन राशि की सास मन से बहुत कोमल होती हैं और आपनी बहुओं की फिक्र करती हैं। इनको अपना बनाने के लिए बहुओं को मुस्कुराकर बात करने की जरूरत होती है ताकि वे आपसे हमेशा खुश रहें।

 

वृषभ राशि (20 अप्रैल- 20 मई) -

वृषभ राशि की सास का स्वभाव थोड़ा उतार-चढ़ाव वाला होता है। इन्हें कभी अपनी बहु पर अत्यधिक प्रेम आता है तो कभी अत्यधित क्रोध आता है। ऐसी सासों का बर्ताव बहु के प्रति मिलाजुला रहता है। इन जातकों को बॉस बनने का शौक होता है और अपनी बातों को पालन कराना इन्हें काफी अच्छा लगता है। ऐसी सास का दिल जीतने के लिए आपको उनकी हर बात को मानना जरूर होता है।

 

मिथुन राशि (21 मई- 20 जून) -

मिथुन राशि वाली सास स्वभाव से काफी समझदार और मीठे स्वभाव वाली होती हैं। वे अपनी बहुओं के साथ व्यवहार सोच-समझकर करती हैं और लड़ाई-झगड़े के मामले में दिमाग से काम लेती हैं। इन राशि के सास आसानी से अपनी बहुओं के साथ घुलमिल जाती हैं। अगर आपकी सास की राशि मिथुन है तो वे आपके साथ दोस्ताना बर्ताव करती हैं। 

 

कर्क राशि(21 जून- 22 जुलाई) -

इन राशि के सास काफी मॉर्डन होती हैं और समय के साथ चलने वाली होती हैं। इनका रिश्ता बहुओं से काफी अच्छा होता है। इस राशि की सास काफी फैशनेबल होती हैं। ये सास अपनी बहू के साथ विश्वसनीय रिश्ता बनाकर चलती हैं। अगर आपकी सांस की राशि कर्क है तो आपको कभी मां की कमी नहीं खलेगी।

 

सिंह राशि(23 जुलाई- 22 अगस्त) -

इन राशि की सास का स्वभाव शांत होता है लेकिन यह अपनी बहुओं को लेकर काफी सख्त होती हैं। ये सास एक नेता के समान होती हैं और सबकुछ अपने तरीके से करना पसंद करती हैं। वे बहु से अपेक्षा रखती हैं कि उनकी इच्छा के मुताबिक ही वे सारे काम करे। कई बार इस तरह की सास का मिजाज और स्टाइल आपस में मैच नहीं करता है, जिसकी वजह से आपको चिढ़ मच सकती है परंतु बहुओं को संतुलित रहने की जरूरत है।

 

कन्या राशि(23 अगस्त - 22 सितंबर) -

कन्या राशि की सास अपनी बहू के साथ बराबरी करने की कोशिश हमेशा करती रहती हैं। वे अपनी बहुओ को हमेशा दबाव में रखना पसंद करती हैं। इस राशि की सास और बहू दोनो ही अपने को बुद्धिमान समझती हैं जिसकी वजह से तालमेल बिठाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इनके बीच रिश्ता बाहरी तौर पर काफी मधुर होता है लेकिन पीठ पीछे एक-दूसरे की जमकर बुराई करती हैं। 

 

तुला राशि( 23 सितंबर - 22 अक्टूबर) -

तुला राशि की सास का स्वभाव निस्वार्थ और दानी होता है। इन राशि के सार अपनी बहुओं को आजादी देकर रखती हैं। अपनी बहू को बेटी की तरह रखती हैं और बर्ताव भी करती हैं। हालांकि वित्तीय मामलों में इनके बीच कभी-कबार रिश्ते खराब हो जाते हैं। अगर आपकी सास तुला राशि की है तो आपको मां की कभी नहीं खलेगी और उनकी उदारता और प्यार को देखकर आप हमेशा उनका सम्मान ही करेंगी। ये अपने पोती-पोतियों से सबसे ज्यादा प्यार करती हैं। 

