जन्माष्टमी 2022



जन्माष्टमी पर्व तिथि व मुहूर्त 2022

जन्माष्टमी 2022

18 अगस्त

निशिथ पूजा– 00:02 से 00:47

पारण– 22:58 के बाद

रोहिणी समाप्त- रोहिणी नक्षत्र रहित जन्माष्टमी

अष्टमी तिथि आरंभ – 21:20 (18 अगस्त)

अष्टमी तिथि समाप्त – 22:58 (19 अगस्त)

जन्माष्टमी 2023

6 सितंबर

निशिथ पूजा– 23:56 से 00:42

पारण– 16:13 (7 अगस्त) के बाद

रोहिणी समाप्त- 10:24

अष्टमी तिथि आरंभ – 15:37 (6 अगस्त)

अष्टमी तिथि समाप्त – 16:13 (7 अगस्त)

जन्माष्टमी 2024

26 अगस्त

निशिथ पूजा– 00:00 से 00:45

पारण– 15:37 (27 अगस्त) के बाद

रोहिणी समाप्त- 15:37

अष्टमी तिथि आरंभ – 03:38 (26 अगस्त)

अष्टमी तिथि समाप्त – 02:19 (27 अगस्त)

जन्माष्टमी 2025

15 अगस्त

निशिथ पूजा– 00:03 से 00:47

पारण– 21:33 (16 अगस्त) के बाद

रोहिणी समाप्त- रोहिणी नक्षत्र रहित जन्माष्टमी

अष्टमी तिथि आरंभ – 23:49 (15 अगस्त)

अष्टमी तिथि समाप्त – 21:33 (16 अगस्त)

जन्माष्टमी 2026

4 सितंबर

निशिथ पूजा– 23:57 से 00:43

पारण– 06:04 सूर्योदय के पश्चात

रोहिणी समाप्त- सूर्योदय से पहले

अष्टमी तिथि आरंभ – 02:24 (4 सितंबर)

अष्टमी तिथि समाप्त – 00:13 (5 सितंबर)

जन्माष्टमी 2027

25-08-

निशिथ पूजा– रात 12:01 से 12:45 तक

पारण– सुबह 11:42 (26-08-) के बाद

रोहिणी समाप्त-सुबह 11:42

अष्टमी तिथि आरंभ – रात 08:24 (24-08-2027) से

अष्टमी तिथि समाप्त – शाम 07:19 (25-08-2027) तक

जन्माष्टमी 2028

13-08-

निशिथ पूजा– रात 12:04 से रात 12:48 तक

पारण– सुबह 05:50 (14-08-) के बाद

अष्टमी तिथि आरंभ – सुबह 04:42 (13-08-2028) से

अष्टमी तिथि समाप्त – सुबह 05:36 (14-08-2028) तक

जन्माष्टमी 2029

01-09-

निशिथ पूजा– रात 11:58 से रात 12:44 तक

पारण– सुबह 06:00 (02-09-) के बाद

रोहिणी समाप्त-सूर्योदय से पूर्व

अष्टमी तिथि आरंभ –रात 09:00 (31-08-2029) से

अष्टमी तिथि समाप्त – रात 10:56 (01-09-2029) तक

जन्माष्टमी 2030

21-08-

निशिथ पूजा– रात 12:02 से 12:46 तक

पारण– 05:54 (22-08-) के बाद

रोहिणी समाप्त-सूर्योदय से पूर्व

अष्टमी तिथि आरंभ – शाम 05:31 (20-08-2030) से

अष्टमी तिथि समाप्त – रात 08:00 (21-08-2030) तक

जन्माष्टमी 2031

09-08-

निशिथ पूजा– रात 12:05 से 12:48 तक

पारण– शाम 06:31 (10-08-) के बाद

रोहिणी समाप्त-सूर्योदय से पूर्व

अष्टमी तिथि आरंभ – शाम 05:25 (09-08-2031) से

अष्टमी तिथि समाप्त – शाम 06:31 (10-08-2031) तक

जन्माष्टमी 2032

28-08-

निशिथ पूजा– रात 12:00 से 12:45 तक

पारण– सुबह 05:58 (29-08-) के बाद

रोहिणी समाप्त-सूर्योदय से पूर्व

अष्टमी तिथि आरंभ – दोपहर 01:06 (27-08-2032) से

अष्टमी तिथि समाप्त – दोपहर 01:10 (28-08-2032) तक

देवताओं में भगवान श्री कृष्ण विष्णु के अकेले ऐसे अवतार हैं जिनके जीवन के हर पड़ाव के अलग रंग दिखाई देते हैं। उनका बचपन लीलाओं से भरा पड़ा है। उनकी जवानी रासलीलाओं की कहानी कहती है, एक राजा और मित्र के रूप में वे भगवद् भक्त और गरीबों के दुखहर्ता बनते हैं तो युद्ध में कुशल नितिज्ञ। महाभारत में गीता के उपदेश से कर्तव्यनिष्ठा का जो पाठ भगवान श्री कृष्ण ने पढ़ाया है आज भी उसका अध्ययन करने पर हर बार नये अर्थ निकल कर सामने आते हैं। भगवान श्री कृष्ण के जन्म लेने से लेकर उनकी मृत्यु तक अनेक रोमांचक कहानियां है। इन्ही श्री कृष्ण के जन्मदिन को हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले और भगवान श्री कृष्ण को अपना आराध्य मानने वाले जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं। इस दिन भगवान श्री कृष्ण की कृपा पाने के लिये भक्तजन उपवास रखते हैं और श्री कृष्ण की पूजा अर्चना करते हैं।

 

कब हुआ श्री कृष्ण का जन्म

जन्माष्टमी भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव को ही कहा जाता है। पौराणिक ग्रंथों के मतानुसार श्री कृष्ण का जन्म का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को रोहिणी नक्षत्र में मध्यरात्रि के समय हुआ था। अत: भाद्रपद मास में आने वाली कृष्ण पक्ष की अष्टमी को यदि रोहिणी नक्षत्र का भी संयोग हो तो वह और भी भाग्यशाली माना जाता है इसे जन्माष्टमी के साथ साथ जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।

पर्व को और खास बनाने के लिये गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

एस्ट्रो लेख

दही हांडी - किशन कन्हैया को समर्पित है ये उत्सव

Janmashtami Puja - कैसे करें जन्माष्टमी की पूजा, जानिए राशिनुसार ?

निधिवन में आज भी रास रचाते हैं श्री राधा-कृष्ण

श्री कृष्ण मंदिर – जन्माष्टमी पर यहां उमड़ती है श्रद्धालुओं की भीड़

Chat now for Support
Support