Skip Navigation Links
वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग


वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना माना जाता है। प्रत्येक राशि के अनुसार बुध जिस भी घर में स्थित होते हैं उसी के अनुसार परिणाम भी लेकर आते हैं। 28 मई 2018 रविवार की सुबह लगभग 8 बजकर 31 मिनट पर बुध मेष राशि से परिवर्तित होकर वृषभ राशि में आ जायेंगें। वृषभ राशि में बुध के सूर्य के साथ आने से बुधादित्य योग भी बन रहा है। ऐसे में बुध सभी 12 राशियों पर क्या प्रभाव डाल रहे हैं? आइये जानते हैं।


किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

मेष

बुध का परिवर्तन मेष राशि से दूसरे भाव में हो रहा है जो कि इनका मित्र घर है। धन से संबंधित चिंताए कुछ समय के लिये दूर हो सकती हैं। आपके कार्यक्षेत्र में आपकी योग्यता में भी निखार आने की संभावना है। बुध आपकी राशि में छठे घर का स्वामी होने के कारण स्वास्थ्य संबंधी ध्यान आपको रखने की आवश्यकता है रोग व शत्रु आपको परेशान कर सकते हैं।

वृषभ

बुध का परिवर्तन आपकी ही राशि में हो रहा है। आपके लिये बुध का परिवर्तन काफी सारे बदलाव लाने वाला रह सकता है। आपकी संचार क्षमता का विकास होगा, स्वभाव में मधुरता व वाणी में मिठास बने रहने के आसार हैं। कार्यक्षेत्र व धन के क्षेत्र में भी आपको लाभ मिल सकता है। लंबे समय से जो चिंताएं बनी हुई हैं उनसे निजात मिल सकती है। विद्यार्थियों के लिये प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलने की संभावनाएं हैं।

मिथुन

मिथुन राशि से बुध का परिवर्तन 12वें घर में हो रहा है। अचानक से खर्चों में वृद्धि हो सकती है। इस समय किसी से ऋण न लें और किसी क्षेत्र में अगर बड़े धन का उपयोग कर रहे हों तो उसे काफी समझदारी व जांच-परख के बाद ही करें। स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहने की आवश्यकता है। कार्यक्षेत्र में काम का बोझ बढ़ सकता है। चौथे घर का स्वामी होने के कारण बुध माता के प्रति प्रेम में वृद्धि करने वाला रह सकता है।

कर्क

कर्क राशि से बुध का परिवर्तन एकादश भाव में हो रहा है। लंबे समय से रूके हुए कार्य बनने व धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं। लाभ घर में बुध आदित्य युति होने से व्यापार क्षेत्र में बड़ी सफलता के संकेत बन रहे हैं। आपकी मेहनत का उचित ईनाम मिलने की प्रबल संभावनाएं हैं। सफलता के साथ-साथ संयम भी रखें ताकि लंबे समय तक आप इसे बनाये रखें।

सिंह

सिंह राशि से बुध का परिवर्तन दशम घर में हो रहा है। बेरोजगार व्यक्तियों के लिये रोजगार के अच्छे अवसर आ सकते हैं। व्यापारी वर्ग के लिये अच्छे कार्य के संकेत हैं। लाभीष्ट बुध होने से हर क्षेत्र में लाभ के संकेत बन रहे हैं। पिता के साथ संबंधों में अनबन हो सकती है। अपनी बुद्धिमता से रिश्तों का निर्वाह भी करें। संचित धन का प्रयोग देखभाल कर करें।

कन्या

कन्या राशि से बुध का परिवर्तन नवम घर में हो रहा है जो कि आपकी राशि में भाग्यवर्धक समय की ओर संकेत करता है। इस समय जो जातक जीवन में जोखिम उठाना चाहते हैं उनके लिये यह समय उपयुक्त है। आपके कार्यक्षेत्र में आपको अधिक कार्य दिया जा सकता है और यही चीज़ आपकी योग्यता को दर्शाने का समय भी है। लंबे समय से चले आ रहे रोग से भी आपको निज़ात मिल सकती है। विद्यार्थियों के लिये भी यह समय उत्तम बना रहेगा।

तुला

तुला राशि से बुध का परिवर्तन अष्टम भाव में हो रहा है बुध के साथ सूर्य अष्टम होने से आपके स्वभाव में उग्रता आ सकती है। अग्नि आदि से आपको ख़तरा हो सकता है। सेहत के प्रति लापरवाही न बरतें अन्यथा यह आपके लिये आगे चलकर पीड़ादायक हो सकता है। अचानक खर्च बढ़ने से आर्थिक स्थिति कमजोर हो सकती है। भाग्य का सहयोग बुध के परिवर्तन में कम ही रहेगा।

