Skip Navigation Links
भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि


भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि

क्या आप जानते हैं कि मार्गशीर्ष मास की कालाष्टमी को कालाष्टमी क्यों कहा जाता है? इसी दिन भैरव जयंती भी मनाई जाती है क्या आप जानते हैं ये भैरव हैं कौन और इनकी कहानी क्या है? भैरव जयंती का धार्मिक महत्व क्या है? अपने इस लेख में हम आपको बता रहे हैं इन भैरव बाबा के बारे में।


ब्रह्मा विष्णु और महेश के बारे में तो आप जानते ही हैं। भगवान विष्णु तो कभी राम बनके कभी श्याम बनके मानव अवतार में धरती पर आते भी रहे हैं। इसी तरह भगवान शिव के भी कई अवतार हुए हैं। उनका रूद्र अवतार तो श्री राम भक्त हनुमान को ही माना जाता है। इसी तरह भगवान शिव के ही एक अन्य अवतार माने जाते हैं भैरव जी। इन भैरव की उत्पति हुई थी मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को। अब आप सोच रहे होंगे कि इनकी उत्पति का कारण क्या था तो आप सही सोच रहे हैं क्योंकि बिना कारण के सृष्टि में कुछ भी नहीं होता चलिये आपको इनके जन्म की कहानी भी बता देते हैं। भैरव की उत्पति की कई कहानियां प्रचलित हैं जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं।


भैरव उत्पति की कहानियां


एक कथा के अनुसार एक बार सृष्टिकर्ता भगवान ब्रह्मा ने भगवान भोलेनाथ की वेशभूषा एवं उनके गणों को लेकर भगवान शिव के बारे में अशिष्ट टिप्पणी कर डाली इस पर शिव के क्रोध से विशालकाय दंडधारी प्रचंडकाय काया प्रकट हुई और ब्रह्मा जी का संहार करने दौड़ी। कुछ में तो यहां तक है कि इस काया ने ब्रह्मा के एक शीश को अपने नाखून से काट दिया। तत्पश्चात भगवान शिव के हस्तक्षेप से उसे शांत किया गया। तभी से ब्रह्मा जी के चार शीष शेष रह गये। जिस दिन यह विशाल काया प्रकट हुई वह मार्गशीर्ष मास की कृष्णाष्टमी का दिन था। भगवान शिव के क्रोध से उत्पन्न इस काया का नाम भैरव पड़ा। कालांतर में भैरव साधना बटुक भैरव और काल भैरव के रूप में होने लगी। वहीं तंत्रशास्त्र में असितांग-भैरव, रुद्र-भैरव, चंद्र-भैरव, क्रोध-भैरव, उन्मत्त-भैरव, कपाली-भैरव, भीषण-भैरव तथा संहार-भैरव आदि अष्ट-भैरव का उल्लेख मिलता है। ब्रह्मा जी का शीष काटने के कारण इन पर ब्रह्म हत्या का दोष भी लगा जिससे मुक्ति पाने के लिये कई वर्षों तक भटकने के पश्चात काशी में आकर इन्हें मुक्ति मिली।

एक अन्य कथा के अनुसार अंधकासुर नामक दैत्य के संहार के लिये भगवान शिव के रुधिर से भैरव की उत्पत्ति मानी जाती है। अंधकासुर के वध के बाद भगवान शिव ने इन्हें अपनी पुरी काशी का कोतवाल नियुक्त किया।


भैरव अष्टमी व्रत व पूजा का महत्व


भैरव को भय का हरण और जगत का भरण करने वाला बताया गया। भैरव शब्द के इन तीन अक्षरों में ब्रह्मा, विष्णु और महेश की शक्तियां समाहित मानी जाती हैं। वेदों में जिस परम पुरुष की महिमा का गान रुद्र रूप में हुआ उसी स्वरूप का वर्णन तंत्र शास्त्र में भैरव नाम से किया गया है। जिनके भय से सूर्य एवं अग्नि भी ताप लेते हैं, इंद्र-वायु व मृत्यु देवता अपने-अपने कामों में तत्पर हैं वे परम शक्तिमान भैरव हैं। वामकेश्वर तंत्र की योगिनीह्रदयदीपिका टीका में अमृतानंद नाथ कहते हैं, ‘विश्वस्य भरणाद् रमणाद् वमनात् सृष्टि-स्थिति-संहारकारी परशिवो भैरवः। अर्थात भ – भरण, र – रमश, व – वमन यानि सृष्टि की उत्पति, पालन और उसका संहार करने वाले शिव ही भैरव हैं। अन्य तंत्र ग्रंथों में भी शंकर के भैरव रूप को सृष्टि का संचालक माना गया है।

