युवाओं के लिए कुछ खास है 2016

2016 भारत की उन्नति का साल माना जा रहा है। इस समय भारत व भारत के प्रधानमंत्री के ग्रहों का योग देश का विकास होने के संकेत कर रहा है। तकनीक से लेकर खेल हर क्षेत्र में उपलब्धियां मिलने के आसार हैं लेकिन युवाओं के लिए यह साल क्या लेकर आएगा। क्या उनकी बेरोजगारी दूर होगी। या फिर किस क्षेत्र में युवाओं का भविष्य संवरने की ज्यादा संभावनाएं हैं। आइए एक नजर डालते हैं क्या कहते हैं युवाओं के बारे में सितारे।

राशि के अनुसार जानें कैसा रहेगा आपका साल 2016

कुंडली व अंक ज्योतिष के अनुसार भारत पर चंद्रमा व मंगल की दशा चल रही हैं। एक सुंदरता का प्रतीक है तो दूसरा असीम उर्जा का सृजनकर्ता। ऐसे में तकनीक व खेल के क्षेत्र में युवाओं का भविष्य काफी उज्जवल रहने के आसार हैं। वहीं भारत के प्रधानमंत्री पर भी चंद्रमा की दशा है उनके ग्रह भी संकेत कर रहे हैं कि युवाओं की बेरोजगारी में कमी आएगी व रोजगार के अवसर प्राप्त होंगें।

केंद्र सरकार द्वारा निम्न श्रेणियों में साक्षात्कार के समाप्त होने से रोजगार मिलने में पारदर्शिता व तेजी आने के आसार हैं। स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया जैसी योजनाओं का लाभ भी युवाओं को मिलने के आसार हैं खासकर तकनीकी क्षेत्र में शिक्षित युवकों के लिए काफी संभावनाएं हैं।

वहीं जो युवा स्वयं का व्यवसाय शुरु करना चाहते हैं उन्हें भी खुशखबरी मिल सकती है। सरकार ऐसे युवाओं को प्रोत्साहित कर सकती है व युवाओं को उद्यमी बनने हेतु प्रेरित करने के लिए चालू योजनाओं का दायरा बढ़ा सकती है।

याद रखें भाग्य भी उन्हीं का साथ देता है जो निरंतर प्रयासरत रहते हैं। इसलिए अकेले भाग्य के भरोसे रहने वाले युवाओं को निराशा ही हाथ लगेगी ऐसे युवा इसी साल परिवर्तित हो रहे राहु की दशा के शिकार हो सकते हैं, खासकर देश के आंतरिक माहौल को बिगाड़ने में इनकी भूमिका हो सकती है।

कुल मिलाकर देश के ग्रह अच्छे चल रहे हैं, फिलहाल समय हर लिहाज से अनुकुल नजर आ रहा है। कड़ी मेहनत करें, फल अवश्य प्राप्त होगा।

अन्य एस्ट्रोलेख यहां पढ़ें

एस्ट्रो लेख

नरेंद्र मोदी - ...

प्रधानमंत्री बनने से पहले ही जो हवा नरेंद्र मोदी के पक्ष में चली, जिस लोकप्रियता के कारण वे स्पष्ट बहुमत लेकर सत्तासीन हुए। उसका खुमार लोगों पर अभी तक बरकरार है। हालांकि बीच-बीच मे...

और पढ़ें ➜

कन्या संक्रांति...

17 सितंबर 2019 को दोपहर 12:43 बजे सूर्य, सिंह राशि से कन्या राशि में गोचर करेंगे। सूर्य का प्रत्येक माह राशि में परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है और इस संक्रांति को स्नान, दान और ...

और पढ़ें ➜

विश्वकर्मा पूजा...

हिंदू धर्म में अधिकतर तीज-त्योहार हिंदू पंचांग के अनुसार ही मनाए जाते हैं लेकिन विश्वकर्मा पूजा एक ऐसा पर्व है जिसे भारतवर्ष में हर साल 17 सितंबर को ही मनाया जाता है। इस दिवस को भग...

और पढ़ें ➜

पितृदोष – पितृप...

कहते हैं माता-पिता के ऋण को पूरा करने का दायित्व संतान का होता है। लेकिन जब संतान माता-पिता या परिवार के बुजूर्गों की, अपने से बड़ों की उपेक्षा करने लगती है तो समझ लेना चाहिये कि अ...

और पढ़ें ➜