वास्तु के अनुसार, इन पेड़-पौधों को घर में लगाने से मिलता है सुख

भला अपने प्यारे से घर में और घर के आंगन में कौन पेड़-पौधे नहीं लगाना चाहता है। शायद ही कोई व्यक्ति होगा जिसको प्रकृति से प्यार ना हो। लेकिन कई बार हम अपने अल्पज्ञान की वजह से घर के लिए गलत पौधों और पेड़ों का चुनाव कर लेते हैं जो बाद में परिवार के लोगों के सुख और शान्ति को प्रभावित करते हैं। इस विषय पर अगर वास्तुशास्त्र की सहायता ले जाए तो वास्तु में साफ़-साफ़ जिक्र किया गया है कि किन पेड़-पौधों को लगाने से सुख की प्राप्ति होती है। तो आइये जानते हैं कि वह कौन-कौन से पेड़-पौधें हैं, जिन्हें घर में लगाने से सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है-


वास्तुशास्त्र में सबसे पहले तो यह बताया गया है कि काँटों वाले और जिन पेड़-पौधों से दूध निकलता है उन्हें घर पर नहीं लगाना चाहिए। घर के सामने पीपल का पेड़ होना अशुभ बताया गया है। बरगद का पेड़ घर पर नहीं बल्कि मंदिर पर लगाना चाहिए।

  

तुलसी का पौधा

तुलसी का पौधा घर में उत्तर, उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में लगाया जाना चाहिए। इन दिशाओँ में तुलसी का पौधा घर में सकारात्मक ऊर्जा को प्रदान करता है।


बांस का पेड़

वास्तु में बांस का पेड़ समृद्धि और तरक्की का प्रतीक होता है। धन और यश के लिए घर में कहीं भी लगा सकते हैं। इससे घर में मौजूद नकारात्मक उर्जा भी समाप्त होती है। आजकल बांस के पौधे को ‘बोना’ बनाने की विधि से छोटाकर, घर में रखने लायक बनाया जा रहा है। लेकिन कई वास्तुकार इसका विरोध भी करते हैं क्योकि इस विधि को प्रकृति के खिलाफ माना जाता है।


मनी प्लांट

मनी प्लांट के पौधे को पूर्व या उत्तर दिशा में लगाना चाहिए। जैसे की इसके नाम से ही स्पष्ट है कि यह पौधा धन सम्बंधित सभी प्रकार के लाभ घर के लोगों को प्रदान करता है।


नारियल एवं अशोक का पेड़

नारियल एवं अशोक का पेड़ घर के आँगन में लगाने चाहिए। खासकर अशोक का पेड़, शोक को दूर करने वाला और प्रसन्नता देने वाला वृक्ष है।


केले का पेड़

ईशान कौण की दिशा में केले का पेड़ लगाया जाना शुभ बताया गया है। केले का पौधा वैसे वास्तु के साथ-साथ धार्मिक कारणों से भी महत्वपूर्ण बताया गया है। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु जी की पूजा के साथ-साथ केले के पेड़ को भी पूजा जाता है। वास्तु के अनुसार भी यह पेड़ घर में सुख-शान्ति प्रदान करता है।


नीम का पेड़

घर में नीम का पेड़ सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है और घर से कई बीमारियों को भी दूर करता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार नीम का पेड़ बहुत शुभ बताया गया है। वायव्य कोण में नीम का वृक्ष लगाना चाहिए।


अब अंत में अगर रसोईघर की बात करें तो यहाँ वास्तु के अनुसार पुदीना, हरी मिर्च और धनिया जैसे छोटे पौधे लगाना शुभ बताया गया है। इन पौधों का वैज्ञानिक और वास्तु दोनों का अपना महत्त्व बताया गया है।

संबंधित लेख

घर में बनाना हो पूजा का स्थान, तो रखें इन बातों का ध्यान  |   घर की बगिया लाएगी बहार  

स्वस्थ रहने के 5 सरल वास्तु उपाय   |    कौन हैं आंगन की तुलसी, कैसे बनीं पौधा


एस्ट्रो लेख

पितृपक्ष के दौर...

भारतीय परंपरा और हिंदू धर्म में पितृपक्ष के दौरान पितरों की पूजा और पिंडदान का अपना ही एक विशेष महत्व है। इस साल 13 सितंबर 2019 से 16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष शुरु हो रहा है और 28...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध विधि – ...

श्राद्ध एक ऐसा कर्म है जिसमें परिवार के दिवंगत व्यक्तियों (मातृकुल और पितृकुल), अपने ईष्ट देवताओं, गुरूओं आदि के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के लिये किया जाता है। मान्यता है कि हमारी ...

और पढ़ें ➜

श्राद्ध 2019 - ...

श्राद्ध साधारण शब्दों में श्राद्ध का अर्थ अपने कुल देवताओं, पितरों, अथवा अपने पूर्वजों के प्रति श्रद्धा प्रकट करना है। हिंदू पंचाग के अनुसार वर्ष में पंद्रह दिन की एक विशेष अवधि है...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद पूर्णिम...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण होती है लेकिन भ...

और पढ़ें ➜