चूंकि भैरव का जन्म मार्गशीर्ष कृष्णाष्टमी के दिन हुआ था इसलिये इस दिन मध्यरात्रि के समय भैरव की पूजा आराधना की जाती है व रात्रि जागरण भी किया जाता है। दिन में भैरव उपासक उपवास भी रखते हैं। मान्यता है कि भैरव की साधना करने से हर तरह की पीड़ा से मुक्ति मिलती है। विशेषकर शनि, राहू, केतु व मंगल जैसे मारकेश ग्रहों के कोप से जो जातक पीड़ित होते हैं उन्हें भैरव साधना अवश्य करनी चाहिये। भैरव के जप, पाठ और हवन अनुष्ठान से मृत्यु तुल्य कष्ट भी समाप्त हो जाते हैं।


काल भैरवाष्टमी व्रत व पूजा विधि


अष्टमी के दिन प्रात:काल उठकर नित्य क्रिया से निवृत होकर स्नानादि कर स्वच्छ होना चाहिये। तत्पश्चात पितरों का तर्पण व श्राद्ध करके कालभैरव की पूजा करनी चाहिये। इस दिन व्यक्ति को पूरे दिन व्रत रखना चाहिये व मध्यरात्रि में धूप, दीप, गंध, काले तिल, उड़द, सरसों तेल आदि से पूजा कर भैरव आरती करनी चाहिये। उपवास के साथ-साथ रात्रि जागरण का भी बहुत अधिक महत्व होता है। काले कुत्ते को भैरव की सवारी माना जाता है इसलिये व्रत समाप्ति पर सबसे पहले कुत्ते को भोग लगाना चाहिये। मान्यता है कि इस दिन कुत्ते को भोजन करवाने से भैरव बाबा प्रसन्न होते हैं।


कालाष्टमी तिथि व मुहूर्त


वर्ष 2016 में काल भैरव अष्टमी का व्रत 21 नवंबर को है। बाबा भैरव की पूजा मध्यरात्रि में की जाती है।


यह भी पढ़ें

भारत के धार्मिक स्थल   |   अमरनाथ यात्रा - बाबा बर्फानी की कहानी   |   पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर   |   

यहाँ भगवान शिव को झाड़ू भेंट करने से, खत्म होते हैं त्वचा रोग   |   विज्ञान भी है यहाँ फेल, दिन में तीन बार अपना रंग बदलता है यह शिवलिंग

चमत्कारी शिवलिंग, हर साल 6 से 8 इंच बढ़ रही है इसकी लम्बाई    |   शिव मंदिर – भारत के प्रसिद्ध शिवालय




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

देवशयनी एकादशी 2018 – जानें देवशयनी एकादशी की व्रतकथा व पूजा विधि

देवशयनी एकादशी 201...

साल भर में आषाढ़ महीने की शुक्ल एकादशी से लेकर कार्तिक महीने की शुक्ल एकादशी तक यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह, दीक्षाग्रहण, ग्रहप्रवेश, यज्ञ आदि धर्म कर्म से जुड़े जितने ...

और पढ़ें...
आषाढ़ पूर्णिमा 2018 – जानें गोपद्म व्रत व पूजा की विधि

आषाढ़ पूर्णिमा 201...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा तिथि धार्मिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण होती है लेकिन आषाढ़ माह की पूर्णिमा और भी खास होती है। आषाढ़ पूर्णिमा को ही गुरु पूर्णिमा के ...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
कर्क संक्रांति - जानें राशिनुसार कैसा रहेगा कर्क राशि में सूर्य का परिवर्तन

कर्क संक्रांति - ज...

सूर्य ज्योतिषशास्त्र में बहुत ही प्रभावी ग्रह माने जाते हैं। सूर्य का राशि परिवर्तन करना संक्रांति कहलाता है। 17 जुलाई को सूर्य मिथनु राशि से कर्क में आ गये हैं। कर्...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...