राशिनुसार किस भगवान की पूजा से होगी हर मनोरथ पूरी

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का बड़ा महत्व है, लेकिन कई बार रोज़ाना पूजा-पाठ करने के बावजूद भी हमारा मन अशांत ही रहता है। वहीं भगवान की पूजा के दौरान कौन सा फूल, फल और दीपक जलाना चाहिए इसका भी अपना एक महत्व है। वहीं ज्योतिष के अनुसार यदि आप रोजाना भगवान की आराधना कर रहे हैं और आपको मनचाहा फल प्राप्त नहीं हो पा रहा है तो आपको राशिनुसार भगवान का पूजन करना चाहिए। राशिनुसार भगवान का पूजन करने से आपकी मनोकामना जल्द पूर्ण हो जाती है और आपका चित्त शांत रहता है। तो चलिए आज हम आपको राशि चक्र की 12 राशियों के अनुसार भगवान की पूजा करने के बारे में विस्तार पूर्वक बताते हैं। 

 

यह राशिफल सामान्य गणना के आधार पर प्रस्तुत किया गया है अपनी कुंडली के अनुसार भगवान के पूजन के बारे में जानने के लिए एस्ट्रोयोगी पर देश भर के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से परामर्श करें।

 

यहां जानते हैं कि राशिनुसार विधि पूर्वक किस दिन कौन से भगवान की करें पूजा : 

 

मेष राशि 

राशिचक्र की पहली राशि मेष है और इन जातकों का स्वभाव चंचल होता है। इसलिए उनको उन्नति के लिए रविवार के दिन सूर्य को अर्घ्य देना चाहिए। यदि आपके विवाह में देरी हो रही है तो आपको प्रत्येक शुक्रवार को शुक्र मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे विवाह दोष दूर होता है। मेष राशि के लोग यदि किसी न किसी बीमारी से ग्रस्त करते हैं तो उन्हें प्रत्येक मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए और बजरंगबली को तुलसी चढ़ानी चाहिए। इसके अलावा छात्रों को पढ़ाई में सफलता पाने के लिए शुक्रवार को लक्ष्मीजी और सरस्वती जी की पूजा करनी चाहिए। इसके साथ ही प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने वाले छात्रों को भगवान विष्णु का सहस्त्त्रनाम का पाठ करना उत्तम रहेगा।

 

वृषभ राशि 

वृषभ राशि के लोग स्वभाव से थोड़े जिद्दी होते हैं। इन जातकों को उन्नति के लिए श्रीगणेश की पूजा करनी चाहिए। वहीं जिनकी कुंडली में विवाह दोष है तो उन जातकों को मंगलवार के दिन देवी की आराधना करनी चाहिए। यदि आप लंबे वक्त से बीमार चल रहे हैं तो भगवान श्रीकृष्ण की पूजा-अर्चना करें। वृषभ राशि वाले छात्रों को प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने के लिए शनिवार को काली मां का दर्शन करना चाहिए। 

 

मिथुन राशि 

मिथुन राशि के जातक हमेशा कन्फ्यूज रहते हैं, इसलिए इन जातकों को उन्नति के लिए बुधवार और शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। यदि आपके विवाह में देरी हो रही है तो आपको भगवान विष्णु को हल्दी लेपन करना चाहिए। वहीं अच्छे स्वास्थ्य के लिए इन राशि के लोगों को शनिवार के दिन शनिदेव के दर्शन करना शुभ माना जाता है। यदि मिथुन राशि के जातक प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता पाने चाहते हैं तो उन्हें भैरवजी की आराधना करनी चाहिए। 

 

कर्क राशि 

कर्क राशि के जातक बहुत भावुक होते हैं। इन राशि के लोगों को उन्नति प्राप्त करने के लिए मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। यदि आपको विवाह में कोई अड़चन पैदा हो रही है तो आपको शनि मंदिर में शनि मंत्र का जापकर तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए। वहीं अच्छी सेहत के लिए आपको शनिवार के दिन पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए। कर्क राशि के छात्रों को सफलता के लिए रविवार को तांबे के पात्र से कुमकुमयुक्त जल सूर्यदेव को अर्पित करना चाहिए। इसके अलावा प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने के लिए गुरुवार और शुक्रवार को लक्ष्मीनाराय़ण के दर्शन करने चाहिए। 

