साल 2019 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर

हर साल नई उम्मीदों का साल होता है, हर साल हम कुछ सपने सजाते हैं, हर साल के बारे में कामना करते हैं कि यह साल हमारी उम्मीदों पर खरा उतरे। सपनों के पंख लगाकर हम अपनी उम्मीदों के आसमान में उड़ते हुए लक्ष्य रूपी मंजिल पर पंहुच जायेंगें। ये उम्मीदें पूरी होंगी या नहीं इसके बारे में हां या ना का कोई भी दावा नहीं किया जा सकता लेकिन ज्योतिष शास्त्र आपकी इस उलझन को अपने आकलन के आधार पर पूर्व में ही हालातों का अनुमान लगाकर उसे आसान कर देता है। आपमें से बहुत से जातक इस पड़ाव पर हैं कि उन्हें अपने करियर की दशा व दिशा इस समय तय करनी ही करनी है तो ऐसे जातकों के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के आकलन के आधार पर लिखा यह लेख एक मार्गदर्शक एक प्रेरक की भूमिका निभा सकता है। इसे पढ़ने के बाद आप जान सकेंगें कि आने वाले समय में रोजगार किन क्षेत्रों में बढ़ने वाले हैं और साथ ही यह तय कर सकते हैं कि आपको अपनी रुचियों के अनुसार अब किस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहिये?


शिक्षा कला व तकनीकी क्षेत्रों में बढ़ सकते हैं रोजगार

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि वर्ष 2019 का आरंभ कन्या लग्न से हो रहा है। ज्ञान व बुद्धि के कारक बृहस्पति इस समय वर्ष लग्न से तीसरे स्थान में गोचररत हैं जिसके संकेत हैं कि शिक्षा के क्षेत्र में यह वर्ष रोजगार के काफी अवसर लेकर आयेगा। शिक्षा के साथ-साथ तकनीकी क्षेत्रों में भी रोजगार के अवसर बढ़ सकते हैं। भारत के राशि स्वामी चंद्रमा इस समय तुला राशि में गोचरत होंगे जिससे कला के क्षेत्र में जाने वालों को भी बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं। अभिनय, संगीत व साहित्य के क्षेत्र में कुछ नये सितारे अपनी चमक बिखेर सकते हैं। यदि आप अपनी रुचिनुसार किसी कलात्मक क्षेत्र का रुख करना चाहते हैं तो 2019 आपके लिये काफी शुभ साबित हो सकता है। स्वयं का व्यवसाय भी यदि आप आरंभ करना चाहते हैं तो शिक्षा व तकनीकी क्षेत्रों में हाथ आजमा सकते हैं सफलता मिलने की संभावनाएं प्रबल हैं।

वर्ष लग्नेश बुध भी इस समय वृश्चिक राशि में गुरु के साथ गोचर कर रहे हैं जो कि वर्ष लग्न से तीसरी राशि है। इसका संकेत है कि जो जातक प्रतिभाशाली हैं और कड़ी मेहनत व लगन से अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिये प्रयासरत हैं उन्हें उनकी मेहनत का फल मिल सकता है। सीनियर्स से भी अपेक्षित सहयोग मिल सकता है।

इस वर्ष का राशि स्वामी शुक्र वर्ष लग्न से धन भाव में चंद्रमा के साथ विराजमान हैं। नौकरीशुदा जातकों को भी अपेक्षित लाभ इस वर्ष मिल सकता है। पदोन्नति व जॉब चेंज के भी आपको बेहतर अवसर मिल सकते हैं। 

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती और हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती कुछ इसी तर्ज पर 2019 कह रहा है कि मेहनत करने वालों की हार नहीं होगी। यानि परिश्रमी जातक लगे रहें उन्हें इच्छित क्षेत्र में सफलता मिल सकती है। लेकिन शिक्षा, कला व तकनीकी क्षेत्र वालों के लिये विशेषरुप से सौभाग्यशाली रह सकता है।

आपकी कुंडली के अनुसार किस क्षेत्र में नौकरी या व्यवसाय करने में आपको मिलेगी कामयाबी। ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


संबंधित लेख

भारत खेल 2019 - खेलों के लिये कैसा है 2019   |   2019 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |  

 2019 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |    नववर्ष 2019 राशिफल    |

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