Skip Navigation Links
शुक्र का कर्क राशि में परिवर्तन - जानिए किन राशियों की बदलने वाली है किस्मत


शुक्र का कर्क राशि में परिवर्तन - जानिए किन राशियों की बदलने वाली है किस्मत

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार राशिचक्र की 12 राशियों में वृषभ व तुला राशि के स्वामी शुक्र एक शुभ ग्रह माने जाते हैं। इन्हें लाभ व सुख-समृद्धि का कारक भी माना जाता है। शुक्र के बल से ही प्रेम व दांपत्य जीवन में सफलता मिलती है। इसलिये शुक्र का गोचर ज्योतिषीय आकलन के लिये बहुत मायने रखता है। 9 जून 2018 को शुक्र का राशि परिवर्तन मिथुन राशि से कर्क राशि में हो रहा है। ऐसे में समस्त राशियों को शुक्र कैसे प्रभावित करेंगें आइये जानते हैं।


शुक्र का कर्क राशि में परिवर्तन - किन राशियों की बदलने वाली है किस्मत

मेष – शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से चतुर्थ भाव में हो रहा है जो कि आपका सुख भाव है। चतुर्थ घर का शुक्र हमेशा राजयोग का कारक माना गया है। जिससे की हमारे सुख सुविधाओं में वैभव में ऐश्वर्य में वृद्धि होती है। आपकी राशि से सातवें घर के स्वामी एवं धन के स्वामी होने के कारण अविवाहित जातकों के लिये विवाह संबंधी शुभ समाचार लाने वाला भी रह सकता है। धन भाव का स्वामी होने के कारण धन वृद्धि का योग भी आपके लिये बना सकता है। कर्म भाव को भी दृष्टित रखने के कारण आपके कार्यक्षेत्र में भी उन्नति व सफलता देने वाला रहेगा। शरीर में पानी आदि की कमी हो सकती है जिससे स्वास्थ्य के प्रति आपको सचेत रहने की आवश्यकता है।

वृषभ – आपके राशि स्वामी शुक्र आपकी राशि से तीसरे स्थान में परिवर्तन कर रहे हैं जो कि आपका पराक्रम  क्षेत्र है। आपके समकक्ष व्यक्ति आपकी तरह काम करके आगे बढ़ने पर आपमें ईर्ष्या की भावना भी पनप सकती है। शुक्र आपकी राशि में लग्न और छठे घर के स्वामी होने के कारण शत्रु व रोग से आपकी रक्षा भी करेंगें। भाग्य स्थान में दृष्टित होने के कारण आपको अपने भाग्य में वृद्धि दिखाई दे सकती है। कार्यक्षेत्र में किसी भी प्रकार के वाद-विवाद से स्वयं को दूर रखें। सामर्थ्य से ज्यादा कार्य न करें अन्यथा यह आपके लिये अपेक्षाकृत परिणाम देने वाला नहीं रहेगा।

मिथुन – आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन दूसरे स्थान पर हो रहा है जो अचानक से आपके संचित धन में कमी लाने का संकेत दे रहा है। धन व्यय का योग बना रहा है। शुक्र आपकी राशि से पंचम एवं द्वादश भाव के स्वामी हैं। शुरुआती कुछ समय में संतान, प्रेम संबंध एवं शिक्षा के मामलों में दिक्कतें पेश आ सकती हैं लेकिन उसके पश्चात आपको सकारात्मक परिणाम मिलने आरंभ होंगें। द्वादश भाव का स्वामी होने के कारण धन न दें जिससे उसके वापस आने की संभावनाएं कम रहती हैं। वस्त्र एवं आभूषणों में इस समय धन व्यय कर सकते हैं।

