2019 में कब लें सात फेरे

किसी भी काम की अच्छी शुरुआत व उसके अच्छे परिणाम के लिए मान्यता है कि उस कार्य को शुभ मुहूर्त में करना चाहिए। अब विवाह से बड़ा कार्य मनुष्य के जीवन में भला क्या हो सकता है। विवाह ही एक ऐसी परंपरा है, जिससे मानव प्रजाति व परिवार का विस्तार होता है। उसका पारिवारिक जीवन कितना खुशहाल होगा, जीवनसाथी कैसा होगा व संबंध किस तरह रहेंगें, यह सब दंपति की कुंडलियों के साथ-साथ जिस समय, जिस घड़ी, जिस लग्न में उनका विवाह हुआ है, उस समय ग्रहों की दशा पर भी निर्भर करता है। इसलिए तो विवाह के लिए कुंडली मिलान से लेकर सात फेरे लेने तक के लिए शुभ मुहूर्त निकलवाया जाता है। इसलिए हम दे रहे हैं आपको यह खास जानकारी, जिससे आप जान पांएगें कि 2019 में कौनसे दिन विवाह करने के लिए सर्वोत्तम रहेंगें।

साल भर में कुल मिलाकर लगभग 50 दिन ऐसे होंगें जिनमें आप विवाह कर सकते हैं। इसके अलावा हम इन पचास में से आपको वो पांच मुहूर्त बता रहे हैं, जिनमें आपको विवाह करने के लिए किसी से पूछने की जरुरत भी नहीं पड़ेगी। इन पांच शुभ दिनों में विवाह करने वालों पर प्रभु की विशेष कृपा बनी रहेगी। लेकिन आपकी शादीशुदा लाइफ अच्छे से बीते इसके लिये यह बहुत जरुरी है कि होने वाले जीवनसाथी के विचार, उनके गुण आपसे मिलते जुलते हों। ज्योतिष शास्त्र में कुंडली के माध्यम से यह जाना जा सकता है। आप एस्ट्रोयोगी पर अपनी व अपने साथी की कुंडली मिलाकर भी देख सकते हैं। कुंडली चैक करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

विवाह में देरी या वैवाहिक जीवन में परेशानियों से झूझ रहे हैं तो एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें और +919999091091 पर कॉल करें।

2019 में इन अबूझ मुहूर्तों में ले सात फेरे

  1. 15 जनवरी एस्ट्रोयोगी के सलाहकर ज्योतिषाचार्य के अनुसार यह दिन विवाह के लिए बहुत ही शुभ है। इस दिन आप निश्चिंत होकर परिणय सूत्र में बंध सकते हैं। चूंकि सूर्य दक्षिणायन से उतरायण की ओर बढ़ेगा जो कि हर कार्य के लिए मंगलकारी होता है और शुभ कार्यों के बंद द्वार को खोलता है।
  2. 9 फरवरी बंसंत पंचमी का दिन है। इस दिन को कई महापुरुषों की जयंति के रुप में भी मनाया जाता है। बंसंत पंचमी के आगमन का तात्पर्य जीवन में नई उर्जा, नई स्फूर्ति के अंकुर फूटना होना है। बंसंत ऋतु को वैसे भी प्रेम की रुत कहा जाता है। अत: बसंत पंचमी का दिन भी विवाह जैसे मांगलिक कार्य के लिए बहुत ही शुभ है।
  3. 13 अप्रैल इस दिन बैसाखी का त्यौहार मनाया जाता है। इसी दिन सूर्य अपनी उच्च राशि मेष में दाखिल होता है, जिसे बहुत शुभ माना जाता है। अत: इस दिन को भी आप शुभ मुहूर्त मानकर एक नए जीवन की शुरुआत कर सकते हैं।
  4. 14 अप्रैल इस दिन रामनवमी होगी जिसे भगवान श्री राम की जयंति के रुप में मनाया जाता है। यह दिन भी मांगलिक कार्यों के लिए शुभ है। इस दिन भी आप अपने प्रियतम के साथ अग्नि के सात फेरे ले सकते हैं।
  5. 8 अक्तूबर दशहरे का दिन है। बुराई पर अच्छाई की विजय के प्रतीक इस त्यौहार का दिन भी विवाह जैसे पावन रिश्ते में बंधने के लिए बहुत ही शुभ है।

आपको बतादें कि 15 जनवरी के बाद, जनवरी के अंतिम दिनों से अप्रैल तक विवाह के योग बनते रहेंगें। वैसे तो साल भर समय समय पर शहनाईयां बजती रहेंगी लेकिन अगस्त, सितंबर और अक्तूबर माह में विवाह के लिये कोई शुभ मुहूर्त नहीं है तो वहीं जुलाई माह में बहुत ही कम विवाह के मुहूर्त हैं। 

विवाह मुहूर्त के बारे में विस्तार से जाने के लिये यहां क्लिक करें

एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