 

सिंह राशि 

सिंह राशि के लोगों को जीवन में संघर्ष अधिक करना पड़ता है। इन राशि के जातकों को उन्नति के लिए भगवान कृष्ण को लाल फूल और तुलसी अर्पित करनी चाहिए। यदि आपकी कुंडली में विवाह दोष है तो आपको प्रत्येक शनिवार को शनिदेव के दर्शन करने चाहिए। वहीं अच्छे स्वास्थ्य के लिए गुरुवार के दिन पीले फूल अर्पित करने चाहिए। सिंह राशि के छात्रों को सफलता पाने के लिए गणपति जी को लाल चंदन लगाना चाहिए और प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने के लिए हनुमान जी को 7 लौंग की माला अर्पित करनी चाहिए। 

कन्या राशि

कन्या राशि के जातक हमेशा जरूरत से ज्यादा पैसे कमाने के लिए एफर्ट्स करते रहते हैं। इनको उन्नति पाने के लिए नियमित शमी के पेड़ का पूजन करना चाहिए। वहीं विवाह के लिए पूर्णिमा के दिन सत्यनारायण भगवान की पूजा (worship god) करनी चाहिए और अच्छी सेहत के लिए मां आदिशक्ति का पूजन प्रत्येक मंगलवार को करना चाहिए। कन्या राशि के छात्रों को पढ़ाई में एकाग्रता के लिए शुक्रवार को लक्ष्मी चालीसा का पाठ करना चाहिए। यदि आप प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाना चाहते हैं तो प्रत्येक शुक्रवार को सफेद घोड़े को हरी घास खिलाएं।

 

तुला राशि

तुला राशि के लोग बहुत लापरवाह होते हैं। इन जातकों को उन्नति पाने के लिए शनिवार को काली मां के दर्शन करने चाहिए। यदि विवाह में देरी हो रही है तो मंगलवार को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए। अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रत्येक शुक्रवार को सांयकाल मीठा चावल गाय को खिलाना चाहिए। तुला राशि के छात्रों को पढा़ई में सफलता पाने के लिए नियमित दुर्गाचालीसा का पाठ करना चाहिए। यदि आप प्रतियोगी परीक्षा की तैयार कर रहे हैं और सफलता हासिल करना चाहते हैं तो आपको प्रतिदिन गणेशजी को दूर्वा अर्पित करनी चाहिए। 

 

वृश्चिक राशि 

वृश्चिक राशि के लोग अपने काम में सफलता ना मिलने पर अकसर परेशान रहते हैं, इसलिए उन्हें उन्नति के लिए गुरुवार को गोपाल सहस्त्रनाम का पाठ करना चाहिए। यदि आपके विवाह को लेकर कोई समस्या पैदा हो रही है तो आपको प्रतिदिन दुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए। वहीं अच्छे स्वास्थ्य के लिए बुधवार को गौरी-गणेशजी का पूजन और विसर्जन करना चाहिए। इसके अलावा वृश्चिक राशि के छात्रों को पढ़ाई में एकाग्रता के लिए गुरुवार के दिन शिवलिंग पर केसर, दूध और जल का अभिषेक करना चाहिए। 

 

धनु राशि 

धनु राशि के जातकों का स्वभाव थोड़ा रूखा होता है, ये लोग छोटी-छोटी बातों पर बहुत जल्दी रूठ जाते हैं। इनको उन्नति पाने के लिए मंगलवार को हनुमान चालीसा का 8 बार पाठ करना चाहिए। यदि विवाह में देरी हो रही है तो आपको हर बुधवार को गणेशजी को पान अर्पित करना चाहिए। इसके अलावा अच्छी सेहत के लिए प्रत्येक सोमवार को शिवजी को चंदन का लेप करना चाहिए। धनु राशि के छात्रों को अध्ययन के लिए शनि मंत्र का जाप करना चाहिए। जो छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं उन्हें सफलता के लिए सूर्याष्टकम या आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करना चाहिए। 

