बसंत पंचमी 2023 - सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त कब है?

Tue, Jan 24, 2023
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
Tue, Jan 24, 2023
Team Astroyogi  टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
बसंत पंचमी 2023 - सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त कब है?

वसंत ऋतु आते ही प्रकृति में बदलाव आने लगते हैं। इस दिन पीले फूलों की चमक अपने सबसे उच्च स्थान पर होती है। बसंत पंचमी के दिन को हम सरस्वती पूजा, श्री पंचमी या पतंगों के बसंत उत्सव के रूप में भी जानते हैं । हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, माघ माह (आमतौर पर फरवरी की शुरुआत और जनवरी महीने के अंत में पड़ता है) के पांचवें दिन आयोजित एक हिंदू त्यौहार है। इस दिन से बसंत ऋतु का प्रारम्भ माना जाता है। बसंत ऋतु के शुरू होने के साथ सर्दी खत्म होने की ओर बढ़ जाती है। इसके साथ ही पेड़-पौधे पुरानी पत्तियों को त्याग कर नई पत्तियों को जन्म देती है।

बसंत पंचमी 2023: सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त कब है?

  • बसंत पंचमी 2023 तिथि- 26 जनवरी 2023

  • माघ माह की पंचमी तिथि प्रारंभ : 25 जनवरी 2023, 12:34 दोपहर 

  • बसंत पंचमी पूजा मुहूर्त: 26 जनवरी 2023, 7:12 सुबह से 12:34 दोपहर तक

  • बसंत पंचमी मध्याह्न : 26 जनवरी 2023, गुरुवार 12:39 दोपहर।

हिंदू धर्म हमें जीवन को जीने का तरीका सीखाता है। हिंदू धर्म का पालन करने वाले लोगों की देवी-देवताओं में गहरी आस्था होती है, जिनकी पूजा और अर्चना करके, वह विभिन्न अवसरों पर पूजा व नए कार्य शुरू करते हैं। बसंत पंचमी का दिन होली से 40 दिन पहले होता है और होली की तैयारियों की शुरुआत का भी प्रतीक माना जाता है। इस दिन देवी सरस्वती की विभिन्न नामों से पूजा की जाती है। जैसे विद्या की देवी, गायत्री की देवी, ललित कला और विज्ञान का स्रोत, और सर्वोच्च वेदांतिक ज्ञान का प्रतीक।

माँ सरस्वती की छवि में उन्हें एक वाहन पर बैठे हुए दर्शाया गया है जो उनकी सर्वोच्च शक्ति का प्रतीक है। सरस्वती का सफेद हंस सतवा गुण (पवित्रता और भेदभाव) का प्रतीक है, लक्ष्मी का कमल राजस गुण और दुर्गा का बाघ तामस गुण का प्रतीक है। माँ सरस्वती को चार हाथों के साथ दिखाया गया है और "वीणा" बजाती है, जो एक भारतीय स्ट्रिंग वाद्य यंत्र है।

बसंत पंचमी को सरस्वती पूजा कैसे मनाई जाती है?

इस दिन, बच्चे पढ़ाई, कला और शिल्प, खेल और इस तरह के क्षेत्र में अच्छे की उम्मीद में देवी सरस्वती की पूजा करते हैं। इस दिन अधिकांश स्कूल बंद रहते हैं क्योंकि पूजा की रस्मों में सरस्वती को आशीर्वाद के हवन करना शामिल है।

साड़ी पहनना एक आम प्रथा है जिसका पालन इस दिन किया जाता है। कई स्कूल और कॉलेज में देवी की मूर्ति की पूजा करके इस दिन को मनाते हैं। पूजा समाप्त होने के बाद, छात्रों और उनके परिवार के सदस्यों को स्वादिष्ट भोजन के बाद प्रसाद दिया जाता है। केसर हलवा और खिचड़ी कुछ ऐसे व्यंजन हैं जो बसंत पंचमी पर परोसे जाते हैं। इस उत्सव में भाग लेने के लिए छात्र अपने-अपने स्कूलों और कॉलेजों में आते हैं। इस दिन कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं।

