वार - दिन

सप्ताह के प्रत्येक दिवस को वार के रूप में जाना जाता है। वार पंचांग के गठन में अगली कड़ी है। एक सूर्योदय से दूसरे सूर्योदय के समय के अंतर को 'वार' या दिवस कहा जाता है। हर दिन या वार का एक देवता निर्धारित होता है। दिन के अनुसार देव पूजा और यात्रा करने की प्रथा सदियों से चली आ रही है। आगे कौन सा दिन किस कार्य के लिए शुभ इस बारे में जानेंगे।

आज का दिन (Aaj Ka Din)


कौन सा दिन किस कार्य के शुभ?
17 July 2019 |
Vaar -

कौन सा दिन किस कार्य के शुभ?


वैसे तो हर दिन शुभ होता है। लेकिन ज्योतिष के अनुसार कुछ दिनों में कुछ कार्यों का किया जाना शुभ और किन्हीं कार्यों का किया जाना निषिद्ध होता है। ऐसे में गलत वार के दिन कार्य करने पर परिणाम शुभ नहीं मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि अगर मन में शुभ विचार हो, हमारे कर्म शुद्ध हो और नियत अच्छी हो तो कोई भी काम या समय अशुभ नहीं होता।
पाश्चात्य पंचांग में, 7 वार या दिन होते हैं, जैसे: Sunday, Monday, Tuesday, Wednesday, Thursday, Friday, Saturday.


हिंदू वैदिक पंचांग में सप्ताह में सात वार क्रमशः इस प्रकार हैं - रविवार, सोमवार, मंगलवार, बुधवार, गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार। रविवार के दिन सभी कार्यालयों में लगभग अवकाश रहता है। इस लिए इस दिन अधिक धार्मिक क्रियाकलाप किए जाते हैं।

वार के अनुसार कार्य


जैसै कि हम बता चुके हैं कि हफ्ते में सात वार होते हैं। इन वारों की विशेषताओं के आधार पर किस दिन क्या कार्य जातक को करना चाहिए एस बारे में यहां जानकारी दी जी रही है।

रविवार
यह दिन हिंदू पंचांग में सप्ताह का पहला वार है। इस दिन पर भगवान सूर्य आधिपत्य होता है। माना जाता है कि रविवार के दिन न्यायिक व चिकित्सीय सलाह लेना अत्यंत शुभ होता है। इस वार को पशु व सोने के बने आभूषण खरीदाना मंगलकारी है। इस दिन पूजा, यज्ञ, मंत्रोपदेश करवाना श्रेष्ट है।

सोमवार
सोमवार को पंचांग का दूसरा वार कहा जाता है। यह दिन भगवान महादेव का है। इस दिन यदि जातक एक किसान है तो उसे कृषि यंत्र की खरीदी व खेतों में बीज बोना चाहिए। यह वार यात्रा के लिए भी शुभ माना गया है। लेकिन दिशा के अनुसार इसके फल परिवर्तित होते रहते हैं। नये वस्त्र तथा रत्न धारण करने के लिए उत्तम दिन है। जातक कोई नया कार्य शुरू करने जा रहा है तो यह वार शुभ है। परंतु एक बार ज्योतिषीय सलाह अवश्य लें।

मंगलवार
सप्ताह का तीसरा वार मंगलवार, हनुमान जी व मंगलदेव का दिन माना जाता है। जासूसी का काम करने तथा दूसरों का भेद जानने के लिए यह अच्छा दिन है। इस दिन आप किसी को ऋण दे सकते हैं। इसके अलावा नीति-रीति, वाद-विवाद में निर्णय लेना शुभ साबित होता है लेकिन ऋण लेना अशुभ है। इस वार को व्रत करने पर जीवन से कष्ट दूर होते हैं।

बुधवार
सप्ताह के इस वार को ऋण देना अहितकर हो सकता है तथा शिक्षा-दीक्षा के लिए यह दिन शुभ है। बुधवार का दिन राजनीतिक विचार के लिए शुभ है। क्योंकि इस वार के स्वामी देव श्री गणेश हैं। जिन्हें कूटनीति का ज्ञाता माना जाता है। वैदिक पंचांग में यह वार चौथे दिन आता है।

गुरुवार
यह वार भगवान विष्णु और बृहस्पतिदेव का माना जाता है। इस दिन व्रत, पूजा, कथा, दान करने पर विशेष फल प्राप्त होता है। जीवन में सुख समृद्धि आती है। गरूवार को शिक्षा आरंभ करना, नया पद ग्रहण करना, यात्रा करना तथा नवनिर्माण का कार्य शुरू करना बेहद शुभ होता है।