कर्क – आपकी राशि से में ही शुक्र का परिवर्तन हो रहा है। जिससे आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता है। आपके स्वभाव में उग्रता का अहसास आपको हो सकता है। इसका उचित जगह पर इस्तेमाल करें। शरीर में विशेषकर चेहरे का खास तौर पर ध्यान रखें। चोट, अग्नि आदि से बचें इससे विकार पैदा होने की संभावनाएं बन सकती हैं। आपकी राशि में शुक्र चतुर्थ एवं एकादश भाव के स्वामी हैं। चौथा घर आपके लिये सुख एवं समृद्धि वाला है समय के साथ-साथ आपको सुख-समृद्धि में वृद्धि करेगा। परिवार व माता के साथ समय व्यतीत करने का अवसर भी मिल सकता है। एकादश भाव का स्वामी होने के कारण अपेक्षित लाभ मिलने के योग भी बन सकते हैं। आपके व्यवहार आपकी कार्यशैली में भी सकारात्मक बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

सिंह – सिंह राशि के जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि 12वें घर में होगा। यह समय आपके लिये कोर्ट कचहरी या रोग आदि में धन व्यय होने के योग बना सकता है। मस्तिष्क एवं नेत्र संबंधी रोगों के प्रति सचेत रहें। कभी कभी शत्रुओं से परेशानियां भी बढ़ सकती हैं। आपकी राशि से शुक्र तृतीय एवं कर्म भाव के स्वामी हैं। समय बढ़ने के साथ साथ आपको कार्य करने में काफी आनंद आयेगा। आपके कार्य कौशल की प्रशंसा भी सहकर्मियों द्वारा की जा सकती है। इसका आपको अपेक्षित परिणाम भी मिल सकता है। वहीं कर्मभाव का स्वामी होने के कारण आपके पास कार्य की बहुलता रहेगी। यह समय आपको अपने सपनों को साकार करने का मौका भी दे सकता है जिन्हें आप अपनी पूरी प्रतिबद्धता के साथ पूरा करें।

कन्या – कन्या राशि के जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में हो रहा है जो कि आपका लाभ का स्थान है।  शुक्र पंचम भाव को दृष्टित कर रहे हैं जिसके कारण संबंधो, शिक्षा व संतान के मामले में कुछ समय के लिये परेशानियां बढ़ सकती हैं। आपकी राशि में शुक्र भाग्य व धन भाव के स्वामी होने के कारण समय के साथ साथ आपके भाग्य के बलवान होने के संकेत हैं साथ धार्मिक रूझान भी आपका बढ़ेगा। धन भाव का स्वामी होने के कारण आपके लिये धन वृद्धि के योग भी बनेंगें। द्वीतिय स्थान के स्वामी ज्योतिषशास्त्र में मारकेश भी माने जाते हैं। छोटे मोटे रोगों को अनदेखा न करें जो कि आपके लिये कष्टप्रद रह सकते हैं।

तुला – तुला राशि के जातकों के लिये आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन दसवें घर में होगा जो कि आपका कर्मभाव है। चतुर्थ भाव दृष्ट होने के कारण समय के साथ-साथ आपकी सुख सुविधाएं, एश्वर्य एवं वैभव में भी वृद्धि हो सकती है। आपकी राशि में शुक्र लग्न व आठवें घर के स्वामी भी हैं। लग्न से आपको शारीरिक व्याधियों से छुटकारा मिल सकता है, जीवन की सुख सुविधाओं का आनंद लेने का योग भी है। अष्टमेश होने के कारण शारीरिक कमजोरी के संकेत भी कर रहा है।

वृश्चिक – वृश्चिक राशि के जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से नवें घर में हो रहा है जो कि आपका भाग्य का स्थान है। इस समय केवल अपने कर्म पर ध्यान दें। आपकी राशि में शुक्र सप्तम एवं द्वादश भाव के स्वामी हैं। शुरुआत में कुछ समय के लिये दांपत्य जीवन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है तथा फिजूल खर्ची के योग भी आपके लिये बन सकते हैं। सप्तम भाव का स्वामी होने के कारण रोग वृद्धि भी हो सकती है जिससे आपको मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। पराक्रम भाव में दृष्टि होने के कारण आप अपने कर्म से सभी प्रकार की परेशानियों से छुटकारा पा सकते हैं।

