चंद्र ग्रहण का राशिनुसार जानें क्या होगा असर?

ग्रहण मात्र एक खगोलीय घटना भर नहीं है बल्कि हिंदू शास्त्रों में धार्मिक रूप से भी इनकी अहमियत खास मानी जाती है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार तो ग्रहण के दौरान शुभ कार्यों के करने की मनाही भी होती है। इस कारण साल में आने वाले चंद्र और सूर्यग्रहण पर सब की नज़र होती है। कब यह ग्रहण लगेंगें कितनी बार लगेंगें इसकी भी सबको ख़बर होती है। साल 2020 का पहला चंद्रग्रहण पौष पूर्णिमा को लग रहा है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह तिथि 10 जनवरी 2020 को है। आइये जानते हैं ज्योतिषाचार्यों के अनुसार वर्ष के पहले चंद्रग्रहण का क्या प्रभाव पड़ेगा।

 

चंद्र ग्रहण 2020

10 जनवरी 2020 को लगने वाला चंद्रग्रहण है। यहां पर चंद्रमा जैसा कि आप जानते हैं कि चंद्रमा मन का कारक होता है। ऐसे में इस पर ग्रहण लगना आपके व्यक्तित्व व जीवन पर कितना प्रभावी होने वाला है। आइये जानते हैं सभी 12 राशियों पर इस चंद्र ग्रहण (chandra grahan) का क्या प्रभाव पड़ेगा।

 

अपनी कुंडली के अनुसार चंद्र दोष से मुक्ति के उपाय जानने के लिये परामर्श करें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। पंडित जी से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

 

 


राशिनुसार चंद्रग्रहण का प्रभाव

 

मेष – मेष जातकों के लिये चंद्र ग्रहण आर्थिक रुप से लाभप्रद कहा जा सकता है। आपको भाग्य के भरोसे नहीं बैठना चाहिए। कर्म करने में विश्वास रखें। इससे आपको लाभ होगा। कामकाज का दबाव रहेगा लेकिन कार्योन्नति की उम्मीद भी आप कर सकते हैं। हालांकि परिवार में किसी बात पर विवाद हो सकता है, माता की सेहत के प्रति भी आपको ध्यान देने की आवश्यकता पड़ सकती है। किसी बहुत ही करीबी दोस्त से थोड़ा सावधान रहने की आवश्यकता भी है। 

 

 

 

वृष – वृषभ राशि वाले जातकों के लिये चंद्र ग्रहण सेहत के प्रति सचेत रहने का ईशारा कर रहा है। परिवार में भी किसी पितातुल्य व्यक्ति से मतभेद हो सकते हैं उनकी सेहत को लेकर भी आप चिंतित रह सकते हैं। छोटे भाई बहनों को लेकर आप थोड़ा चिंतित हो सकते हैं लेकिन साथ ही उनकी कामयाबी संबंधी शुभ समाचार भी मिल सकता है विशेषकर करियर व शिक्षा के मामले में सफलता का समाचार प्राप्त कर सकते हैं। सुदूरवर्ती क्षेत्र (विदेश) में संभावनाएं तलाश रहे छोटे भाई बहनों को विशेष रुप से सफलता मिल सकती है। आपके लिये सलाह है कि वाद-विवाद से दूर रहने का प्रयास करें।

 

 

 

मिथुन – चंद्र ग्रहण आपके लिये दांपत्य जीवन में उतार-चढ़ाव आने का संकेत भी दे रहा है। अपने स्वास्थ्य का भी विशेष रुप से ध्यान रखने की आवश्यकता है। शारीरिक कष्ट मिल सकता है। अचानक से किसी यात्रा पर भी आपको जाना पड़ सकता है अपने आप को इस स्थिति के लिये तैयार रखें। ग्रहण के दिन दूध का सेवन न करें तो बेहतर रहेगा। गले संबंधी रोगों के प्रति भी सचेत रहें।

 

 

 

कर्क – चंद्रग्रहण आपके लिये विशेष रुप से सतर्क रहने का समय रहेगा। मानसिक तौर पर इस समय आप तनावग्रस्त रह सकते हैं। गुप्त शत्रु से धन की हानि भी आपको उठानी पड़ सकती है। कामकाज संबंधी चिंताएं भी बढ़ने के आसार हैं। अचानक से कहीं स्थानातंरण के आदेश मिल सकते हैं। जहां तक संभव हो यात्रा से बचने का प्रयास करें। गुप्त रोग की संभावनाएं भी बन रही हैं सावधान रहें। 

 

 

 

सिंह –  आप संतान, शिक्षा व रिलेशनशिप को लेकर चिंतित रह सकते हैं। व्यर्थ की बातों को लेकर मानसिक रूप से भी आप परेशान रह सकते हैं। परिवार में भी परिजनों के साथ आपसी मनमुटाव बढ़ने के आसार हैं। यात्रा के योग भी आपके लिये बन रहे हैं लेकिन जहां तक संभव हो यात्रा टालने का प्रयास करें।

 

 

 

