शरद पूर्णिमा 2019 - वरदान है शरद पूर्णिमा की अमृत खीर

हिंदू धर्म में शरद पूर्णिमा का अपना एक अलग महत्व है। इस बार 13 अक्टूबर 2019 रविवार को शरद पूर्णिमा पड़ रही है। ज्योतिष के अनुसार 13 अक्टूबर रविवार की रात 12.36 बजे से 14 अक्टूबर सोमवार की रात 02.38 बजे तक पूर्णिमा तिथि रहेगी। इस बार अश्विन मास की पूर्णिमा को अमृतयोग बन रहा है। ज्योतिष के अनुसार सोमचक्र, नक्षत्रीय चक्र और आश्विन के त्रिकोण के कारण शरद ऋतु से ऊर्जा का संग्रह होगा और बसंत में निग्रह होगा। मान्यता है कि इस दिन रात के वक्त चंद्रमा अपनी सभी 16 कलाओं से परिपूर्ण होकर रात के करीब 12 बजे पृथ्वी पर अमृत वर्षा करता है। इस अमृत को प्राप्त करने के लिए जनमानस चांद की रोशनी के तले खीर बनाकर रखते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि शरद पूर्णिमा की खीर का क्या महत्व है और इससे क्या लाभ होता है? 

 

यह जानकारी सामान्य आकलन के आधार पर है। यदि आप शरद पूर्णिमा पर माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के सरल उपाय जानना चाहते हैं तो, एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से अभी परामर्श लें। 

 

शरद पूर्णिमा खीर का महत्व

मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात में चंद्रमा के प्रकाश से अमृत वर्षा होती है। ये किरणें सेहत के लिए काफी लाभदायक होती हैं। शोध के अनुसार खीर को चांदी के पात्र में बनाने से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। शरद पूर्णिमा वाले दिन भगवान शिव को खीर अवश्य अर्पित करनी चाहिए। इसके बाद खीर को चांद की रोशनी में रखना चाहिए और सुबह अमृत वाली खीर को ग्रहण करना चाहिए। प्रसाद वाली खीर ग्रहण करने से घर में सुख-समृद्धि, व्यापार और करियर में वृद्धि और इंसान निरोगी बना रहता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन धन की देवी मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था और भगवान कृष्ण ने गोपियों संग वृंदावन के निधिवन में रासलील रचाई थी।


अमृत वाली खीर खाने के लाभ

  1. जिनकी आंखों की रोशनी कम है उन्हें दशहरे से लेकर शरद पूर्णिमा तक प्रतिदिन चंद्रमा को एकटक निहारना चाहिए। ऐसा करने से आपकी आंखें बिल्कुल ठीक हो सकती हैं और आपकी आंखों की रोशनी भी बढ़ सकती है।

  2. यदि आप हमेशा खुद को सुस्त महसूस करते हैं तो आपको शरद पूर्णिमा के दिन चांद की रोशनी में रखी जाने वाली खीर का सेवन करना चाहिए। ऐसा करने से आप ऊर्जावान हो सकते हैं।

  3. पूर्णिमा की रात्रि अस्थमाग्रस्त मरीजों, चर्मरोगियों के लिए वरदान है। माना जाता है कि अमृत वाली खीर खाने से अस्थमा से और चर्मरोग से आराम मिल सकता है।

  4. कहा जाता है कि अमृत वाली खीर खाने से हृदय संबंधी और फेफड़े संबंधी बीमारियां ठीक हो सकती हैं। 

  5. पूर्णिमा की रात्रि में जप, तप और पूजन करने से मानसिक और शारीरिक शक्तियों में विकास होता है। 

  6. इस रात्रि में सुई धागा पिरोने का 100 बार अभ्यास करने से आंखों की रोशनी तेज होती है।

  7. शरद पूर्णिमा के दिन अविवाहित कन्याएं यदि चंद्र देव और सूर्यदेव के साथ भगवान शिव की भी पूजा करती हैं तो निश्चितरूप से उन्हें मनचाहा वर प्राप्त होता है। 

  8. शरद पूर्णिमा की रात्रि में चांद की किरणों को यदि गर्भवती महिला अपनी नाभि में लेती हैं तो उनका गर्भ पुष्ट रहता है। 

 

2019 में शरद पूर्णिमा शुभ मुहूर्त

शरद पूर्णिमा या कहें कोजागर व्रत अश्विन माह की पूर्णिमा को रखा जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस वर्ष यह तिथि 13 अक्तूबर को है।

शरद पूर्णिमा – 13 अक्तूबर 2019

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 00:36 बजे (13 अक्तूबर 2019)

पूर्णिमा तिथि समाप्त – 02:38 बजे (14 अक्तूबर 2019)

 

संबंधित लेख

शरद पूर्णिमा 2019 – शरद पूर्णिमा व्रत कथा व पूजा विधि  ।  करवाचौथ 2019 ।  पूर्णिमा 2019 

एस्ट्रो लेख

तुला संक्रांति ...

इस वर्ष सूर्य कन्या राशि से तुला राशि में 18 अक्टूबर 2019 को गोचर कर रहे हैं। जो पृथ्वी पर उपस्थित प्रत्येक व्यक्ति को प्रभावित करने वाला है। इस लेख में हम सूर्य के इस गोचर का आपके...

और पढ़ें ➜

कैसे रखें करवा ...

हिंदू रीति-रिवाज़ों के अनुसार करवा चौथ का त्यौहार एक बहुत ही खूबसूरत त्यौहार है जो कि दशहरे और दिवाली के लगभग बीच में पड़ता है। इस साल यह त्यौहार 17 अक्तूबर को देश भर में मनाया जा ...

और पढ़ें ➜

करवा चौथ व्रत -...

विशेषरूप में उत्तर भारत में प्रचलित ‘करवा चौथ’ अब केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में रहने वाली भारतीय मूल की स्त्रियों द्वारा भी पूर्ण श्रद्धा से किया जाता है। इस व्रत में अपन...

और पढ़ें ➜

जानिये करवा चौथ...

हिंदू रीति-रिवाज़ों के अनुसार करवा चौथ का त्यौहार एक बहुत ही खूबसूरत त्यौहार है जो कि दशहरे और दिवाली के लगभग बीच में पड़ता है। इस साल यह त्यौहार 17 अक्तूबर को देश भर में मनाया जा ...

और पढ़ें ➜