Skip Navigation Links

pitru paksha

पितृ-पक्ष 2018


हिंदू धर्म में वैदिक परंपरा के अनुसार अनेक रीति-रिवाज़, व्रत-त्यौहार व परंपराएं मौजूद हैं। हिंदूओं में जातक के गर्भधारण से लेकर मृत्योपरांत तक अनेक प्रकार के संस्कार किये जाते हैं। अंत्येष्टि को अंतिम संस्कार माना जाता है। लेकिन अंत्येष्टि के पश्चात भी कुछ ऐसे कर्म होते हैं जिन्हें मृतक के संबंधी विशेषकर संतान को करना होता है। श्राद्ध कर्म उन्हीं में से एक है। वैसे तो प्रत्येक मास की अमावस्या तिथि को श्राद्ध कर्म किया जा सकता है लेकिन भाद्रपद मास की पूर्णिमा से लेकर आश्विन मास की अमावस्या तक पूरा पखवाड़ा श्राद्ध कर्म करने का विधान है। इसलिये अपने पूर्वज़ों को के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के इस पर्व को श्राद्ध कहते हैं।

 

पितृ पक्ष का महत्व

पौराणिक ग्रंथों में वर्णित किया गया है कि देवपूजा से पहले जातक को अपने पूर्वजों की पूजा करनी चाहिये। पितरों के प्रसन्न होने पर देवता भी प्रसन्न होते हैं। यही कारण है कि भारतीय संस्कृति में जीवित रहते हुए घर के बड़े बुजूर्गों का सम्मान और मृत्योपरांत श्राद्ध कर्म किये जाते हैं। इसके पिछे यह मान्यता भी है कि यदि विधिनुसार पितरों का तर्पण न किया जाये तो उन्हें मुक्ति नहीं मिलती और उनकी आत्मा मृत्युलोक में भटकती रहती है। पितृ पक्ष को मनाने का ज्योतिषीय कारण भी है। ज्योतिषशास्त्र में पितृ दोष काफी अहम माना जाता है। जब जातक सफलता के बिल्कुल नज़दीक पंहुचकर भी सफलता से वंचित होता हो, संतान उत्पत्ति में परेशानियां आ रही हों, धन हानि हो रही हों तो ज्योतिषाचार्य पितृदोष से पीड़ित होने की प्रबल संभावनाएं बताते हैं। इसलिये पितृदोष से मुक्ति के लिये भी पितरों की शांति आवश्यक मानी जाती है।

 

किस दिन करें पूर्वज़ों का श्राद्ध

वैसे तो प्रत्येक मास की अमावस्या को पितरों की शांति के लिये पिंड दान या श्राद्ध कर्म किये जा सकते हैं लेकिन पितृ पक्ष में श्राद्ध करने का महत्व अधिक माना जाता है। पितृ पक्ष में किस दिन पूर्वज़ों का श्राद्ध करें इसके लिये शास्त्र सम्मत विचार यह है कि जिस पूर्वज़, पितर या परिवार के मृत सदस्य के परलोक गमन की तिथि याद हो तो पितृपक्ष में पड़ने वाली उक्त तिथि को ही उनका श्राद्ध करना चाहिये। यदि देहावसान की तिथि ज्ञात न हो तो आश्विन अमावस्या को श्राद्ध किया जा सकता है इसे सर्वपितृ अमावस्या भी इसलिये कहा जाता है। समय से पहले यानि जिन परिजनों की किसी दुर्घटना अथवा सुसाइड आदि से अकाल मृत्यु हुई हो तो उनका श्राद्ध चतुर्दशी तिथि को किया जाता है। पिता के लिये अष्टमी तो माता के लिये नवमी की तिथि श्राद्ध करने के लिये उपयुक्त मानी जाती है।

एस्ट्रोयोगी के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यो से परामर्श करने के लिए यहाँ क्लिक करें ।



पितृ पक्ष पर्व तिथि व मुहूर्त 2018



LeftArrow RightArrow
  • पितृ पक्ष 2016

    16 से 30 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध - 16 सितंबर 2016

    सर्वपितृ अमावस्या - 30 सितंबर 2016

  • पितृ पक्ष 2017

    5 से 19 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध - 5 सितंबर 2017

    सर्वपितृ अमावस्या – 19 सितंबर 2017

  • पितृ पक्ष 2018

    24 सितंबर से 8 अक्तूबर

    पूर्णिमा श्राद्ध - 24 सितंबर 2018

    सर्वपितृ अमावस्या - 8 अक्तूबर 2018

  • पितृ पक्ष 2019

    13 से 28 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 13 सितंबर 2019

    सर्वपितृ अमावस्या – 28 सितंबर 2019

  • पितृ पक्ष 2020

    1 से 17 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 1 सितंबर 2020

    सर्वपितृ अमावस्या – 17 सितंबर 2020

  • पितृ पक्ष 2021

    20 सितंबर से 6 अक्तूबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 20 सितंबर 2021

    सर्वपितृ अमावस्या – 6 अक्तूबर 2021

  • पितृ पक्ष 2022

    10 से 25 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 10 सितंबर 2022

    सर्वपितृ अमावस्या – 25 सितंबर 2022

  • पितृ पक्ष 2023

    29 सितंबर से 14 अक्तूबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 29 सितंबर 2023

    सर्वपितृ अमावस्या – 14 अक्तूबर 2023

  • पितृ पक्ष 2024

    17 सितंबर से 2 अक्तूबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 17 सितंबर 2024

    सर्वपितृ अमावस्या – 2 अक्तूबर 2024

  • पितृ पक्ष 2025

    7 से 21 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 7 सितंबर 2025

    सर्वपितृ अमावस्या – 21 सितंबर 2025

  • पितृ पक्ष 2026

    26 सितंबर से 10 अक्तूबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 26 सितंबर 2026

    सर्वपितृ अमावस्या – 10 अक्तूबर 2026

  • पितृ पक्ष 2027

    15 से 29 सितंबर

    पूर्णिमा श्राद्ध – 15 सितंबर 2027

    सर्वपितृ अमावस्या – 29 सितंबर 2027


पितृ-पक्ष 2018 सम्बंधित एस्ट्रो लेख