नाग पंचमी 2020


हिंदू धर्म में देवी देवताओं की पूजा उपासना के लिये व्रत व त्यौहार मनाये ही जाते हैं साथ ही देवी-देवताओं के प्रतिकों की पूजा अर्चना करने के साथ साथ उपवास रखने के दिन निर्धारित हैं। नाग पंचमी एक ऐसा ही पर्व है। नाग जहां भगवान शिव के गले के हार हैं। वहीं भगवान विष्णु की शैय्या भी। लोकजीवन में भी लोगों का नागों से गहरा नाता है। इन्हीं कारणों से नाग की देवता के रूप में पूजा की जाती है। सावन मास के आराध्य देव भगवान शिव माने जाते हैं। साथ ही यह समय वर्षा ऋतु का भी होता है जिसमें माना जाता है कि भू गर्भ से नाग निकल कर भू तल पर आ जाते हैं। वह किसी अहित का कारण न बनें इसके लिये भी नाग देवता को प्रसन्न करने के लिये नाग पंचमी की पूजा की जाती है।

 

नाग पंचमी और श्री कृष्ण का संबंध

नाग पंचमी की पूजा का एक प्रसंग भगवान श्री कृष्ण से जुड़ा हुआ भी बताते हैं। बालकृष्ण जब अपने दोस्तों के साथ खेल रहे थे तो उन्हें मारने के लिये कंस ने कालिया नामक नाग को भेजा। पहले उसने गांव में आतंक मचाया। लोग भयभीत रहने लगे। एक दिन जब श्री कृष्ण अपने दोस्तों के साथ खेल रहे थे तो उनकी गेंद नदी में गिर गई। जब वे उसे लाने के लिये नदी में उतरे तो कालिया ने उन पर आक्रमण कर दिया फिर क्या था कालिया की जान पर बन आई। भगवान श्री कृष्ण से माफी मांगते हुए गांव वालों को हानि न पंहुचाने का वचन दिया और वहां से खिसक लिया। कालिया नाग पर श्री कृष्ण की विजय को भी नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है।

 

क्यों करते हैं नाग पंचमी पूजा

नाग पंचमी पर नाग देवता की पूजा करने के उपरोक्त धार्मिक और सामाजिक कारण तो हैं ही साथ ही इसके ज्योतिषीय कारण भी हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में योगों के साथ-साथ दोषों को भी देखा जाता है। कुंडली के दोषों में कालसर्प दोष एक बहुत ही महत्वपूर्ण दोष होता है। काल सर्प दोष भी कई प्रकार का होता है। इस दोष से मुक्ति के लिये भी ज्योतिषाचार्य नाग पंचमी पर नाग देवता की पूजा करने के साथ-साथ दान दक्षिणा का महत्व बताते हैं।

 

नाग पंचमी पर क्या करें क्या न करें

इस दिन भूमि की खुदाई नहीं की जाती। नाग पूजा के लिये नागदेव की तस्वीर या फिर मिट्टी या धातू से बनी प्रतिमा की पूजा की जाती है। दूध, धान, खील और दूब चढ़ावे के रूप मे अर्पित की जाती है। सपेरों से किसी नाग को खरीदकर उन्हें मुक्त भी कराया जाता है। जीवित सर्प को दूध पिलाकर भी नागदेवता को प्रसन्न किया जाता है।

पर्व को और खास बनाने के लिये गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

नाग पंचमी पर्व तिथि व मुहूर्त 2020

नाग पंचमी 2020

25 जुलाई

पूजा मुहूर्त - 05:43 से 8:25 ( 25 जुलाई 2020)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 14:33 (24 जुलाई 2020)

पंचमी तिथि समाप्ति - 12:01 (25 जुलाई 2020)

नाग पंचमी 2021

13 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:54 से 8:31 (13 अगस्त 2021)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 15:24 (12 अगस्त 2021)

पंचमी तिथि समाप्ति - 13:42 (13 अगस्त 2021)

नाग पंचमी 2022

2 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:48 से 8:28 (2 अगस्त 2022)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 05:12 (2 अगस्त 2022)

पंचमी तिथि समाप्ति - 05:41 (3 अगस्त 2022)

नाग पंचमी 2023

21 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:58 से 8:32 (21 अगस्त 2023)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 00:21 (21 अगस्त 2023)

पंचमी तिथि समाप्ति - 01:59 (22 अगस्त 2023)

नाग पंचमी 2024

9 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:52 से 8:30 (9 अगस्त 2024)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 00:36 (9 अगस्त 2024)

पंचमी तिथि समाप्ति - 03:13 (10 अगस्त 2024)

नाग पंचमी 2025

29 जुलाई

पूजा मुहूर्त - 05:46 से 8:26 (29 जुलाई 2025)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 23:23 (28 जुलाई 2025)

पंचमी तिथि समाप्ति - 00:45 (30 जुलाई 2025)

नाग पंचमी 2026

17 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:56 से 8:32 (17 अगस्त 2026)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 16:52 (16 अगस्त 2026)

पंचमी तिथि समाप्ति - 16:59 (17 अगस्त 2026)

नाग पंचमी 2027

6 अगस्त

पूजा मुहूर्त - 05:50 से 8:29 (6 अगस्त 2027)

पंचमी तिथि प्रारंभ - 02:26 (6 अगस्त 2027)

पंचमी तिथि समाप्ति - 00:22 (7 अगस्त 2027)


एस्ट्रो लेख

नागपंचमी पर ऐसे...

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है। जहां सावन मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को उत्तर भारत में नाग पूजा की जाती है, वहीं दक्षिण भारत में एेसा ...

और पढ़ें ➜

नाग पंचमी को कर...

नाग पंचमी एक  हिन्दू पर्व है जिसमें नागों और सर्पों की पूजा की जाती है। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में यह पर्व पूरे देश में पूर्ण श्रद्धा से मनाया जाता है। इस वर्ष 2019...

और पढ़ें ➜

चौमासी चौदस – च...

चतुर्मास जिसे हम चौमासा भी कहते हैं। भारतीय पंचांग में इसे वर्षा का काल कहा जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार आषाढ़ मास की शुक्ल एकादशी से लेकर श्रावण, भाद्रपद, अश्विन एवं कार्तिक मा...

और पढ़ें ➜

कुंडली में कालस...

अक्सर व्यक्ति कालसर्प दोष का नाम सुनते ही घबरा जाता है। कुंडली में कालसर्प दोष का पाया जाना कोई बहुत बड़ी घटना नहीं मानी जाती है। देखा जाता है कि 70 प्रतिशत लोगों की कुंडली में यह द...

और पढ़ें ➜