यह सरसों की फसल की कटाई के समय को भी चिह्नित करता है और इसलिए पीले रंग का विशेष महत्व है। महिलाएं पीले रंग की पोशाक पहनती हैं और पीले रंग की पारंपरिक मिठाइयां परोसी जाती हैं।

बसंत पंचमी का इतिहास

बसंत पंचमी के बारे में बहुत सारी कहानियां हैं, उन्हीं में से एक कहानी जो बहुत अधिक विश्वसनीय है, वह प्रसिद्ध कवि कालिदास के बारे में है। जैसा कि किंवदंती है, जब कालिदास को उनकी पत्नी ने ठुकरा दिया था, तो उन्होंने अपने दुख का अंत करने और आत्महत्या करने का फैसला किया। उन्होंने नदी में कूदकर अपनी जीवन की यात्रा को समाप्त करने का निर्णय लिया। जैसे ही वह कूदने वाले थे, मां सरस्वती नदी से निकलीं और उन्हें अपार ज्ञान का आशीर्वाद दिया। जिसके बाद कालिदास आगे चलकर एक प्रसिद्ध कवि बने।

राशिफल 2023 : कैसा रहेगा आपका आने वाला साल ? जानिए 2023 के वार्षिक राशिफल से। 

बसंत पंचमी का महत्व

भारत एक ऐसा देश है जो अपने नागरिकों के बीच संस्कृति, शांति और एकजुटता के बंधन का प्रतीक है और यह प्राचीन काल से भारतीय जीवन जीने का तरीका रहा है। हमारे सांस्कृतिक मूल्य और सदियों पुरानी परंपराएं इसका प्रमाण रही हैं। इन परंपराओं और सदियों पुराने रीति-रिवाजों के अलावा, हमारा ऐसा देश भी है जहां त्योहार प्रकृति की महिमा का जश्न मनाते हैं, ऐसा ही एक भारतीय त्योहार बसंत पंचमी है।

ये दक्षिणी राज्यों में श्री पंचमी के रूप में मनाया जाता है (जहां श्री देवत्व के एक पहलू को दिखाया जाता है), पूर्वी क्षेत्रों में सरस्वती पूजा, और देश के उत्तरी भागों में बसंत पंचमी, यह त्योहार बसंत ऋतु की शुरुआत का जश्न मनाने के बारे में है। क्षेत्र के आधार पर, लोग बसंत पंचमी को विभिन्न तरीकों से मनाते हैं। उदाहरण के लिए, कई हिंदू इस पवित्र अवसर पर देवी सरस्वती का सम्मान करते हैं जिन्हें अपने अच्छे रूप में रचनात्मक ऊर्जा और शक्ति माना जाता है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार, शिल्प, विद्या, ज्ञान और कला की प्रतीक देवी सरस्वती का जन्म इसी दिन हुआ था। यही कारण है कि कई जगहों पर देवी सरस्वती की पूजा की जाती है।

बसंत पंचमी की परंपराएं

  • इस दिन हिंदू ज्ञान, संगीत, कला और संस्कृति की देवी सरस्वती देवी की पूजा-अर्चना करते हैं। पूर्वजों का मानना है कि भगवान ब्रह्मा ने पृथ्वी और मनुष्यों को बनाया था, लेकिन उन्हें लगा कि यह सब कुछ बहुत शांत है, इसलिए इस दिन उन्होंने हवा में कुछ पानी छिड़क कर सरस्वती की रचना की। जल से उत्पन्न होने के कारण इन्हें जलदेवता भी कहा जाता है। सरस्वती ने तब दुनिया को सुंदर संगीत से भर दिया और दुनिया को अपनी आवाज से आशीर्वाद दिया।

