अचूक उपाय जिनसे हो सकता है शीघ्र विवाह!

वर्तमान में देरी से विवाह करने का चलन जोरों पर है। परंतु एक समय ऐसा भी आ जाता है कि विवाह में देरी होने लगती है। क्या आपकी शादी नहीं हो रही हैं? रिश्ते आ रहे हैं लेकिन बात नहीं बन पा रही है। तो क्या आपने कभी इस पर विचार किया की ऐसा क्यों हो रहा है। विवाह न होने के कई कारण हो सकते हैं। परंतु विवाह में देरी होने का सबसे बड़ा कारण कुंडली में भी हो सकता है। जी हां हम कुंडली की बात कर रहे हैं। कहा जाता है कि विवाह हो ने का भी एक योग व समय होता है। जो निकल जाने पर विवाह में देरी करवाता है। इसके अलावा कुंडली में विवाह योग न होना भी एक कारण है। इसके साथ ही कुंडली में परिवार के पर में कोई पाप ग्रह का मौजूद होना भी विवाह में बाधाएं उत्पन्न करता है। कहीं आपकी कुंडली के परिवार भाव में तो कोई पाप ग्रह नहीं बैठा है? जानने के लिए बात करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर से। यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित होने वाला है। क्योंकि आज हम इसी विषय पर चर्चा करने जा रहे हैं। लेख में शीघ्र विवाह होने के लिए कुछ उपाय बतलाएं गए हैं। जिन्हें अपना कर आप इस समस्या से निश्चित ही छुटकारा पा सकते हैं।

शीघ्र विवाह न होने पर ज्योतिषियों का मत

ज्योतिष की माने तो बिना योग के शीघ्र विवाह संभव नहीं है। विवाह में देरी होने का कारण वर्तमान में युवक-युवती उच्च शिक्षण व एक सफल करियर बनाने के लिए विवाह में देरी कर जाते हैं। माता पिता भी इस बात का समर्थन करते हैं। जिसके विवाह में देरी हो जाती है या कहें तो विवाह को योग भंग हो जाता है। कैसे बनता है कुंडली में विवाह योग जानें। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार यदि कुंडली में विवाह योग बना हो और उस समय विवाह न किया जाए तो फिर विवाह के योग बनने में काफी समय लगता है। ऐसे में आपको कुशल ज्योतिषाचार्य से कुंडली का आकलन करवा कर विवाह योग के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहिए। यदि आप जानना चाहते हैं कि आपकी कुंडली में विवाह योग है या नहीं? तो भी बात करें देश के प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से।

कुंडली का मैरिज कनेक्शन

ज्योतिषियों का कहना है कि कुंडली में यदि कोई दोष हो तो भी शादी होने में देरी होती है यानी की विवाह योग होने के बाद भी शादी में अड़चने आती हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी जातक की कुंडली में मांगलिक दोष है तो उसके विवाह में देरी होती है। कुंडली के पहले,छठे, आठवें और बारहवें भाव में यदि मंगल हो तो यह दोष बनता है।  विद्वानों का मत है कि दूसरे भाव में भी मंगल का होना मांगलिक दोष बनाता है। कहा गया है कि लड़का या लड़की दोनों में से किसी एक की कुंडली में पूर्ण मांगलिक दोष है तो दाम्पत्य जीवन में परेशानियां आती हैं। कभी–कभी तो यह दोष शादी के टूटने का कारण भी बन जाता है। कहीं आपकी कुंडली में तो मंगल दोष नहीं? पता लगाने के लिए बात करें इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर से। 

शीघ्र विवाह के अचूक उपाय

शीघ्र विवाह के लिए शास्त्रों में कई उपाय बताए गए हैं। जिनमें से हम कुछ सामान्य उपाय यहां दे रहे हैं। जिसे अपनाने से निश्चित ही आपको लाभ होगा। आपकी शादी जल्दी ही होगी।

गुरुवार के दिन गेहूं के आटे से बने दो पेड़ों पर एक चुटकी हल्दी डालकर, गुड़ और चने की दाल के साथ गाय को खिलाएं। इस उपाय से शीघ्र विवाह का योग बनता है।

शीघ्र विवाह हेतु यह कन्याओं के लिए अच्छा प्रभावी व सरल उपाय है। कन्याओं को गुरुवार के दिन अपने सिरहाने के नीचे हल्दी की एक गांठ पीले वस्त्र में लपेट कर रखने से जल्दी ही हाथ पीले होने के शुभ योग बनते हैं। जानिए अपनी कुंडली में विवाह के योग

विवाह के लिए पूर्णिमा के दिन वट वृक्ष की 108 बार परिक्रमा करने से विवाह में आ रही परेशानियां दूर हो जाती हैं। विवाह की मनोकामना पूरी होती है। यह उपाय शीघ्र विवाह के लिए अच्छा माना जाता है।

गुरुवार दिन प्रातः शुद्ध होकर केले के वृ्क्ष के सामने शुद्ध घी का दीपक जलाएं और बृहस्पति के 108 नामों का जाप करें। ऐसा करने से आपका विवाह शीघ्र ही होगा।

गैरी शंकर की आराधना करना भी विवाह के लिए उत्तम उपाय माना जाता है। यह पूजा आप सोमवार के दिन कर सकते हैं।

एस्ट्रो लेख

शुक्र का सिंह र...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति में भी बदलाव आता ह...

और पढ़ें ➜

विदेश जाने का य...

क्या आपको पता है कि आपके विदेश जाने राज आपके हथेली में छुपा है? क्या आप इस बात को मानते है कि हमारे हथेलियों की लकीर में छिपा है हमारे किस्मत का राज? यदि जवाब हां में है तो ठीक यदि...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद - भादों...

हिन्दू पंचांग के अनुसार साल के छठे महीने को भाद्रपद अथवा भादों का महीना कहा जाता है। ये श्रावण माह के बाद और आश्विन माह से पहले आता है। सावन शंकर का महीना है तो भादों श्रीकृष्ण का ...

और पढ़ें ➜

भाई की सुख समृद...

हिंदू धर्म में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराएं विद्यमान है। दुनियाभर में भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है, यहां आए दिन कोई न कोई पर्व मनाया जाता है। वहीं किसी भी तीज-त्योहार क...

और पढ़ें ➜