2019 क्या लायेगा अच्छे दिन?

एक अकेला व्यक्ति हो या भरा पूरा परिवार, एक समुदाय हो या पूरा राष्ट्र हर कोई समाज की बेहतरी की कामना करता है। किसी देश या समाज का विकास तभी माना जाता है जब उस समाज या देश के जीवन स्तर में कुछ बेहतर परिवर्तन हुए हों। मनुष्य जीवन जब सुख-सुविधाओं से परिपूर्ण हो तभी माना जा सकता है कि अच्छे दिन हैं। वैसे तो हर समाज उन्नति की ओर अग्रसर रहता है लेकिन कई बार परिस्थितियों की मार इतनी पड़ती है कि अच्छे दिन भी दुर्दिनों में बदल जाते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सब ग्रहों की चाल पर निर्भर करता है। अच्छे दिनों की उम्मीद कुछ विशेष अवसरों पर विशेष रूप से बंध जाती है। नववर्ष इन विशेष अवसरों में एक है।

2018 में हमने कहा था कि चंद्रमा में राहू की अंतर्दशा व केतु के प्रत्यंतर में होने के चलते अच्छे दिनों की उम्मीद बहुत ज्यादा नहीं की जा सकती, जो कि लगभग सही साबित हुई। जीएसटी इफेक्ट के चलते रोजगार में कमी हुई जिससे पकौड़ा रोजगार व्यंग्य के रूप में उभर कर सामने आया। किसानों को फसलों के सही दाम न मिलने से किसान सड़कों पर रहे। छोटे व मंझले उद्योग धंधे भी काफी प्रभावित हुए और उनके प्रोडक्शन में कमी आई है। आरबीआई जैसी संस्था के गवर्नर तक को अपना इस्तीफा देना पड़ा, बैंकिंग सेक्टर पर एनपीए का बोझ बढ़ता ही जा रहा है। भगौड़ों की संख्या में भी इजाफा हुआ अत: कह सकते हैं कि अच्छे दिनों के मामले में दिल्ली अभी दूर है। ऐसे में 2019 क्या कुल खिलाने वाला है या अच्छे दिन लाने वाला है आइये जानते हैं क्या कहते हैं ज्योतिषाचार्य।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार इस समय भारत पर चंद्रमा की महादशा चल रही है। जैसे ही 2018 को अलविदा कहकर वर्ष 2019 का प्रवेश होगा उस समय भारत की कुंडली में चंद्रमा के साथ अंतर में बुध रहेंगें और प्रत्यंतर में सूर्य। बुध-सूर्य बुधादित्य योग भी बनाते हैं जो कि बहुत अच्छा रहता है। अत: शुरुआती तौर पर कहा जा सकता है कि पिछले दो-तीन सालों की तुलना में यह साल देश के लिये वाकई कुछ अच्छे दिन लेकर आ सकता है। लोक लुभावन योजनाएं इस साल लागू हो सकती हैं। तेल के दाम भी नियंत्रित रहने के आसार हैं जिसके चलते मंहगाई पर भी काफी हद तक कंट्रोल रहने के आसार हैं। इस साल बेरोजगार युवाओं को रोजगार के अच्छे अवसर उपलब्ध हो सकते हैं। 

हालांकि राहू के समय में व्यापारी वर्ग को थोड़ी निराशा हाथ लग सकती है लेकिन नौकरीशुदा जातकों के लिये यह समय उत्तम बना रहने के आसार हैं। इस समय आपको अपनी मेहनत का फल अवश्य मिलने के आसार हैं।

राजनीतिक क्षेत्र में जो लोग लंबे समय से सत्ता से चिपक कर बैठे हैं उनके लिये अपने पद व प्रतिष्ठा को बचाना काफी मुश्किल हो सकता है। राजनीति के क्षेत्र में कुछ चमत्कारिक परिवर्तन भी दिखाई दे सकते हैं। इसलिये राजनीति में रूचि रखने वाले जातकों के दिन अच्छे हो सकते हैं लेकिन कुछ को माथा पकड़ कर बैठना भी पड़ सकता है।

कृषक वर्ग हमारे देश में बहुत बड़ा वर्ग है और उसके अच्छे दिन आये तो समझो देश के अच्छे दिन आये लेकिन ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि किसानों के लिये 2019 पिछले कुछ सालों की अपेक्षा लाभकारी रहेगा। हालांकि पिछले सालों की तुलना में किसानों की फसल पर लागत में भी वृद्धि हुई है इसलिये इसे बहुत अधिक उत्साहजनक तो नहीं लेकिन यह साल किसानों को थोड़ी राहत देने वाला अवश्य रहेगा। 

कला के क्षेत्र में मेहनती कलाकारों को अपने जीवन में सकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं। विशेषकर अभिनय के क्षेत्र में लंबे समय से अपनी पहचान स्थापित करने के लिये जद्दोजहद करने वाले जातकों में से कुछ को अपनी मंजिल मिल सकती है यानि वे अपनी पहचान 2019 में बना सकते हैं। कुल मिलाकर कलाकारों के अच्छे दिन 2019 में आ सकते हैं।

महिला वर्ग के अच्छे दिन 2019 में जरुर आ सकते हैं दरअसल वर्ष का आरंभ कन्या वर्ग में हो रहा है जिसका संकेत हैं कि स्त्री वर्ग को इस वर्ष उच्च सफलताएं व सम्मान मिल सकता है। साथ ही महिलाओं पर होने वाली हिंसात्मक घटनाओं सहित अन्य अपराधों में कमी इस वर्ष आ सकती है जिससे कहा जा सकता है कि महिलाओं के अच्छे दिन आयेंगें।

अपनी कुंडली के अनुसार एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से जानें कब आयेंगें आपके अच्छे दिन। पंडित जी से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

साल 2019 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   भारत खेल 2019 - खेलों के लिये कैसा है 2019   |   नववर्ष 2019 राशिफल    |

2019 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |   2019 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2019

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