नक्षत्र


पंचांग में नक्षत्र का विशेष स्थान है। वैदिक ज्योतिष में किसी भी शुभ कार्य को करने से पूर्व नक्षत्रों को देखा जाता है। इसके अतिरिक्त नक्षत्र व्यक्ति के जीवन पर भी अपना प्रभाव डालता है। जिससे जातक के गुण व अवगुण निर्धारित होते हैं। आगे हम नक्षत्र की गणना कैसे की जाती है, नक्षत्र की पौराणिक मान्यता क्या है, नक्षत्रों का वर्गीकरण कैसे किया गया है, नक्षत्र कितने प्रकार के हैं और पंचांग में इसका क्या महात्व है, इसके बारे में जानेंगे।

आज का नक्षत्र - Aaj Ka Nakshatra


नक्षत्र की गणना
17 July 2019 |
Nakshatra -

नक्षत्र की गणना


वैदिक ज्योतिष के अनुसार राशि चक्र 360 अंश का है। चूंकि इसमें 27 नक्षत्र (नक्षत्र) हैं, प्रत्येक नक्षत्र का मान 13 अंश और 20 मिनट है जब यह निर्धारित प्रारंभिक बिंदु से मापा जाता है। इसके अलावा, प्रत्येक नक्षत्र को पाद या चरण में विभाजित किया जाता है और प्रत्येक नक्षत्र में 4 पाद होते हैं।

नक्षत्र की पौराणिक मान्यता


हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, सत्ताईस नक्षत्रों को प्रजापति दक्ष की बेटी माना जाता है और चंद्रमा इन सभी से विवाहित हैं। यही कारण है कि चंद्र माह लगभग 27 दिनों का होता है (नक्षत्रों की संख्या के बराबर) क्योंकि चंद्रमा प्रत्येक नक्षत्र में लगभग एक दिन बिताता है।

नक्षत्रों का वर्गीकरण


नक्षत्रों को विभिन्न तरीकों से वर्गीकृत किया गया है। विभाजन के समय नक्षत्र के मूल गुण, खगोलीय नाम और श्रेणियों के अनुसार, नक्षत्र के स्वामी देवता साथ ही नक्षत्र के स्वामी ग्रह और दशा, उनके लिंग और वर्ण को ध्यान में रखा जाता है। विशेष विश्लेषण करते समय ज्योतिषाचार्य इन नक्षत्रों के प्राथमिक गुणों को ध्यान में रखते हैं। जिसमें काम शामिल हैं; जो कामुक इच्छाओं का प्रतिनिधित्व करता है, अर्थात; जो भौतिक इच्छाओं का प्रतिनिधित्व करता है।
धर्म - जो आध्यात्मिक सिद्धांतों के आधार पर जीवन जीने का प्रतिनिधित्व करता है, और अंत में मोक्ष - जो जन्म और मरण के चक्र से मुक्ति का प्रतिनिधित्व करता है।