कन्या –  ग्रहण आपके लिये मिले जुले परिणाम लेकर आ सकता है। विशेषकर सुख-सुविधाओं की कमी आप महसूस कर सकते हैं। माता के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं बन सकती हैं। जो जातक लंबे समय से विदेश यात्रा के इच्छुक हैं उनके लिये यह बहुत सही समय है। आपके लिये सलाह है कि दुर्व्यस्नों के सेवन से थोड़ा बचकर रहें। कार्यस्थल पर भी समय आपको साथ देगा। परंतु आपको कार्य करने की आवश्यकता है।

 

 

 

तुला – तुला राशि वालों के लिये चंद्रमा को ग्रहण स्वास्थ्य के मामले में आपके लिये थोड़ा परेशानी वाला रह सकता है। सेहत का ध्यान रखें। किसी बात को लेकर भय का वातावरण भी आप अपने आस पास महसूस कर सकते हैं। आत्मबल में कमी महसूस कर सकते हैं। महत्वपूर्ण निर्णय ग्रहण के दौरान न लें। पारिवारिक जीवन भी चुनौतिपूर्ण रह सकता है। 


 

 

 

वृश्चिक – वृश्चिक राशि वालों के लिये भी चंद्र ग्रहण (chandra grahan 2020) धन हानि के संकेत  दे रहा है आपको धन संबंधित फैसले सोच समझकर लें। जोखिम वाले क्षेत्र में धन निवेश न करें। पैसों के लेन-देने से भी इस समय बचकर रहें। रोमांटिक जीवन में भी ग्रहण लग सकता है। दापंत्य जीवन भी अविश्वास भरा रहने के आसार हैं। पढ़ाई लिखाई के मामलों में भी अड़चनें पैदा हो सकती हैं। आपके लिये सलाह है कि जहां तक हो सके बेवजह विवादों से बचें व धार्मिक कार्यों में रूचि लें। 

 

 

 

धनु –  यह चंद्रग्रहण आपके लिये हानिकारक रह सकता है। विशेषकर शारीरिक कष्ट की संभावनाएं बढ़ रही हैं। व्यावसायिक रूप से भी आपको अपने प्रतिस्पर्धियों से चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। हो सकता है इस समय आपको आर्थिक तौर पर भी हानि उठानी पड़े। आपके खर्चों में भी बढ़ोतरी होने के आसार हैं। कानूनी विवादों से थोड़ा दूर रहने का प्रयास करें। 

 

 

 

मकर – मकर जातकों के लिये यह चंद्र ग्रहण (chandra grahan) पीड़ा देने वाला रह सकता है। विशेषकर धन निवेश के मामले में बचकर रहें हानि उठानी पड़ सकती है। खर्चों में भी बढ़ोतरी हो सकती है। रोमांटिक जीवन में आपकी खुशियों को ग्रहण लग सकता है। विवाहित दंपतियों के बीच जहां वाद-विवाद की संभावनाएं बढ़ सकती हैं वहीं अविवाहित प्रेमी जातक भी एक दूसरे को शक की निगाह से देख सकते हैं। जिन जातकों की जन्मकुंडली में भी यही ग्रहण योग है उन्हें विशेष रुप से सचेत रहने की आवश्यकता है, उनके लिये शादी का बंधन टूटने की कगार पर पंहुच सकता है। 

 

 

 

कुंभ – चंद्रग्रहण के दौरान कुंभ जातकों को हो सकता है कि अपेक्षित लाभ न मिले। आपको नुक्सान उठाना पड़ सकता है। अपने शत्रुओं से सावधान रहने की आवश्यकता है। व्यवसाय में भी प्रतिस्पर्धी आपकी परेशानियों को बढ़ा सकते हैं। इस दौरान यात्रा का जोखिम न ही उठाएं तो आपके लिये बेहतर रहेगा। आर्थिक तौर पर भी किसी तरह का निवेश न करें धन हानि के योग हैं। सेहत का ध्यान व नाजुक अंगों को बचाकर रखें। नशीले पदार्थों के सेवन से बचें।

 

 

 

मीन – मीन राशि वाले जातकों के लिये कर्म भाव में यह ग्रहण लग रहा है। करियर के मामले में थोड़ा सचेत रहें। कामकाज सावधानी से करें। आर्थिक तौर पर आपके खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है, आमदनी से अधिक खर्च आपकी चिंता को बढ़ा सकता है। कामकाज में देरी भी आपके मानसिक तनाव को बढ़ा सकती है। 

 

यह भी पढ़ें: चंद्र ग्रहण 2020   |   चंद्र ग्रह - कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा   |   चंद्र दोष – कैसे लगता है चंद्र दोष क्या हैं उपाय

 

 

एस्ट्रो लेख

वैशाख 2020 – वै...

 वैशाख भारतीय पंचांग के अनुसार वर्ष का दूसरा माह है। चैत्र पूर्णिमा के बाद आने वाली प्रतिपदा से वैसाख मास का आरंभ होता है। धार्मिक और सांस्कृतिक तौर पर वैशाख महीने का बहुत अधिक महत...

और पढ़ें ➜

नवरात्र में कन्...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में माता का रूप बता...

और पढ़ें ➜

माँ कालरात्रि -...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेक...

और पढ़ें ➜

माँ महागौरी - न...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी पाप धुल जात...

और पढ़ें ➜