वृश्चिक

वृश्चिक राशि से बुध का परिवर्तन सातवें घर में हो रहा है। दांपत्य जीवन में काफी उतार-चढ़ाव आने की संभावनाएं हैं। यह समय आपकी शारीरिक कमजोरी को भी दर्शाता है। प्रेमी युगलों के लिये भी यह समय बहुत अनुकूल नहीं है। अष्टम भाव के स्वामी होने के कारण रोग आदि का भय भी बना रह सकता है। कार्यक्षेत्र में लाभ का संकेत आपके लिये खुशियों का अवसर ला सकता है।

धनु

धनु राशि से बुध का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है। जो कि आपकी सफलता की गति को कम कर सकता है। अचानक आपके कार्य में शत्रु बाधाएं उत्पन्न कर सकते हैं। आपके हाथ में आयी हुई चीज़ें भी हाथ से निकलने का भय बना रहेगा। रोग आदि के प्रति लापरवाही न बरतें, लक्षण दिखाई देते ही चिकित्सीय परामर्श अवश्य लें। कुछ समय तक कार्यों की गति थोड़ी मंद पड़ सकती है।

मकर

मकर राशि से बुध का परिवर्तन पंचम भाव में हो रहा है जो कि शिक्षा, प्रेम संबंध और संतान का घर माना जाता है। बुध सम ग्रह होने के कारण इन क्षेत्रों से संबंधित लाभ देने का योग बना रहा है। आप अपने बुद्धि कौशल से अपने जीवन की परीक्षाओं में सफल हो सकते हैं और भाग्य स्थान का स्वामी पंचम में होने से भाग्य का भी आपको भरपूर सहयोग मिलने की उम्मीद है। लंबी यात्राओं के योग भी बन रहे हैं।

कुंभ

कुंभ राशि से बुध का परिवर्तन चतुर्थ भाव में हो रहा है जो कि सुख संपत्ति माता आदि का घर है। कठिन परिश्रम से किये गये कार्य का फल मिलने के योग बन रहे हैं। बुध आदित्य युति होने से आपकी कीर्ति से अपने कुल व रिश्तेदारों में आपका सम्मान बढ़ाने वाला भी है। आपकी राशि से अष्टम भाव का स्वामी होने के कारण गाड़ी चलाने व यात्रा के समय सावधानी रखें।

मीन

आपकी राशि से बुध तीसरे घर में परिवर्तन कर रहा है। अपने पराक्रम को सही दिशा और सही मंजिल की ओर ले जाने में बुध आपका साथ देगा। कार्य में पदोन्नति व धनोन्नति का योग बन रहा है। सप्तम भाव के स्वामी होने से दांपत्य जीवन में भी मधुरता आने के आसार हैं। रूठे हुए जीवनसाथी को मनाने का यह उपयुक्त समय है। विद्यार्थियों के लिये भी बुध का परिवर्तन उत्तम रहने के आसार हैं।


बुध का यह गोचर आपकी कुंडली के अनुसार नेगेटिव है या पोजीटिव? गाइडेंस लें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से। परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2018   |   बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा   |  बुध गोचर 2018





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ कालरात्रि - नवरात्र का सातवाँ  दिन माँ दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की पूजा विधि

माँ कालरात्रि - नव...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है।माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत...

और पढ़ें...
गुरु गोचर 2018-19 : मंगल की राशि में गुरु, इन राशियों के अच्छे दिन शुरु!

गुरु गोचर 2018-19 ...

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर 2018-19 - देव गुरु बृहस्पति 11 अक्तूबर को लगभग 7 बजकर 20 मिनट पर राशि परिवर्तन कर रहे हैं। गुरु का गोचर ज्योतिषशास्त्र में बहुत महत्वपू...

और पढ़ें...
नवरात्रों में कन्या पूजन देता है शुभ फल

नवरात्रों में कन्य...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में ...

और पढ़ें...
माँ महागौरी - नवरात्र का आठवां दिन माँ दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा विधि

माँ महागौरी - नवरा...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के ...

और पढ़ें...
ज्योतिष क्या है?

ज्योतिष क्या है?

ज्योतिषां सूर्यादिग्रहाणां बोधकं शास्त्रम् अर्थात सूर्यादि ग्रह और काल का बोध कराने वाले शास्त्र को ज्योतिष शास्त्र कहा जाता है| इसमें मुख्य रूप से ग्रह, नक्षत्र आदि...

और पढ़ें...