Skip Navigation Links
शनि हुए अस्त – इन पांच राशियों को मिलेगी सफलता !


शनि हुए अस्त – इन पांच राशियों को मिलेगी सफलता !

शनि ग्रह ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही शक्तिशाली ग्रह माने जाते हैं। इनकी प्रत्येक हलचल पर ज्योतिषशास्त्र के विद्वानों की नज़र रहती है। इस समय कुछ राशियों पर शनि की महादशा चल रही है तो कुछ राशियों पर शनि की ढ़ैय्या व साढ़ेसाती का साया है। इसमें जिन राशियों को शनि पीड़ित कर रहे हैं उनकी हालात काफी कठिनाइयों भरे हो सकते हैं। मसलन शनि से पीड़ित जातकों को अपने करियर, अपने व्यवसाय एवं जीवन के अन्य पहलुओं में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा होगा। लेकिन हम आपको ऐसी ख़बर दे रहे हैं जिससे कुछ समय तक के लिये पीड़ित राशियों को राहत मिल सकती है। दरअसल हाल ही में 5 दिसंबर को सूर्य के नजदीक आने से शनि अस्त हो गये हैं जो कि 8 जनवरी 2018 तक अस्त रहेंगें। ऐसे में शनि अपना प्रभाव नहीं छोड़ पायेंगें जिससे पीड़ित राशियों के लिये यह समय राहत देने वाला कहा जा सकता है। आइये जानते हैं शनि के अस्त होने से किन राशियों के लिये यह समय लाभकारी रहेगा?

वृषभ – वृषभ राशि वालों के लिये शनि का अस्त होना काफी लाभकारी रहने के आसार हैं। कार्यक्षेत्र में आपको सफलता मिलने की प्रबल संभावनाएं हैं। हालांकि यह सौभाग्यशाली योग आपके  लिये शनि के अस्त रहने तक ही रहेगा। आगे का समय भी शुभ रहे इसके लिये ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।

कन्या – कन्या राशि वालों के लिये भी शनि का अप्रभावी होना काफी शुभ रहने के आसार हैं। शनि के कारण जिन कार्यों में आपको बाधाओं का सामना करना पड़ रहा था वह दूर हो सकती हैं। आपके रूके हुए कार्य फिर से गति पकड़ सकते हैं। इस समय आपको आर्थिक तौर पर भी लाभ होने के आसार हैं। शनि की पीड़ा से आपको कैसे मुक्ति मिलेगी। अपनी कुंडली के अनुसार एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर आप इसके सरल उपाय जान सकते हैं। 

वृश्चिक – वृश्चिक राशि वाले जातक भी शनि की साढ़ेसाती के चलते हो सकता है मुश्किल दौर से गुजर रहे हों आपको भी अस्त शनि काफी राहत दे सकते हैं। विशेषकर कामकाजी जीवन व आर्थिक स्तर में आपकी स्थिति काफी बेहतर हो सकती है। शनि की साढ़ेसाती से बचने के उपाय आपको करने चाहिये अन्यथा आगे चलकर फिर से परेशानियां आपको घेर सकती हैं।

धनु – धनु राशि वालों के लिये भी शनि का अस्त होना शानदार रहने के आसार हैं। जिन कार्यों में शनि अड़चने डाल रहे थे उन्हें निपटाने के लिये यह समय बहुत ही शुभ रह सकता है। शनि आपको कहां व कैसे प्रभावित कर रहे थे व शनि के पुन: उदय होने पर आपकी मुश्किलें कैसे दूर होंगी? अपनी कुंडली के अनुसार ज्योतिषीय समाधान आपको अवश्य करने चाहिये

मकर – शनि का अस्त होने से सबसे मस्त मकर राशि वाले जातक रह सकते हैं। करियर के मामले में यह समय आपके लिये सफलता लेकर आ सकता है, आर्थिक तौर पर भी इस समय आप लाभकारी स्थिति में रहेंगें ऐसी उम्मीद कर सकते हैं।

इसके अलावा जिन जातकों पर शनि की महादशा या अंतर्दशा चल रही है और उसका नकारात्मक प्रभाव जातक पर पड़ रहा है तो उन्हें भी राहत मिलेगी व करियर में सफलता, नौकरी में पदोन्नति, व्यवसाय में तरक्की, आर्थिक समृद्धि की उम्मीद इस समय कर सकते हैं।

इसके अलावा जिन राशियों के लिये शनि पहले से ही शुभ परिणाम दे रहे थे उन्हें शनि से मिलने वाले लाभ से वंचित रहना पड़ सकता है हालांकि कोई नकारात्मक प्रभाव शनि के अस्त होने से नहीं पड़ेगा।

8 जनवरी 2018 तक शनि अस्त रहने वाले हैं। शनि के उदय होने के पश्चात फिर से आपको शनि की मार झेलनी पड़ सकती है। बेहतर है कि किसी विद्वान ज्योतिषाचार्य से शनि की शांति के उपाय जान लें। एस्ट्रोयोगी पर आप देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। विद्वान जयोतिषियों से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

नव वर्ष राशिफल 2018




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...