नक्षत्र के प्रकार



कुल 27 प्रकार के नक्षत्र हैं, जिनके अपने देवता व स्वामी ग्रह हैं।
  • अश्विनी - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह केतु है। अश्विन नक्षत्र पर अश्विनी देवता बंधुओं का स्वामित्व है।
  • भरणी - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह शुक्र और नक्षत्र देवता यम हैं।
  • कृतिका - कृतिका नक्षत्र का स्वामी ग्रह सूर्य है और नक्षत्र देवता अग्नी हैं।
  • रोहिणी - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह चंद्रमा है। बात करे इस नक्षत्र के देवता की तो वे भगवान ब्रह्मा हैं।
  • मृगशिरा - मंगल इसका स्वामी ग्रह है और नक्षत्र पर भगवान चंद्रमा का अधिकार है।
  • आर्द्रा - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह राहु है। तो नक्षत्र देवता शिव हैं।
  • पुनर्वसु - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बृहस्पति और देवता भगवान आदित्य हैं।
  • पुष्य - शनि इसका स्वामी ग्रह है। तो वहीं बृहस्पति देव इस नक्षत्र के देवता हैं।
  • अश्लेषा - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बुध और देवताता नाग हैं।
  • मघा - केतु इसका स्वामी ग्रह हैं और देवता पितर हैं।
  • पूर्वाफाल्गुनी - इस के स्वामी ग्रह शुक्र और नक्षत्र के देवता भगा हैं।
  • उत्तराफाल्गुनी - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह सूर्य और देवता भगवान आर्यमन हैं।
  • हस्त - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह चंद्रमा है और नक्षत्र पर भगवान आदित्य का शासन है।
  • चित्रा - इसका स्वामी ग्रह मंगल है। इस नक्षत्र पर देवता तेजस्वी का शासन है।
  • स्वाति - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह राहु है जबकि नक्षत्र देवता पवनदेव हैं।
  • विशाखा - इस नक्षत्र पर बृहस्पति ग्रह का स्वामीत्व है और नक्षत्र देवता इंद्रदेव व अग्निदेव हैं।
  • अनुराधा - शनि इसका स्वामी ग्रह है। नक्षत्र देवता मित्र हैं।
  • ज्येष्ठ - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बुध है और नक्षत्र देवता भगवान इंद्र हैं।
  • मूल / मूला - इस नक्षत्र पर केतु ग्रह का स्वामीत्व है। मूल नक्षत्र पर नैऋति देव का शासन है।
  • पूर्वाषाढ़ा - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह शुक्र है। जबकि इस नक्षत्र के देवता जल हैं।
  • उत्तराषाढ़ा - इस नक्षत्र पर सूर्य ग्रह का स्वामीत्व है। जबकि नक्षत्र देवता दस विश्वदेवा हैं।
  • श्रवण - इस राशि का स्वामी ग्रह चंद्रमा है और नक्षत्र देवता भगवान विष्णु हैं।
  • धनिष्ठा - यह नक्षत्र मंगल ग्रह द्वारा शासित है जबकि इस नक्षत्र के देवता अष्ट वसु हैं।
  • शतभिषा - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह राहु है और स्वामी देवता वरूणदेव हैं।
  • पूर्वाभाद्रपद - इस नक्षत्र पर बृहस्पति ग्रह का स्वामीत्व है और नक्षत्र देवता अजैकपाद हैं।
  • उत्तराभाद्रपद - यह नक्षत्र शनि ग्रह द्वारा शासित है। जबकि इस नक्षत्र पर देवता अहिर्बुध्नय का शासन है।
  • रेवती - इस नक्षत्र का स्वामी ग्रह बुध ग्रह है और देवता भगवान पूषा हैं।

कछ ज्योतिषी 28 वें नक्षत्र में भी विश्वास रखते हैं, जो अभिजीत नक्षत्र है। माना जाता है इसके स्वामी ग्रह सूर्य और देवता भगवान ब्रह्मा हैं। परंतु सामान्यतः 27 नक्षत्रों को ही माना जाता है।

पंचांग में नक्षत्रों का महत्व
नक्षत्र एक तारामंडल हैं और यह शब्द "आकाश मानचित्र" में अनुवाद करता है। नक्षत्रों को किसी व्यक्ति के जन्म के समय किसी विशेष राशि में चंद्रमा के अंश की मदद से पाया जा सकता है। वैदिक ज्योतिष किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व को पढ़ने के लिए सूर्य राशि की तुलना में जन्म नक्षत्र (चंद्रमा का नक्षत्र) पर अधिक ध्यान केंद्रित करता है। ग्रह के नक्षत्र पदों का अध्ययन जन्म कुंडली में किया जाता है, इस प्रकार यह वैदिक ज्योतिष में राशि चिन्हों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण है।

