Skip Navigation Links
सावन पूर्णिमा को लगेगा चंद्र ग्रहण राशिनुसार जानें क्या होगा असर


सावन पूर्णिमा को लगेगा चंद्र ग्रहण राशिनुसार जानें क्या होगा असर

ग्रहण मात्र एक खगोलीय घटना भर नहीं है बल्कि हिंदू शास्त्रों में धार्मिक रूप से भी इनकी अहमियत खास मानी जाती है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार तो ग्रहण के दौरान शुभ कार्यों के करने की मनाही भी होती है। इस कारण साल में आने वाले चंद्र और सूर्यग्रहण पर सब की नज़र होती है। कब यह ग्रहण लगेंगें कितनी बार लगेंगें इसकी भी सबको ख़बर होती है। साल 2017 का दूसरा चंद्रग्रहण श्रावण पूर्णिमा को लगेगा। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह तिथि 7 अगस्त है। आइये जानते हैं ज्योतिषाचार्यों के अनुसार वर्ष के दूसरे चंद्रग्रहण का क्या प्रभाव पड़ेगा।

चंद्र ग्रहण – 7 अगस्त 2017

7 अगस्त को लगने वाला चंद्रग्रहण मकर राशि एवं श्रवण नक्षत्र में गोचररत चंद्रमा के काल में घटित हो रहा है। इस ग्रहण पर शनि, मंगल एवं गुरु की दृष्टि भी पड़ रही है। शनि की दृष्टि वर्षा में कमी, जीवन में कष्टों का सामना, भय की आशंका, उड़द आदि काले रंग के अनाज व काले रंग की लौह आदि धातुओं की कीमतों में बढ़ोतरी की ओर संकेत कर रही है। वहीं मंगल की दृष्टि से लाल रंग की वस्तुएं मसलन अनाज, गुड़, मद्य, तीक्ष्ण पदार्थ, पारा, मनशिल, मसूर दाल, लाख, शस्त्र, मूतंगा आदि में मंहगाई की ओर संकेत कर रही है। अग्निकांड, बम विस्फोट आदि से क्षति, युद्ध की आशंका, चोरी का भय आदि से जनता थोड़ा कष्ट महसूस कर सकती है। हालांकि इसी ग्रहण में गुरु की दृष्टि भी पड़ रही है लेकिन गुरु इस समय शत्रु राशि में होंगे जिससे पूरी तरह से शुभ फल देने में वे समर्थ नहीं होंगे हालांकि आंशिक रूप से अशुभ फलों के शमन की उम्मीद गुरु से की जा सकती है।

राशिनुसार चंद्रग्रहण का प्रभाव

मेष – मेष जातकों के लिये चंद्र ग्रहण क्षति यानि हानि के संकेत कर रहा है। यह हानि आपको अपने जीवन के किसी भी क्षेत्र में हो सकती है। आपकी कोई वस्तु खो सकती है, चोरी हो सकती है, व्यवसाय में नुक्सान हो सकता है, किसी प्रियजन के साथ रिश्ते बिगड़ सकते हैं आदि।

वृष – वृषभ राशि वाले जातकों के लिये चंद्र ग्रहण भावनात्मक रूप से कष्टप्रद रहने के आसार हैं। विशेषकर मानसिक रूप से आप इस दौरान तनावग्रस्त रह सकते हैं। आपकी चिंता कार्य के दबाव से हो सकती है, साथी के अलगाव से हो सकती है या किसी के घनिष्ठ जुड़ाव के चलते भी आप चिंतित हो सकते हैं।

मिथुन – मिथुन जातकों पर हो सकता है चंद्र ग्रहण के दौरान कोई नकारात्मक प्रभाव न पड़े। आपके लिये जीवन के विभिन्न पहलुओं से कोई खुशखबरी मिलने के आसार हैं। आप सुख प्राप्ति की उम्मीद रख सकते हैं।

कर्क – यह चंद्रग्रहण आपके रोमांटिक जीवन में भी ग्रहण लगने की ओर संकेत कर रहा है। विशेषकर विवाहित दंपतियों के बीच मनमुटाव होने से जीवन थोड़ा कष्टदायक हो सकता है।

सिंह – सिंह जातक चंद्र ग्रहण के दौरान (सूतक आरंभ होने के समय से चंद्रग्रहण समाप्ति तक) अपनी सेहत के प्रति सचेत रहें। आपके लिये इस समय रोग एवं शारीरिक कष्ट से ग्रस्त होने की संभावनाएं प्रबल हैं।

कन्या – कन्या जातकों को अपने जीवन में थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता होगी, विशेषकर अपने कार्य व अपने व्यवहार पर नज़र रखें और दोनों ही क्षेत्रों में विवेक एवं संयम से काम लें आवेश में न आयें दरअसल इस समय आपकी प्रतिष्ठा को ठेस पंहुचने के आसार बन सकते हैं इसलिये सावधान रहें।

तुला – तुला जातकों को चंद्र ग्रहण से घबराने की आवश्यकता नहीं है। आपके लिये यह ग्रहण सफलता दिलाने वाला रहने के आसार हैं।

वृश्चिक – वृश्चिक राशि वालों के लिये भी चंद्र ग्रहण लाभकारी रहने के आसार हैं।

धनु – धनु जातकों के लिये यह चंद्रग्रहण हानिकारक रह सकता है। विशेषकर व्यावसायिक रूप से आपको हो सकता है इस समय हानि उठानी पड़े। आपके लिये सलाह है कि ग्रहण के समय किसी भी नई परियोजना में निवेश न करें।

मकर – मकर जातकों के लिये यह चंद्र ग्रहण पीड़ा देने वाला रह सकता है। हो सकता है आपका कोई अपना, कोई विश्वसनीय आपकी पीठ में छुर्रा घोंप जाये।

कुंभ – आपके लिये चंद्रग्रहण का समय खर्चों में बढ़ोतरी होने का है। अपनी आर्थिक स्थिति को व्यवस्थित रखने के लिये बेहतर है कि आवश्यक वस्तुओं पर खर्च करें।

मीन – मीन राशि वाले जातकों के लिये 7 अगस्त को लगने वाला चंद्रग्रहण लाभदायक रहने के आसार हैं। 

अपनी कुंडली के अनुसार चंद्र दोष से मुक्ति के उपाय जानने के लिये परामर्श करें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। पंडित जी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

चंद्र ग्रहण 2017   |   चंद्र ग्रह - कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा   |   चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...