धनु – धनु राशि के जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से अष्टम भाव में होगा जो कि आपकी स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं में वृद्धि कर सकता है। अपने या किसी करीबी के स्वास्थ्य के कारण यात्राएं भी करनी पड़ सकती हैं। किसी प्रकार के कानूनी, अदालती कार्रवाई का शिकार भी आपको होना पड़ सकता है सतर्क रहें। धन भाव में शुक्र की दृष्टि होने के कारण समय के साथ-साथ धन वृद्धि होने के योग भी हैं। आपकी राशि में शुक्र लाभ व छठे घर के स्वामी हैं। शत्रु वृद्धि भी करवा सकता है। लाभ का स्वामी होने के कारण आपको अच्छे धन लाभ के संकेत भी बन रहे हैं।

मकर – मकर राशि के जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से सप्तम घर में हो रहा है। सप्तम भाव आपका दांपत्य जीवन तथा उदर संबंधी विकारों को भी देखता है। शुरुआती कुछ समय आपके दांपत्य जीवन के लिये नकारात्मक रह सकता है। वाद-विवाद के कारण मानसिक परेशानियां हो सकती हैं। समय के साथ-साथ यह आपके दांपत्य जीवन को सामान्य करने की क्षमता भी रखता है। प्रथम भाव में दृष्टि होने के कारण आप अपने अंदर एक नई ऊर्जा का संचार महसूस कर सकते हैं। आपकी राशि में शुक्र कर्म एवं पंचम भाव के स्वामी हैं। शुरुआती कुछ समय आपके संबंधों में दिक्कत दे सकता है लेकिन बाद में संबंधों में प्रगाढ़ता आयेगी इसी तरह के उतार-चढ़ाव आप कर्मक्षेत्र में भी देख सकते हैं।

कुंभ – कुंभ जातकों के लिये शुक्र छठे घर में आ रहे हैं जो कि आपका शत्रु व रोग का घर है। पुराने शत्रुओं व पुराने रोगों से सावधान रहें, अचानक उभार ले सकते हैं। व्यय भाव में दृष्टि होने के कारण शुरुआती कुछ समय आपके लिये फिजूलखर्ची वाला रह सकता है। लेकिन इसके पश्चात भविष्य की योजनाओं को लेकर निवेश कर सकते हैं। आपकी राशि से शुक्र भाग्य एवं सुख भाव के स्वामी भी हैं जो कि आपके लिये भाग्यवर्धक समय बना रहे हैं। भाग्य एवं कर्म की सहायता से आप अपने जीवन में सभी प्रकार की सुख सुविधाओं का आनंद भी लेंगें।

मीन – मीन राशि वालों के लिये शुक्र पंचम भाव में परिवर्तित होंगें जो कि आपका संतान, शिक्षा व प्रेम संबंधों का कारक है। प्रेम जीवन में पार्टनर से रिश्तों में सकारात्मक प्रभाव दिखाई दे सकते हैं। लाभ भाव में दृष्टि होने के कारण शुरुआती कुछ दिनों तक आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इसके पश्चात स्थिति सामान्य बन सकती है। आपकी राशि में शुक्र पराक्रम एवं अष्टम भाव के स्वामी होने के कारण आपकी पराक्रम क्षमता को तो बढ़ायेगा ही तथा कार्य करने में आपकी रूचि से प्रभावित होकर लोग आपकी प्रशंसा भी कर सकते हैं। अष्टम भाव का स्वामी होने के कारण स्वास्थ्य संबंधी चिंताएं शुरुआत में बढ़ा सकता है। इसका विशेष ध्यान रखें लेकिन कुछ समय के पश्चात यह स्थिति भी सामान्य हो जायेगी।

आपकी कुंडली में शुक्र की स्थिति कैसी है व शुक्र कैसे आपको प्रभावित कर रहे हैं? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |  ग्रह गोचर 2018   |   शुक्र गोचर 2018




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...