  • बसंत पंचमी पर पूजा की जाने वाली मूर्तियों से पता चलता है कि पूजा की जाने वाली मूर्ति में सरस्वती माँ के चार हाथ हैं जो अहंकार, बुद्धि, सतर्कता और मन का प्रतीक हैं। उन्हें अक्सर सफेद पोशाक पहने कमल या मोर पर बैठे हुए चित्रित किया जाता है।

  • पीला रंग बसंत पंचमी के साथ दृढ़ता से जुड़ा हुआ है, जो सरसों के खेतों का प्रतिनिधित्व करता है जो साल के इस समय पंजाब और हरियाणा क्षेत्रों में एक आम दृश्य है। लोग चमकीले पीले कपड़े पहनते हैं और बसंत की शुरुआत को चिह्नित करने के लिए रंगीन भोजन पकाते हैं, कई व्यंजन पीले रंग के होते हैं, जैसे कि "मीठ चावल", मीठे चावल, केसर के स्वाद वाले।

  • मकर संक्रांति की तरह, पतंगबाजी इस त्योहार से जुड़ा एक लोकप्रिय रिवाज है, खासकर पंजाब और हरियाणा में। इस दिन पतंग उड़ाना स्वतंत्रता और आनंद का प्रतीक है।

saraswati aarti

5 वस्तुएं जो बसंत पंचमी पर दान करें 

  1.  धार्मिक पुस्तकें दान करें

ब्राह्मणों को धार्मिक पुस्तकें दान देने से मां सरस्वती बहुत प्रसन्न होती हैं और बच्चों को ज्ञान और बुद्धि का आशीर्वाद देती हैं। अगर कोई विद्यार्थी परीक्षा की तैयारी कर रहा है तो उसे ब्राह्मणों को धार्मिक पुस्तकें जरूर दान करनी चाहिए। 

  1. सफेद वस्त्र ब्राह्मण कन्या को दान करें 

बसंत पंचमी के दिन किसी भी ब्राह्मण कन्या को सफेद वस्त्र का दान देना बहुत फायदेमंद माना जाता है। ऐसा करने से घर में खुशहाली बनी रहती है और मां सरस्वती हमेशा कृपा करती हैं।

  1. पीली रंग की मिठाइयों का दान करें। 

पूर्वजों की मान्यताओं के अनुसार, मां सरस्वती को पीले रंग की मिठाई बहुत प्रिय है। सरस्वती मां की पूजा करते समय उन्हें पीले रंग की मिठाई अर्पित करनी चाहिए। इसके अलावा बसंत पंचमी के दिन जरूरतमंदों को पीले रंग की मिठाई बांटनी चाहिए। 

  1. बसंत पंचमी के दिन कपड़ों का दान करें। 

बसंत पंचमी के दिन कपड़ों का दान भी कर सकते हैं। कपड़ों का दान करने से मां सरस्वती अपने भक्तों को सफलता का वरदान देती हैं और उनके जीवन में सुख-समृद्धि बनाए रखती हैं।

  1. विद्यार्थियों को किताब, पेन आदि का दान करें। 

बसंत पंचमी के दिन बच्चों को उनकी पढ़ाई के काम की चीजें दान देनी चाहिए जैसे पेन-पेंसिल, किताब और कॉपी आदि। 

क्या आप किसी ज्योतिषीय मार्गदर्शन की तलाश में हैं ? अगर हां तो कॉल या चैट के माध्यम से अभी जुड़ें एस्ट्रोयोगी के विशेषज्ञ एस्ट्रोलॉजर्स से। 

Hindu Astrology
Spirituality
Pooja Performance
Vasant Panchami
Festival

आपके पसंदीदा लेख

नये लेख


Hindu Astrology
Spirituality
Pooja Performance
Vasant Panchami
Festival
आपका अनुभव कैसा रहा
facebook whatsapp twitter
ट्रेंडिंग लेख

यह भी देखें!

chat Support Chat now for Support