 

वृश्चिक राशि(23 अक्टूबर - 22 नवंबर) -

इन राशि की सास घर पर हुकूमत चलाने पर विश्वास रखती हैं। इनमें कमजोर और मजबूती का अनोखा मेल होता है। ये बहू के आ जाने के बाद भी अपना शासन छोड़ना पसंद नहीं करती हैं और नई चीज को स्वीकार भी करने में हिचकिचाती हैं। कई दफा घर में विभाजन तक की नौबत आ जाती है। 

 

धनु राशि( 23 नंवबर- 22 दिसंबर) -

इन राशि की सास का स्वभाव ऐसा होता है कि वे समय के हिसाब से अपने आपको मैनेज कर लेती हैं। वे शादी के बाद भी अपने बेटे पर अधिपत्य जमाती रहती हैं और कभी-कभार बहु से नोकझोंक की वजह भी यही बन जाता है। इस तरह की सास शांतिप्रिय होती है लेकिन अपने हिसाब से सबकुछ करने की कोशिश करती हैं। 

 

मकर राशि(23 दिसंबर - 22 जनवरी) -

मकर राशि वाली सास का स्वभाव सरल और शांत होता है लेकिन वित्तीय मामलों में बहु से अनबन की स्थिति पैदा हो जाती है। वैसे तो बहुओं के साथ इनका व्यवहार और संबंध अच्छा रहता है। अपने काम से काम रखने वाली और बेवजह झगड़ों से बचने वाली होती हैं।

 

कुंभ राशि(23 जनवरी - 23 फरवरी) -

इस राशि की सास राजनीति में काफी सक्रिय होती हैं। इनकी राजनीति की वजह से बहू अक्सर उनकी चाल में फंस जाती हैं। कुंभ राशि की सास स्वतंत्र स्वभाव की होती हैं लेकिन उनका क्रोध और जिद्द अक्सर खराब परिस्थितियां पैदा कर देता है। 


मीन राशि(24 फरवरी - 22 मार्च) -

इन राशि की सासों का संबंध बहू के साथ काफी अच्छा होता है या काफी बुरा होता है। मीन राशि वाली सास का स्वभाव बहस करने वाला होता है और अक्सर बहू के साथ बहसबाजी करती रहती हैं। इस तरह की सास से बहुएं अक्सर बचती रहती हैं। 

 

संबंधित लेख -

जानिए, सास-बहू के बीच नोकझोंक का ज्योतिषीय कारण 

एस्ट्रो लेख

राम रक्षा स्तोत...

श्री राम रक्षा स्तोत्र बुध कौशिक ऋषि द्वारा रचित श्री राम का स्तुति गान है। इसमें उन्होंने अनेक नामों से प्रभु श्री राम के नाम का गुणगान किया है। मान्यता है कि श्री राम रक्षा स्तोत...

और पढ़ें ➜

रामनवमी - भगवान...

विज्ञान और इतिहास के नजरिये से देखा जाये तो रामायण और महाभारत दो महाकाव्य हैं और भगवान राम और भगवान श्री कृष्ण इन महाकाव्यों के नायक। लेकिन धर्म, आस्था और विश्वास के नजरिये से देखे...

और पढ़ें ➜

प्रभु श्री राम ...

प्रभु श्री राम भगवान विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं। भगवान विष्णु ने जब भी अवतार धारण किया है अधर्म पर धर्म की विजय हेतु लिया है। रामायण अगर आपने पढ़ी नहीं टेलीविज़न पर धाराव...

और पढ़ें ➜

भगवान श्री राम ...

रामायण और महाभारत महाकाव्य के रुप में भारतीय साहित्य की अहम विरासत तो हैं ही साथ ही हिंदू धर्म को मानने वालों की आस्था के लिहाज से भी ये दोनों ग्रंथ बहुत महत्वपूर्ण हैं। आम जनमानस ...

और पढ़ें ➜