ज्योतिष शास्त्र में नक्षत्र
वैदिक ज्योतिषी कुंडली मिलान के दौरान नक्षत्रों को बेहद महत्वपूर्ण मानते हैं। वैदिक ज्योतिषी सूर्य राशि के बजाय जन्म नक्षत्र (चंद्र नक्षत्र) के माध्यम से किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व का विश्लेषण करना पसंद करते हैं। सूर्य लगभग एक माह बाद राशि बदलते हैं, जबकि चंद्रमा हर 2-3 दिन में अपना राशि बदलते हैं। यही कारण है कि चंद्रमा पर आधारित भविष्यवाणियां अधिक सटीक और अधिक विश्वसनीय हैं, क्योंकि हमारे विचार और परिस्थितियां भी अक्सर बदलती रहती हैं।

अश्विनी भरणी कृतिका रोहिणी म्रृगशीर्ष आर्द्रा पुनर्वसु पुष्य अश्लेषा मघा मूल पूर्वाफाल्गुनी उत्तराफाल्गुनी हस्त चित्रा स्वाति विशाखा अनुराधा ज्येष्ठ पूर्वाषाढ़ा उत्तराषाढ़ा रेवती श्रवण धनिष्ठा शतभिषा पूर्वाभाद्रपद उत्तराभाद्रपद


आज का पंचांग

आज का पंचांग

आज का पंचांग यानि दैनिक पंचांग अंग्रेंजी में Daily Panchang भी कह सकते हैं। दिन की शुरुआत अच्छी हो, जो ...

और पढ़ें
आज की तिथि

आज की तिथि

तिथि पंचांग का सबसे मुख्य अंग है यह हिंदू चंद्रमास का एक दिन होता है। तिथि के आधार पर ही सभी...

और पढ़ें
आज का दिन

आज का दिन

सप्ताह के प्रत्येक दिवस को वार के रूप में जाना जाता है। वार पंचांग के गठन में अगली कड़ी है। एक सूर्योदय से ...

और पढ़ें
आज का शुभ मुहूर्त

आज का शुभ मुहूर्त

पंच मुहूर्त में शुभ मुहूर्त, या शुभ समय, वह समय अवधि जिसमें ग्रह और नक्षत्र मूल निवासी के लिए अच्छे या...

और पढ़ें
भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

अब एस्ट्रोयोगी पर वैदिक ज्योतिष, टेरो, न्यूमेरोलॉजी एवं वास्तु से जुड़ी देश भर की जानी-मानी हस्तियों से परामर्श करें।

परामर्श करें
आज का चौघड़िया

आज का चौघड़िया

चौघड़िया वैदिक पंचांग का एक रूप है। यदि कभी किसी कार्य के लिए शुभ मुहूर्त नहीं निकल पा रहा हो या कार्य को ...

और पढ़ें
आज का राहु काल

आज का राहु काल

राहुकाल भारतीय वैदिक पंचांग में एक विशिष्ट अवधि है जो दैनिक आधार पर होती है। यह समय किसी भी विशेष...

और पढ़ें
आज का शुभ होरा

आज का शुभ होरा

वैदिक ज्योतिष दिन के प्रत्येक घंटे को होरा के रूप में परिभाषित करता है। पाश्चात्य घड़ी की तरह ही, हिंदू वैदिक ...

और पढ़ें
आज का शुभ योग

आज का शुभ योग

पंचांग की रचना में योग का महात्वपूर्ण स्थान है। पंचांग योग ज्योतिषाचार्यों को सही तिथि व समय की गणना करने में...

और पढ़ें
आज के करण

आज के करण

वैदिक ज्योतिष के अनुसार व्रत, पर्व को निर्धारित करने में पंचांग और मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान है। इनके बिना, हिंदू ...

और पढ़ें
पर्व और त्यौहार

पर्व और त्यौहार

त्यौहार हमारे जीवन का अहम हिस्सा हैं, त्यौहारों में हमारी संस्कृति की महकती है। त्यौहार जीवन का उल्लास हैं त्यौहार...

और पढ़ें
राशि

राशि

वैदिक ज्योतिष में राशि का विशेष स्थान है ही साथ ही हमारे जीवन में भी राशि महत्वपूर्ण स्थान रखती है। ज्योतिष...

और पढ़ें


Chat Now for Support