चौघड़िया

चौघड़िया वैदिक पंचांग का एक रूप है। यदि कभी किसी कार्य के लिए शुभ मुहूर्त नहीं निकल पा रहा हो या कार्य को शीघ्रता से आरंभ करना हो तथा किसी यात्रा पर आवश्यक रूप से जाना हो तो उसके लिए चौघड़िया मुहूर्त देखने का विधान है। ज्योतिष के अनुसार चौघड़िया मुहूर्त देखकर कार्य या यात्रा आरंभ करना उत्तम है। ज्योतिष में चौघड़िया को विशेष स्थान प्राप्त है। आगे हम चौघड़िया क्या है, चौघड़िया की गणना कैसे की जाती है, चौघड़िया का क्या महत्व है और चौघड़िया की उपयोगिता क्या है, इसके बारे में जानेंगे।

आज का चौघड़िया - Aaj Ka Choghadiya 18 September 2019,Virginia Beach


दिन चौघड़िया

MUHURTA TIME
लाभ 16:19:01 - 14:51:35
अमृत 14:51:35 - 13:24:09
काल 13:24:09 - 11:56:42
शुभ 11:56:42 - 10:29:16
रोग 10:29:16 - 09:01:50
उद्वेग 09:01:50 - 07:34:23
चर 07:34:23 - 06:06:57
लाभ 06:06:57 - 04:39:30
रात चौघड़िया

MUHURTA TIME
उद्वेग 04:39:30 - 06:06:57
शुभ 06:06:57 - 07:34:23
अमृत 07:34:23 - 09:01:50
चर 09:01:50 - 10:29:16
रोग 10:29:16 - 11:56:42
काल 11:56:42 - 13:24:09
लाभ 13:24:09 - 14:51:35
उद्वेग 14:51:35 - 16:19:01

चौघड़िया क्या है?


चौघड़िया ज्योतिष की एक ऐसी तालिका है जो खगोलिय स्थिति के आधार पर दिन के 24 घंटों की दशा बताती है। इसमें प्रतिदिन के लिये दिन, नक्षत्र, तिथि, योग एवं करण दिये होते हैं। ग्रहों की स्थिति पर आधारित ऐसी दशाओं में से दिन और रात्रि में पूजा, विवाह समारोह, त्योहारों आदि के हेतु शुभ एवं अशुभ समयों को इस सारिणी के विभिन्न तालिकाओं में वर्गीकृत किया जाता है।

चौघड़िया की गणना की विधि


चौघड़िया की गणना के लिए, प्रत्येक दिन को दो समय अवधि में विभाजित किया जाता है। दिनमान जो सूर्योदय से सूर्यास्त तक की अवधि है रात्रि-समय जो सूर्यास्त से सूर्योदय तक की अवधि है। इन दो भागों को फिर आठ बराबर भागों में विभाजित किया जाता है। इन आठ विभाजनों में से प्रत्येक चार एक घड़ी के बराबर है और समय के इस विभाजन को चौघड़िया कहा जाता है।

चौघड़िया का महत्व


चौघड़िया मुहूर्त वैदिक हिंदू कैलेंडर, पंचांग का एक अभिन्न हिस्सा है। चौघड़िया का प्रत्येक भाग दिन की तारीख और समय के आधार पर समान रूप से लाभप्रद या नुकसानदेह हो सकता है। चौघड़िया विभिन्न पहलुओं पर तय किया जाता है। दिन के पहले चौघड़िया की गणना दिन के स्वामी ग्रह के आधार पर की जाती है।

चौघड़िया का उपयोग


चौघड़िया भारत में समय की गणना के लिए एक प्राचीन उपाय है जो प्रत्येक खंड में लगभग 24 मिनट के बराबर है। चौघड़िया उत्तर भारत के अधिकांश क्षेत्रों में एक ज्योतिषी से परामर्श के बिना एक अच्छा मुहूर्त खोजने के लिए उपयोग किया जाता है। दक्षिण में चौघड़िया को गोवरी पंचांग कहा जाता है। चौघड़िया का अधिक उपयोग भारत के पश्चिमी क्षेत्रों में किया जाता है। चौघड़िया मुहूर्त का प्रयोग किसी नए कार्य को करने, यात्रा करने, व्यापार शुरु करने के लिए किया जाता रहा है। घड़ीं का अर्थ समय के कुछ भाग से होता है। प्राचीन भारत में दिन और रात्रि को आज के घंटे एवं मिनटों के स्थान पर विभिन्न घड़ियों में बांटा गया था।

चौघड़िया मुहूर्त


उदवेग
चौघड़िया में उदवेग प्रथम मुहूर्त है, जिसका स्वामी ग्रह सूर्य है। इस घड़ी में प्रशासनिक कार्य करने पर उचित परिणाम मिलने के कम आसार होते हैं।

