Skip Navigation Links
यदि चाहते हैं घर में सुख शांति तो अपनायें ये उपाय


यदि चाहते हैं घर में सुख शांति तो अपनायें ये उपाय

सुख यानि की समृद्धि शांति यानि की संतुष्टि जीवन में किसे नहीं चाहिये। घर से लेकर दफ्तर तक प्यार से लेकर व्यापार तक की भागदौड़ आदमी सुख-शांति यानि की आनंद की प्राप्ति के लिये ही तो करता है। लेकिन हम जैसा सोचते हैं कई बार वैसा होता नहीं है और ऐसे में किसी को घर ही जेल नज़र आने लगता है तो किसी को घर में नरक का वास दिखाई देता है। लेकिन हम अपने इस लेख में आपको कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें अपना कर आप नरक को स्वर्ग बना सकते हैं। तो आइये जानते हैं कौनसे उपाय लौटायेंगें आपकी पारिवारिक खुशियां।

घर में सुख-शांति बनाये रखने के उपाय

वर्तमान समय में जीवन की भागदौड़ इतनी रहती है कि हम रिश्तों की अहमियत को जानते हुए भी उन्हें नज़रंदाज करने लगते हैं। व्यावसायिक मजबूरियां तो इसका कारण होती ही हैं लेकिन कई बार हम अपने वातावरण को ही ऐसा बना लेते हैं कि जानकर भी अंजान बने रहते हैं लेकिन हमारे धर्मग्रंथों शास्त्रों में ऐसी ऐसी बातें निहित हैं जो हमारा मार्गदर्शन करती हैं और हमें सुखी जीवन जीने के उपाय सूझाती हैं। उन्हीं में कुछ चुनिंदा उपाय इस प्रकार हैं-

फालतू पड़े सामान को दिखाएं बाहर का रास्ता

कई बार बेकार पड़ी चीज़ों को हम आलस्य या फिर भविष्य में काम आने की सोचते हुए घर में ही पड़ा रहने देते हैं। उनमें धूल मिट्टी, जंगादि लगता रहता है। इससे घर के वातावरण में नकारात्मकता आ जाती है जिसका प्रभाव आपके पारिवारिक जीवन पर भी पड़ने लगता है इसलिये आपके लिये सुझाव है कि यदि आपके साथ भी ऐसा कुछ घटित हो रहा हो और आप उससे निजात पाना चाहते हैं तो अपने घर से ऐसे फालतू पड़े सामान को बाहर का रास्ता जरूर दिखाएं। खासकर कोई कील हो, चाभी हो जो किसी काम की न हों, बरसात की भीगी हुई लकड़ी, किसी भी तरह का कबाड़ अपने घर में न रखें। सिर्फ घर के अंदर ही नहीं बल्कि यदि आपके घर की छत पर भी ऐसी कोई सामग्री पड़ी हो तो उसे भी बाहर निकाल दें क्योंकि ज्योतिषशास्त्र के विद्वान छत का संबंध सुख वाले ग्रह से बताते हैं। इसलिये जितना जल्दी हो सके किसी कबाड़ी को देकर इससे मुक्ति पायें।

घर में रखें साफ-सफाई

कबाड़ को बाहर निकालने के साथ-साथ अपने घर की साफ-सफाई का भी विशेष ध्यान रखें। प्रात:काल उठकर घर की सफाई करें व स्नानादि के पश्चात पूजा करें व हल्की खुशबू वाली सुंगधित अगरबत्ती जलाएं। इससे आपके घर के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा।

घर में हों सिर्फ जरूरत की चीज़ें

कई बार हम चीज़ों को खरीद कर ले आते हैं लेकिन उसके बाद देखते हैं कि उनका इस्तेमाल ही नहीं होता या फिर कोई चीज़ खराब हो जाती है तो उसे ठीक करवाने का ही समय नहीं मिलता। कुछ तो खराब वस्तुओं को ठीक करवाने की बजाय नई ही ले आते हैं और पुरानी पड़ी ही रहती है। ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि सबसे पहले तो इसी बात का ध्यान रखा जाये कि आपके घर में जरूरत की वस्तुएं ही हों। दूसरा जो चीज़ें खराब हो गई हों और उनकी आपको जरूरत हो तो उन्हें जल्द से जल्द ठीक करवाना चाहिये खासकर यदि दिवार घड़ी रूकी पड़ी है तो इसका इलाज तुरंत प्रभाव से करें क्योंकि घड़ी का रूकना शुभ नहीं माना जाता। यह बंद किस्मत का द्वार मानी जाती है। यदि आपको उनकी जरूरत नहीं बची है तो अपने घर की खुशियों के लिये उन्हें बाहर निकाल दें।

घर में नीला रंग नहीं माना जाता शुभ

शास्त्रानुसार घर में रंगों का भी बहुत महत्व है इसलिये कोई भी रंग करवाने से पहले ज्योतिषीय परामर्श अवश्य लें। आम तौर पर नीले रंग का इस्तेमाल करने से बचें। ना तो घर की भीतरी दिवारों में नीले रंग का पेंट हो और ना ही खिड़कियों दरवाज़ों के पर्दे नीले रंग के हों।  नीले के साथ-साथ काला रंग भी शुभ नहीं माना जाता। आपके घर में आपकी कुंडली के अनुसार कौनसा रंग शुभ रहेगा यह जानने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से बात कर सकते हैं। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

खान-पान में रखें ध्यान

कहते हैं दिल का रास्ता पेट से होकर जाता है। इसलिये अपनी रसोई का भी ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। जितना हो सके तले हुए पदार्थों के कम बनायें। तामसिक प्रवृति के भोजन यानि की तीव्र मसालों का प्रयोग कम करें। कहते हैं जैसा खाये अन्न वैसा होगा मन इसलिये सात्विक भोजन को ही प्राथमिकता दें। सबसे जरूरी और अहम बात रसोई घर व्यवस्थित व साफ-सुथरा रखें। सींक में झूठे बर्तनों का भंडार न लगने दे। रात को तो खास तौर पर बर्तन भीगो कर न छोड़ें। इसी प्रकार रसोई के साथ-साथ स्नानागार की सफाई का भी ध्यान रखें व कपड़ों को भीगोकर रात भर के लिये न छोड़ें।

पूजा व्रत दान पुण्य से भी मिलेगा शुभ फल

शास्त्र बताते हैं कि हम जितना दान-पुण्य करते हैं ईश्वर उतना ही ज्यादा हमें उपलब्ध भी करवाता है। गरीब जरूरतमंदों की सहायता के साथ-साथ जीव-जंतुओं की भी सामर्थ्य अनुसार सेवा करनी चाहिये। हमारे शास्त्रों में कव्वौं, कुत्तों व गाय के लिये भोजन में से कुछ हिस्सा निकालने की नसीहते दी गई हैं। यदि आप प्रतिदिन ऐसा करने में सक्षम नहीं हैं तो कम से कम सप्ताह में एक दिन ऐसा जरूर करें।

ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि उपरोक्त उपायों को अपना कर आप अपने घर के माहौल को काफी हद तक सुधार सकते हैं। 

यह भी पढ़ें

क्यों मिलता है प्रेम में बार बार धोखा   |   मनचाहा जीवनसाथी पाने का फेंगशुई फंडा   |   कुंडली में प्रेम   |   कुंडली में विवाह योग   |

प्यार की पींघें बढानी हैं तो याद रखें फेंग शुई के ये लव टिप्स   |   जानिये, दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग   |   कुंडली में संतान योग




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...