भैया दूज 2020


रक्षाबंधन पर्व के समान भाई दूज पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है|  इसे यम द्वितीया भी कहा जाता है| भाई दूज का पर्व भाई बहन के रिश्ते पर आधारित पर्व है, भाई दूज दीपावली के दो दिन बाद आने वाला एक ऐसा उत्सव है, जो भाई के प्रति बहन के अगाध प्रेम और स्नेह को अभिव्यक्त करता है| इस दिन बहनें अपने भाईयों की खुशहाली के लिए कामना करती हैं|

 

भाई दूज की पौराणिक मान्यता

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार - कार्तिक शुक्ल द्वितीया को पूर्व काल में यमुना ने यमदेव को अपने घर पर सत्कारपूर्वक भोजन कराया था|  जिससे उस दिन नारकी जीवों को यातना से छुटकारा मिला और वे तृप्त हुए|  पाप मुक्त होकर वे सभी सांसारिक बंधनों से मुक्त हो गए | उन सब ने मिलकर एक महान उत्सव मनाया जो यमलोक के राज्य को सुख पहुंचाने वाला था| इसी वजह से यह तिथि तीनों लोकों में यम द्वितीया के नाम से विख्यात हुई|  जिस तिथि को यमुना ने यम को अपने घर भोजन कराया था, यदि उस तिथि को भाई अपनी बहन के हाथ का उत्तम भोजन ग्रहण करता है तो उसे उत्तम भोजन के साथ धन की प्राप्ति होती है| पद्म पुराण में कहा गया है कि कार्तिक शुक्लपक्ष की द्वितीया को पूर्वाह्न में यम की पूजा करके यमुना में स्नान करने वाला मनुष्य यमलोक की यातनायें नहीं भोगता अर्थात उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है|

 

भाई दूज की कहानी

यह कथा सूर्यदेव और छाया के पुत्र पुत्री यमराज तथा यमुना से संबंधित है| यमुना अक्सर अपने भाई यमराज से स्नेहवश निवेदन करती कि वे उनके घर आकर भोजन ग्रहण करें| परंतु यमराज व्यस्त रहने के कारण यमुना की बात को टाल देते थे| कार्तिक माह के शुक्ल द्वितीया को यमुना अपने द्वार पर भाई यमराज को खड़ा देखकर हर्ष-विभोर हो जाती हैं| प्रसन्नचित्त होकर भाई का स्वागत सत्कार कर भोजन करवाती हैं| बहन यमुना के प्रेम, समर्पण और स्नेह से प्रसन्न होकर यमदेव ने वर मांगने को कहा, तब बहन यमुना ने भाई यमराज से कहा कि आप प्रतिवर्ष इस दिन मेरे यहां भोजन करने आएं तथा इस दिन जो बहन अपने भाई को टीका कर भोजन खिलाए उसे आपका भय न रहे| यमराज 'तथास्तु' कहकर यमलोक  चले गए| तब से मान्यता है कि जो भाई आज के दिन पूरी श्रद्धा से बहन के आतिथ्य को स्वीकार करता है उसे और उसकी बहन को यमदेव का भय नहीं रहता है|

पर्व को और खास बनाने के लिये गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

भैया दूज पर्व तिथि व मुहूर्त 2020

भाई दूज 2020

16 नवंबर

भाई दूज तिथि – सोमवार, 16 नवंबर 2020

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 13:10 से 15:17 बजे तक (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 07:05 बजे से (16 नवंबर 2020)

द्वितीय तिथि समाप्त - 03:56 बजे तक (17 नवंबर 2020)

भाई दूज 2021

6 नवंबर

भाई दूज तिथि – शनिवार, 6 नवंबर 2021

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 13:10 से 15:19 बजे तक (6 नवंबर 2021)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 23:14 बजे से (5 नवंबर 2021)

द्वितीय तिथि समाप्त - 19:43 बजे तक (6 नवंबर 2021)

भाई दूज 2022

26 अक्टूबर

भाई दूज तिथि – बुधवार, 26 अक्टूबर 2022

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 14:41 से 15:25 बजे तक (26 अक्टूबर 2022)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 14:41 बजे से (26 अक्टूबर 2022)

द्वितीय तिथि समाप्त -12:44 बजे तक (27 अक्टूबर 2022)

भाई दूज 2023

14 नवंबर

भाई दूज तिथि – मंगलवार, 14 नवंबर 2023

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 14:35 से 15:17 बजे तक (14 नवंबर 2023)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 14:35 बजे से (14 नवंबर 2023)

द्वितीय तिथि समाप्त -13:46 बजे तक (15 नवंबर 2023)

भाई दूज 2024

3 नवंबर

भाई दूज तिथि – रविवार, 3 नवंबर 2024

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 13:10 से 15:20 बजे तक ( 3 नवंबर 2024)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 20:21 बजे से (2 नवंबर 2024)

द्वितीय तिथि समाप्त -22:04 बजे तक (3 नवंबर 2024)

भाई दूज 2025

23 अक्टूबर

भाई दूज तिथि – गुरुवार, 23 अक्टूबर 2025

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 13:12 से 15:26 बजे तक (23 अक्टूबर 2025)

द्वितीय तिथि प्रारंभ - 20:16 बजे से (22 अक्टूबर 2025)

द्वितीय तिथि समाप्त -22:46 बजे तक (23 अक्टूबर 2025)

भाई दूज 2026

11 नवंबर

भाई दूज तिथि – बुधवार, 11 नवंबर 2026

भाई दूज तिलक मुहूर्त - 13:09 से 15:18 बजे तक (11 नवंबर 2026)

द्वितीय तिथि प्रारंभ -13:59 बजे से (10 नवंबर 2026)

द्वितीय तिथि समाप्त -15:52 बजे तक (11 नवंबर 2026)


एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