लाभ
इस मुहूर्त का स्थान चौघड़िया में द्वितीय है। बुध ग्रह इसका स्वामी ग्रह है। इस समय पर व्यावसायिक और शिक्षा से जुड़े कार्य करने पर उचित परिणाम मिलते हैं।

चर
इस मुहूर्त का स्वामी ग्रह शुक्र है। इसका स्थान चौघड़िया में तृतीय है। इस मुहूर्त में यात्रा और पर्यटन करना उत्तम माना जाता है।

रोग
इस मुहूर्त का चौघड़िया में चौथा स्थान है। इसका स्वामी ग्रह मंगल है। इस घड़ी में चिकित्सीय सलाह लेने से बचना चाहिए।

शुभ
इस मुहूर्त का स्वामी ग्रह बृहस्पति ग्रह है। यह समय शुभ कार्यों को करने के लिए उत्तम है। इस घड़ी में विवाह, पूजा, यज्ञ करवाने पर शुभफल प्राप्त होता है।

काल
काल मुहूर्त में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है। ज्योतिष भी इस मुहूर्त में किसी भी तहर का कार्य करने से मना करते हैं। इस घड़ी पर शनि का स्वामित्व है और काल का सीधा संबंध अंत से हैं।

अमृत
यह चौघड़िया का अंतिम मुहूर्त है। इस पर चंद्रमा का स्वामित्व है। अमृत मुहूर्त में कोई भी कार्य करने पर अच्छा परिणाम मिलता है।

ध्यान दे - वार वेला, काल वेला और कालरात्रि का समय भारतीय ज्योतिष में शुभ नहीं माना जाता है और भविष्यवाणियां करते समय इनसे बचना चाहिए।

आज का पंचांग

आज का पंचांग

आज का पंचांग यानि दैनिक पंचांग अंग्रेंजी में Daily Panchang भी कह सकते हैं। दिन की शुरुआत अच्छी हो, जो ...

और पढ़ें
आज की तिथि

आज की तिथि

तिथि पंचांग का सबसे मुख्य अंग है यह हिंदू चंद्रमास का एक दिन होता है। तिथि के आधार पर ही सभी...

और पढ़ें
आज का दिन

आज का दिन

सप्ताह के प्रत्येक दिवस को वार के रूप में जाना जाता है। वार पंचांग के गठन में अगली कड़ी है। एक सूर्योदय से ...

और पढ़ें
आज का शुभ मुहूर्त

आज का शुभ मुहूर्त

पंच मुहूर्त में शुभ मुहूर्त, या शुभ समय, वह समय अवधि जिसमें ग्रह और नक्षत्र मूल निवासी के लिए अच्छे या...

और पढ़ें
आज का नक्षत्र

आज का नक्षत्र

पंचांग में नक्षत्र का विशेष स्थान है। वैदिक ज्योतिष में किसी भी शुभ कार्य को करने से पूर्व नक्षत्रों को देखा जाता है।...

और पढ़ें
भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

अब एस्ट्रोयोगी पर वैदिक ज्योतिष, टेरो, न्यूमेरोलॉजी एवं वास्तु से जुड़ी देश भर की जानी-मानी हस्तियों से परामर्श करें।

परामर्श करें
आज का राहु काल

आज का राहु काल

राहुकाल भारतीय वैदिक पंचांग में एक विशिष्ट अवधि है जो दैनिक आधार पर होती है। यह समय किसी भी विशेष...

और पढ़ें
आज का शुभ होरा

आज का शुभ होरा

वैदिक ज्योतिष दिन के प्रत्येक घंटे को होरा के रूप में परिभाषित करता है। पाश्चात्य घड़ी की तरह ही, हिंदू वैदिक ...

और पढ़ें
आज का शुभ योग

आज का शुभ योग

पंचांग की रचना में योग का महात्वपूर्ण स्थान है। पंचांग योग ज्योतिषाचार्यों को सही तिथि व समय की गणना करने में...

और पढ़ें
आज के करण

आज के करण

वैदिक ज्योतिष के अनुसार व्रत, पर्व को निर्धारित करने में पंचांग और मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान है। इनके बिना, हिंदू ...

और पढ़ें
पर्व और त्यौहार

पर्व और त्यौहार

त्यौहार हमारे जीवन का अहम हिस्सा हैं, त्यौहारों में हमारी संस्कृति की महकती है। त्यौहार जीवन का उल्लास हैं त्यौहार...

और पढ़ें
राशि

राशि

वैदिक ज्योतिष में राशि का विशेष स्थान है ही साथ ही हमारे जीवन में भी राशि महत्वपूर्ण स्थान रखती है। ज्योतिष...

और पढ़ें


Chat Now for Support