शनि अमावस्या - चौदह साल बाद बना है यह शुभ संयोग

हिंदू पंचांग में अमावस्या एक नया चंद्र दिन है या कहे तो वैदिक पंचांग के अनुसार यह तिथि कृष्ण पक्ष की आखरी तिथि है। अमावस्या सनातन हिंदू धर्म में बहुत ही विशेष तिथि है। जिसके बारे में हम आगे जानकारी देंगे। कहा जाता है कि अमावस्या यदि शनिवार के दिन पड़े तो इसका महत्व और भी बढ़ जाता है। इस लेख में हम शनि अमावस्या व्रत क्या है, इस दिन का क्या महत्व है और 2019 में शनि अमावस्या किन तिथियों पर पड़ रहा है इस बारे में जानेंगे।

शनि अमावस्या क्या है?

अमावस्या तिथि पर कुछ विशेष कार्य करने का विधान हिंदू धर्म शास्त्रों में बताया गया है। परंतु पूरे साल में पड़ने वाले सभी अमावस्या का महत्व इनके दिन के अनुसार बदल जाता है। लेकिन हम यहां बात करेंगे शनि अमावस्या की। मान्यता के मुताबिक शनिवार के दिन पड़ने वाले अमावस्या को शनि अमावस्या कहा जाता है। जैसा कि नाम से पता चलता है कि यह दिन न्याय के देव शनिदेव का है। जिसके चलते इसकी मान्यता हिंदू धर्म के मानने वालों में और भी बढ़ जाती है। बात करें वैदिक ज्योतिष शास्त्र की तो इस तिथि को ज्योतिष भी काफी महत्वपूर्ण मानते हैं।

शनि अमावस्या का महत्व

पूरे साल में शनि अमावस्या ज्यादा से ज्यादा 2 से 3 बार ही आता है। जिसके कारण इस दिन कुछ महत्वपूर्ण कार्य करने का विधान है। कहा जाता है कि इस दिन शनिदेव की उपासना करना सर्वोत्म है। ज्योतिष भी इस दिन शनि दोष से बचने हेतु उपाय करने की सलाह देते हैं। यदि किसी जातक पर शनि की महादशा, प्रत्यंतर या अंतरदशा चल रही है तो जातक इस तिथि पर शनि के प्रकोप से बचने के लिए पूजन कर सकता है। इसके अतिरिक्त जातक की कुंडली में शनि की साढ़ेसाती या ढ़ैया चल रही है तो शनि अमावस्या के दिन इस दोष के निवारण के लिए जातक उपाय करता है। जिससे जातक तो शनिदेव के कोप से राहत मिलती है। मान्यता है कि अमावस्या तिथि को पूजन व दान और तर्पण करना उपयुक्त होता है। इस दिन तर्पण करने से जातक के पितरों को मुक्ति मिलती है।

शनि अमावस्या पूजा विधि

आमतौर पर सामान्य अमावस्या की तरह ही शनि अमावस्या की पूजा करने की सलाह दी जाती है लेकिन ऐसा नहीं है। वर्ष में पड़ने वाले सभी अमावस्या में से शनिवार को पड़ने वाला अमावस्या सबसे खास माना जाता है। इस दिन शनि की विधिवत उपासना करने से जातक शनि के कोप से बचने में काफी हद तक सफल होता है। इस तिथि पर भी साधक नित्य दिन की तरह प्रातः उठकर शुद्ध हो जाएं। इसके बाद साधक शनि मंदिर या घर पर ही शनिदेव की प्रतिमा पर काला तिल व सरसो का तेल चढ़ाएं या पीपल के पेड़ को तिल युक्त जल अर्पित करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पीपल के पेड़ में सभी देवों का वास होता है। इसके बाद साधक शनि को फूल व शहद चढ़ाकर, धूप- दीप जालाएं। फिर शनि अष्टक, शनि चालीसा का पाठ या शनि मंत्र का जाप करें। पाठ पूर्ण होने के बाद शनिदेव की आरती कर लोगों में प्रसाद बांट दें।

शनि अमावस्या पर करें शनि के नेगेटिव इफेक्ट से बचने के उपाय

इस अमावस्या का महत्व इसलिये भी बढ़ा हुआ है क्योंकि जो जातक वर्तमान में शनि की चाल से नकारात्मक रूप से प्रभावित हैं। विशेषकर जिन जातकों की कुंडली में शनि की महादशा, अंतर्दशा, प्रत्यंतरदशा चल रही है या फिर जिन पर शनि की साढ़ेसाती, शनि की ढ़ैया चल रही है। या जिन्हें किसी भी प्रकार का कष्ट शनि के कारण पंहुच रहा है वे जातक इस शनि अमावस्या पर शनिदेव की साधना कर उनके कोप से बच सकते हैं।

शनि के कोप से बचने के लिये शनि अमावस्या को शनिदेव की साधना करनी चाहिये। शनिदेव की शांति के लिये शनि सत्वराज का पाठ करें। शनि स्त्रोतम् या शनि अष्टक का पाठ भी कर सकते हैं। शनिदेव के बीज मंत्र का जप करने एवं शनिदेव संबंधी वस्तुओं का दान करने से भी शनि देव की कृपा प्राप्त हो सकती है।

शनि अमावस्या तिथि व मुहूर्त 2019

पंचाग के अनुसार तिथि की गणना सूर्योदय के समय से मानी जाती है। सूर्योदय जिस तिथि में होता है वही तिथि मानी जाती है।

पौष शनि अमावस्या  – शनिवार, 05 जनवरी 2019

वैशाख शनि अमावस्या – शनिवार, 04 मई 2019

अश्विन शनि अमावस्या - तिथि – शनिवार, 28 सितंबर 2019

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