शरद पूर्णिमा 2020 - वरदान है शरद पूर्णिमा की अमृत खीर

28 अक्तूबर 2020

पंडितजी के अनुसार हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का अपना एक अलग महत्व है। इस बार 30 अक्टूबर 2020 दिन शुक्रवार को शरद पूर्णिमा पड़ रही है। ज्योतिष के अनुसार 30 अक्टूबर शुक्रवार की सायं 05 बजकर 45 मिनट से 31 अक्टूबर शनिवार की रात 08 बजकर 18 मिनट तक पूर्णिमा तिथि रहेगी। मान्यता है कि इस दिन रात के वक्त चंद्रमा अपनी सभी 16 कलाओं से परिपूर्ण होकर रात के करीब 12 बजे पृथ्वी पर अमृत वर्षा करता है। इस अमृत को प्राप्त करने के लिए जनमानस चांद की रोशनी के तले खीर बनाकर रखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि शरद पूर्णिमा की खीर का क्या महत्व है और इससे क्या लाभ होता है? 

 

यह जानकारी सामान्य आकलन के आधार पर है। यदि आप शरद पूर्णिमा पर माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के सरल उपाय जानना चाहते हैं तो, एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से अभी परामर्श लें। 

 

शरद पूर्णिमा खीर का महत्व

मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात में चंद्रमा के प्रकाश से अमृत वर्षा होती है। ये किरणें सेहत के लिए काफी लाभदायक होती हैं। शोध के अनुसार खीर को चांदी के पात्र में बनाने से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। शरद पूर्णिमा वाले दिन भगवान शिव को खीर अवश्य अर्पित करनी चाहिए। इसके बाद खीर को चांद की रोशनी में रखना चाहिए और सुबह अमृत वाली खीर को ग्रहण करना चाहिए। प्रसाद वाली खीर ग्रहण करने से घर में सुख-समृद्धि, व्यापार और करियर में वृद्धि और इंसान निरोगी बना रहता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था और भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में रासलील रचाई थी।


अमृत वाली खीर खाने के लाभ

 

  1. जिनकी आंखों की रोशनी कम है उन्हें दशहरे से लेकर शरद पूर्णिमा तक प्रतिदिन चंद्रमा को एकटक निहारना चाहिए। ऐसा करने से आपकी आंखें बिल्कुल ठीक हो सकती हैं और आपकी आंखों की रोशनी भी बढ़ सकती है।

  2. यदि आप हमेशा खुद को सुस्त महसूस करते हैं तो आपको शरद पूर्णिमा के दिन चांद की रोशनी में रखी जाने वाली खीर का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से आप ऊर्जावान हो सकते हैं।

  3. पूर्णिमा की रात्रि अस्थमाग्रस्त मरीजों, चर्मरोगियों के लिए वरदान है। माना जाता है कि अमृत वाली खीर खाने से अस्थमा से और चर्मरोग से आराम मिल सकता है।

  4. कहा जाता है कि अमृत वाली खीर खाने से हृदय संबंधी और फेफड़े संबंधी बीमारियां ठीक हो सकती हैं। 

  5. पूर्णिमा की रात्रि में जप, तप और पूजन करने से मानसिक और शारीरिक शक्तियों में विकास होता है। 

  6. इस रात्रि में सुई धागा पिरोने का 100 बार अभ्यास करने से आंखों की रोशनी तेज होती है।

  7. शरद पूर्णिमा के दिन अविवाहित कन्याएं यदि चंद्र देव और सूर्यदेव के साथ भगवान शिव की भी पूजा करती हैं तो निश्चितरूप से उन्हें मनचाहा वर प्राप्त होता है। 

  8. शरद पूर्णिमा की रात्रि में चांद की किरणों को यदि गर्भवती महिला अपनी नाभि में लेती हैं तो उनका गर्भ पुष्ट रहता है। 

 

2020 में शरद पूर्णिमा शुभ मुहूर्त

शरद पूर्णिमा या कहें कोजागर व्रत अश्विन माह की पूर्णिमा को रखा जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस वर्ष यह तिथि 30 अक्तूबर को है।

शरद पूर्णिमा – 30 अक्तूबर 2020

पूर्णिमा तिथि आरंभ – सायं 05:45 बजे (30 अक्तूबर 2020) से

पूर्णिमा तिथि समाप्त –रात  08:18 बजे (31 अक्तूबर 2020) तक

 

संबंधित लेख

शरद पूर्णिमा 2020– शरद पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि  ।  करवाचौथ 2020 ।  पूर्णिमा 2020

एस्ट्रो लेख

RCB vs SRH - रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर vs सनराइजर्स हैदराबाद का मैच प्रेडिक्शन

DC vs MI - दिल्ली कैपिटल्स vs मुंबई इंडियंस का मैच प्रेडिक्शन

KXIP vs RR - किंग्स इलेवन पंजाब vs राजस्थान रॉयल्स का मैच प्रेडिक्शन

शरद पूर्णिमा 2020 में इन खास योगों के साथ होगी अमृत वर्षा

Chat now for Support
Support