शुक्रवार
वैदिक हिंदू पंचांग में यह वार छठवे दिन आता है। इस दिन देवी आदिशक्ति की आराधना करने से हर तरह के कष्टों से जातक मुक्ति पाता है। शुक्रवार के दिन समाज से जुड़े कार्य करने पर ख्याती मिलती है। नये मित्र बनाने और किसी संवेदनशील विषय पर बुलाए गए बैठक में अच्छा परिणाम निकल कर सामने आता है।

शनिवार
यह सप्ताह का अंतिम वार है। इस दिन के देव शनि महाराज हैं। लेकिन कहा जाता है कि इस वार को हनुमान जी की आराधना करने से विशेष फल मिलता है। साथ ही शनिदेव भी जातक पर अपनी कृपा दृष्टि बनाते हैं। शनिवार के दिन नये घर में गृहप्रवेश करना बहुत ही शुभ माना जाता है। इसके अलावा लोहे की मशीन या वाहन खरीदना भी शुभ है। लेकिन फसल के लिए बुआई करना या करवाना अशुभ है।

ध्यान दें, जातक की कुंडली के आधार पर परिणाम अलग मिल सकते हैं। कार्य का शुभ परिणाम पाने के लिए ज्योतिषीय परामर्ष लेना न भूलें।


आज का पंचांग

आज का पंचांग

आज का पंचांग यानि दैनिक पंचांग अंग्रेंजी में Daily Panchang भी कह सकते हैं। दिन की शुरुआत अच्छी हो, जो ...

और पढ़ें
आज की तिथि

आज की तिथि

तिथि पंचांग का सबसे मुख्य अंग है यह हिंदू चंद्रमास का एक दिन होता है। तिथि के आधार पर ही सभी...

और पढ़ें
भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

भारत के श्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से बात करें

अब एस्ट्रोयोगी पर वैदिक ज्योतिष, टेरो, न्यूमेरोलॉजी एवं वास्तु से जुड़ी देश भर की जानी-मानी हस्तियों से परामर्श करें।

परामर्श करें
आज का शुभ मुहूर्त

आज का शुभ मुहूर्त

पंच मुहूर्त में शुभ मुहूर्त, या शुभ समय, वह समय अवधि जिसमें ग्रह और नक्षत्र मूल निवासी के लिए अच्छे या...

और पढ़ें
आज का नक्षत्र

आज का नक्षत्र

पंचांग में नक्षत्र का विशेष स्थान है। वैदिक ज्योतिष में किसी भी शुभ कार्य को करने से पूर्व नक्षत्रों को देखा जाता है।...

और पढ़ें
आज का चौघड़िया

आज का चौघड़िया

चौघड़िया वैदिक पंचांग का एक रूप है। यदि कभी किसी कार्य के लिए शुभ मुहूर्त नहीं निकल पा रहा हो या कार्य को ...

और पढ़ें
आज का राहु काल

आज का राहु काल

राहुकाल भारतीय वैदिक पंचांग में एक विशिष्ट अवधि है जो दैनिक आधार पर होती है। यह समय किसी भी विशेष...

और पढ़ें
आज का शुभ होरा

आज का शुभ होरा

वैदिक ज्योतिष दिन के प्रत्येक घंटे को होरा के रूप में परिभाषित करता है। पाश्चात्य घड़ी की तरह ही, हिंदू वैदिक ...

और पढ़ें
आज का शुभ योग

आज का शुभ योग

पंचांग की रचना में योग का महात्वपूर्ण स्थान है। पंचांग योग ज्योतिषाचार्यों को सही तिथि व समय की गणना करने में...

और पढ़ें
आज के करण

आज के करण

वैदिक ज्योतिष के अनुसार व्रत, पर्व को निर्धारित करने में पंचांग और मुहूर्त का महत्वपूर्ण स्थान है। इनके बिना, हिंदू ...

और पढ़ें
पर्व और त्यौहार

पर्व और त्यौहार

त्यौहार हमारे जीवन का अहम हिस्सा हैं, त्यौहारों में हमारी संस्कृति की महकती है। त्यौहार जीवन का उल्लास हैं त्यौहार...

और पढ़ें
राशि

राशि

वैदिक ज्योतिष में राशि का विशेष स्थान है ही साथ ही हमारे जीवन में भी राशि महत्वपूर्ण स्थान रखती है। ज्योतिष...

और पढ़ें


Chat Now for Support