रक्षा बंधन 2020


अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिये हर बहन रक्षा बंधन के दिन का इंतजार करती है। श्रावण मास की पूर्णिमा को यह पर्व मनाया जाता है। इस पर्व को मनाने के पिछे कहानियां हैं। यदि इसकी शुरुआत के बारे में देखें तो यह भाई-बहन का त्यौहार नहीं बल्कि विजय प्राप्ति के किया गया रक्षा बंधन है। भविष्य पुराण के अनुसार जो कथा मिलती है वह इस प्रकार है।

बहुत समय पहले की बाद है देवताओं और असुरों में युद्ध छिड़ा हुआ था लगातार 12 साल तक युद्ध चलता रहा और अंतत: असुरों ने देवताओं पर विजय प्राप्त कर देवराज इंद्र के सिंहासन सहित तीनों लोकों को जीत लिया। इसके बाद इंद्र देवताओं के गुरु, ग्रह बृहस्पति के पास के गये और सलाह मांगी। बृहस्पति ने इन्हें मंत्रोच्चारण के साथ रक्षा विधान करने को कहा। श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन गुरू बृहस्पति ने रक्षा विधान संस्कार आरंभ किया। इस रक्षा विधान के दौरान मंत्रोच्चारण से रक्षा पोटली को मजबूत किया गया। पूजा के बाद इस पोटली को देवराज इंद्र की पत्नी शचि जिन्हें इंद्राणी भी कहा जाता है ने इस रक्षा पोटली के देवराज इंद्र के दाहिने हाथ पर बांधा। इसकी ताकत से ही देवराज इंद्र असुरों को हराने और अपना खोया राज्य वापस पाने में कामयाब हुए।

वर्तमान में यह त्यौहार बहन-भाई के प्यार का पर्याय बन चुका है, कहा जा सकता है कि यह भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को और गहरा करने वाला पर्व है। एक ओर जहां भाई-बहन के प्रति अपने दायित्व निभाने का वचन बहन को देता है, तो दूसरी ओर बहन भी भाई की लंबी उम्र के लिये उपवास रखती है। इस दिन भाई की कलाई पर जो राखी बहन बांधती है वह सिर्फ रेशम की डोर या धागा मात्र नहीं होती बल्कि वह बहन-भाई के अटूट और पवित्र प्रेम का बंधन और रक्षा पोटली जैसी शक्ति भी उस साधारण से नजर आने वाले धागे में निहित होती है।

पर्व को और खास बनाने के लिये गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से।

रक्षा बंधन पर्व तिथि व मुहूर्त 2020

रक्षा बंधन 2020

3 अगस्त

रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय- 09:28 से 21:14

अपराह्न मुहूर्त- 13:46 से 16:26

प्रदोष काल मुहूर्त- 19:06 से 21:14

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 21:28 (2 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 21:27 (3 अगस्त)

भद्रा समाप्त: 09:28

रक्षा बंधन 2021

22 अगस्त

रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय- 06:15 से 17:31

अपराह्न मुहूर्त- 13:40 से 16:15

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 18:59 (21 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 17:31 (22 अगस्त)

भद्रा समाप्त: 06:15

रक्षा बंधन 2022

11 अगस्त

प्रदोष काल रक्षाबंधन मुहूर्त- 20:51 से 21:10

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 10:37 (11 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 07:04 (12 अगस्त)

भद्रा समाप्त- 20:51

रक्षा बंधन 2023

30 अगस्त

प्रदोष काल रक्षाबंधन मुहूर्त- 21:01

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 10:58 (30 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 07:04 (31 अगस्त)

भद्रा समाप्त- 21:01

रक्षा बंधन 2024

19 अगस्त

रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय- 13:29 से 21:05

अपराह्न मुहूर्त- 13:42 से 16:17

प्रदोष काल मुहूर्त- 18:52 से 21:05

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 03:04 (19 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 23:54 (19 अगस्त)

भद्रा समाप्त- 13:29

रक्षा बंधन 2025

9 अगस्त

रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय- 05:51 से 13:24

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 14:11 (8 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 13:24 (9 अगस्त)

भद्रा समाप्त: सूर्योदय से पहले

रक्षा बंधन 2026

28 अगस्त

रक्षाबंधन अनुष्ठान का समय- 06:00 से 09:47

पूर्णिमा तिथि आरंभ – 09:08 (27 अगस्त)

पूर्णिमा तिथि समाप्त- 09:47 (28 अगस्त)

भद्रा समाप्त: सूर्योदय से पहले


एस्ट्रो लेख

Saturn Transit ...

निलांजन समाभासम् रवीपुत्र यमाग्रजम । छाया मार्तंड संभूतं तं नमामी शनैश्वरम ।। Saturn Transit 2020 - सूर्यपुत्र शनिदेव 24 जनवरी 2020 को भारतीय समय दोपहर 12 बजकर 10 मिनट पर धनु राशि ...

और पढ़ें ➜

बसंत पंचमी पर क...

जब खेतों में सरसों फूली हो/ आम की डाली बौर से झूली हों/ जब पतंगें आसमां में लहराती हैं/ मौसम में मादकता छा जाती है/ तो रुत प्यार की आ जाती है/ जो बसंत ऋतु कहलाती है। सिर्फ खुशगवार ...

और पढ़ें ➜

राशिनुसार किस भ...

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बड़ा महत्व है, लेकिन कई बार रोज़ाना पूजा-पाठ करने के बावजूद भी हमारा मन अशांत ही रहता है। वहीं भगवान की पूजा के दौरान कौन सा फूल, फल और दीपक जलाना चाहिए ...

और पढ़ें ➜

राशिनुसार जानें...

प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में एक सही व्यक्ति की चाहत रखता है, जिसके साथ वह अपना शेष जीवन बिता सकें और अपने जीवन के सुख, दुख, उतार-चढ़ाव और भावनाओं को साझा कर सकें। आमतौर पर रिलेशन...

और पढ़ें ➜