 

कुंभ राशि 

कुंभ राशि के लोग हमेशा दूसरों के चक्कर में पड़े रहते हैं, जिसकी वजह से उन्हें अक्सर परेशानी का सामना करना पड़ता है। इन जातकों को उन्नति के लिए शुक्रवार को मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। यदि आपकी कुंडली में विवाह दोष है तो आपको भगवान विष्णु को चंदन, केसरयुक्त हल्दी लेपन करना चाहिए। वहीं अगर आप काफी वक्त से बीमार है तो आपको अच्छे स्वास्थ्य के लिए शनिवार को शनिदेव को तेल चढ़ाना चाहिए। कुंभ राशि के छात्रों को एकाग्रता के लिए शिवजी की आराधना करनी चाहिए और प्रतियोगी परीक्षा के विद्यार्थियों को सफलता के लिए भैरवजी की पूजा करनी चाहिए। 

मीन राशि 

इस राशि के लोग लापरवाह होते हैं और अपनी जिम्मेदारियों से हमेशा भागते रहते हैं। इन जातकों को उन्नति के लिए मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। यदि आपके विवाह में देरी हो रही हैं तो आपको शनिवार को शनिदेव के मंदिर में तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए। वहीं अच्छी सेहत के लिए आपको शनिवार को पीपल के वृक्ष के नीचे दूध मिला पानी अर्पित करना चाहिए। मीन राशि के छात्रों को अध्ययन में सफलता पाने के लिए प्रत्येक रविवार को तांबे के पात्र में कुमकुम युक्त जल भरकर सूर्यदेव को अर्घ्य देना चाहिए। इसके अलावा प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने के लिए गुरुवार और शुक्रवार को लक्ष्मीनारायण के दर्शन करने चाहिए। 

 

संबंधित लेख

राशिनुसार जानें, किन राशियों के लोग बनते हैं बेस्ट कपल ? । इन ग्रहों की चाल से एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर वाला आता है भूचाल । गुडलक पाने के लिए राशिनुसार पहनें कपड़े

 

एस्ट्रो लेख

जॉब प्रमोशन पान...

आज का दौर कॉम्पटीशन का दौर है जहां पर हर इंसान एक दूसरे से आगे बढ़ने की होड़ में लगा हुआ है। ऐसे में कार्यस्थल पर ये कॉम्पटीशन और अधिक बढ़ जाता है जब बात अप्रेजल और इंक्रीमेंट की आ...

और पढ़ें ➜

विज्ञान भी है य...

भगवान शिव को वेदों और शास्त्रों में परम कल्याणकारी और जगदगुरू बताया गया है. यह सर्वोपरि तथा सम्पूर्ण सृष्टि के स्वामी हैं। भारत में एक भगवान शिव ही ऐसे हैं जिन्हें कश्मीर से लेकर क...

और पढ़ें ➜

Vadakkunnathan ...

यूं तो आपने कई शिवलिंगों के बारे में सुना होगा। लेकिन आपने कभी ऐसे शिवलिंग के बारे में सुना है जो घी से ढका हुआ है और उस पर चढ़ा घी पीघलता नहीं है। आज तक कोई इस बारे में नहीं जान प...

और पढ़ें ➜

चमत्कारी शिवलिं...

भारत की अपनी ताकत और तासीर रही है। कभी अफगानी योद्धाओं ने तो कभी अंग्रेजी ताकतों ने, इस देश को सभी ने बर्बाद करने की पूरी कोशिश की किन्तु हमारा धर्म, हमारी संस्कृति और संस्कारों की...

और पढ़ें ➜