जानिए क्यों नहीं हो पा रहा आपका विवाह?

क्या आपका विवाह नहीं हो पा रहा है? आपके विवाह में देरी हो रही है? बात बनते बनते बिगड़ जा रहा है? तो यह लेख आपको पूरा पढ़ना चाहिए। क्योंकि आज हम इस लेख में विवाह से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों पर चर्चा करने जा रहे हैं। यदि आप अपने रिश्ते की बात को लेकर किसी संशय में हैं तो लेख आपके इस संशय को दूर करने में आपकी सहायता करेगा। साथ ही आप विवाह में हो रही देरी के लिए स्वयं को जिम्मेदार मान रहे हैं तो हम आपको बता दें कि इस में आपकी कोई गलती नहीं हैं। हां यदि गलती कहीं हो सकती है तो वह आपकी कुंडली में ग्रह की स्थिति में हो सकती है। जी हां आपकी कुंडली का सीधा संबंध आपके विवाह से है। यदि कुंडली में किसी प्रकार का दोष विद्धमान है तो विवाह में देरी होती है। यदि आप भी इस समस्या का सामना कर रहे हैं तो आपको अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से उचित सलाह लेनी चाहिए। देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिए यहां क्लिक करें। यकीनन आप ज्योतिषाचार्य से परामर्श कर अपने इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

विवाह में क्यों होती है समस्या? क्या कहना है ज्योतिषाचार्यों का?

ज्योतिषियों का मानना है कि विवाह में देरी होने का मुख्य कारण व्यक्ति की कुंडली में किसी ग्रह का दोष होना या ग्रह की दिशा व दशा का बिगड़ना है। इसके अलावा ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि शादी में समस्या खड़ी होने का कारण व्यक्ति द्वारा सही समय पर विवाह न करना भी है यानी की कुंडली में विवाह योग बनने के दौरान विवाह न करना। ज्योतिषियों का कहना है कि कुंडली में विवाह योग विद्धमान होने के समय यदि व्यक्ति विवाह नहीं करता है तो उससे विवाह में देरी होती है।

यह भी पढ़ें – जानें वो अचूक उपाय जिनसे हो सकता है शीघ्र विवाह!

वर्तमान में युवक व युवतियां एक सफल करियर बनाने के लिए विवाह देर से करने का निर्णय लेते हैं जो आगे चलकर इनके विवाह में देरी करवाता है। एक बार कुंडली में विवाह योग समाप्त होने के बाद दोबारा इस योग का निर्माण होने में काफी समय लगता है। कहते हैं कि जब चिड़ियां चुग गई खेत तो पछताए क्या फायदा? इसलिए उचित समय पर व्यक्ति को विवाह करना चाहिए। परंतु इसका मतलब यह नहीं है कि आप अपना करियर न बनाएं। करियर पर भी आपको ध्यान देने की आवश्यकता है। जिससे आपका वैवाहिक जीवन सुखमय हो।

कुंडली में है दोष?, तो विवाह में होती है देरी!

जैसा कि हम बता चुके हैं कि कुंडली में दोष होने पर भी विवाह में समस्या खड़ी होती है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार ग्रह, नक्षत्र की स्थिति, दिशा व दशा का हम पर सीधा असर पड़ता है। जिसके चलते हमारे जीवन में उतार-चढ़ाव का समय आता है। कुंडली में सभी ग्रह सही स्थिति में न हो तो हमारे जीवन में कोई न कोई परेशानी आती रहती है। इसी में से एक परेशानी है विवाह में देरी होना। परंतु कुंडली में किस दोष के होने से विवाह में देरी होती है। इस पर ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि ऐसे कई ग्रहों के संयोग हैं जिनके कारण विवाह में परेशानी होती है। ज्योतिषियों की माने तो कुंडली में यदि परिवार के घर में कोई पाप ग्रह विराजमान है या उसकी दृष्टि इस घर पर पड़ रही है तो विवाह में देरी होना तय है। आपके विवाह में भी हो रही है देरी तो हो सकता है कुंडली में दोष, निवारण के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से। एस्ट्रोलॉजर से बात कर आप अपने कुंडली में विद्धामान दोष का आसानी से पता लगा सकेंगे। दोष का पता चलते ही आप इसके निवारण के लिए तुरंत ज्योतिषाचार्य से उपाय जान सकते हैं। ज्योतिष द्वारा बताए गए उपाय से आप अपने विवाह में आ रही परेशानी को दूर करने में सफल होंगे। इसलिए आपको बिना वक्त जाया करें अभी ज्योतिषीय परामर्श लेना चाहिए।

एस्ट्रो लेख

अक्षय तृतीया 20...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस तिथि को हिन्दू पंचांग के अनुसार अत्यंत शु...

और पढ़ें ➜

वैशाख अमावस्या ...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग के अनुसार यह मास के प्रथम पखवाड़े का अंत...

और पढ़ें ➜

परशुराम जयंती 2...

भगवान परशुराम वैशाख शुक्ल तृतीया के दिन अवतरित हुए भगवान विष्णु के छठे अवतार थे। इन्हें विष्णु का आवेशावतार भी कहा जाता है क्योंकि इनके क्रोध की कोई सीमा नहीं थी। अपने पिता की हत्य...

और पढ़ें ➜

अक्षय तृतीया पर...

अक्षय तृतीया को विभिन्न कारणों से भारत में धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन द्वापर युग समाप्त होकर त्रेता युग की शुरुआत हुई थी। यह दिन भगवान विष्णु के अवतार परशुराम की जन्म दिवस के ...

और पढ़ें ➜