Vaishakh Purnima 2022: कब है वैशाख पूर्णिमा का व्रत, जानें क्या है धार्मिक महत्व

bell icon Fri, May 13, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Vaishakh Purnima 2022: कब है वैशाख पूर्णिमा का व्रत, जानें क्या है धार्मिक महत्व

वैशाख मास को बहुत ही पवित्र माह माना जाता है इस माह में आने वाले त्यौहार भी इस मायने में खास हैं। वैशाख मास की एकादशियां, पूर्णिमा हों या अमावस्या सभी तिथियां पावन हैं लेकिन वैशाख पूर्णिमा का अपना महत्व माना जाता है। वैशाख पूर्णिमा को महात्मा बुद्ध की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।

वैशाख पूर्णिमा 2022 तिथि व मुहूर्त

वर्ष 2022 में वैशाख पूर्णिमा 16 मई को है। इस दिन पूर्णिमा उपवास रखा जायेगा।

  1. वैशाख पूर्णिमा तिथि – 16 मई 2022 
  2. पूर्णिमा तिथि प्रारम्भ - मई 15, 2022 को दोपहर  12:45 बजे से
  3. पूर्णिमा तिथि समाप्त - मई 16, 2022 को  सुबह 09:43 बजे तक

वैशाख पूर्णिमा का महत्व 

वैशाख पूर्णिमा का हिंदू एवं बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिये विशेष महत्व है। महात्मा बुद्ध की जयंती इस दिन मनाई जाती है इस कारण बुद्ध के अनुयायियों के लिये तो यह दिन खास है ही लेकिन महात्मा बुद्ध को भगवान विष्णु का नौवां अवतार भी बताया जाता है जिस कारण यह हिंदू धर्म के अनुयायियों के लिये भी बहुत महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। वैशाख पूर्णिमा पर सरल ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

वैशाख पूर्णिमा पर रखें सत्य विनायक व्रत 

वैशाख पूर्णिमा पर सत्य विनायक व्रत रखने का भी विधान है। मान्यता है कि इस दिन सत्य विनायक व्रत रखने से व्रती की सारी दरिद्रता दूर हो जाती है। मान्यता है कि अपने पास मदद के लिये आये भगवान श्री कृष्ण ने अपने यार सुदामा (ब्राह्मण सुदामा) को भी इसी व्रत का विधान बताया था जिसके पश्चात उनकी गरीबी दूर हुई। वैशाख पूर्णिमा को धर्मराज की पूजा करने का विधान है मान्यता है कि धर्मराज सत्यविनायक व्रत से प्रसन्न होते हैं। इस व्रत को विधिपूर्वक करने से व्रती को अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता ऐसी मान्यता है।

वैशाख पूर्णिमा व्रत व पूजा विधि 

  • वैशाख पूर्णिमा के दिन अपने स्नान के पानी में गंगाजल मिलाकर ही स्नान करें। 
  • तत्पश्चात साफ सुथरे वस्त्र धारण करके पूजा स्थल पर पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठ जाएं।
  • फिर व्रत का संकल्प लेकर भगवान विष्णु की पूजा करें।
  • एक साफ चौकीपर भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित करें। 
  • प्रतिमा पर जलाभिषेक करें और भगवान श्रीहरि पर पुष्प, धूप, दीप, अक्षत, चंदन, तुलसी, पंचामृत, फल आदि अर्पित करें। 
  • इसके बाद भगवान विष्णु की प्रतिमा के सामने तिल के तेल का दीपक जलाएं और ओम नमो भगवते वासुदेवाय नम: मंत्र का जाप करें।
  • हो सके तो विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत का पाठ करें और आखिर में भगवान विष्णु की आरती गाएं।
  • तत्पश्चात किसी योग्य ब्राह्मण को जल से भरा घड़ा दान करना चाहिये। ब्राह्मण या किसी जरूरतमंद को भोजन करवाने के पश्चात ही स्वयं अन्न ग्रहण करना चाहिये। सामर्थ्य हो तो स्वर्णदान भी इस दिन करना चाहिये।
  • रात्रि के समय दीप, धूप, पुष्प, अन्न, गुड़ आदि से पूर्ण चंद्रमा की पूजा करनी चाहिये और जल अर्पित करना चाहिये।

✍️ By- टीम एस्ट्रोयोगी

chat Support Chat now for Support
chat Support Support