Skip Navigation Links
शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !


शुक्र का मेष राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

वर्तमान में शुक्र अपनी उच्च मानी जाने वाली राशि मीन में गोचर कर रहे हैं जो कि 26 मार्च 2018 से मेष राशि में परिवर्तन कर रहे हैं। उच्च राशि को त्यागकर शुक्र आगे बढ़ रहे हैं। कोई भी ग्रह उच्च होने पर शुभाशुभ जैसा भी प्रभाव डालता है वह सामान्य से अधिक डालता है। ऐसे में उच्च राशि को त्यागने पर आपकी राशि पर इसके पोजीटिव या नेगेटिव क्या इफेक्ट होंगे आइये जानते हैं।


शुक्र राशि परिवर्तन और आपका राशिफल

मेष

शुक्र आपकी ही राशि में आ रहे हैं। ऐसे में यह समय आपके लिये अनुकूल परिणाम लाने वाला रह सकता है। इस समय आपकी मनोकामना पूरी हो सकती है। शुक्र का आपकी राशि में आना आपके लिये धन लाभ के योग भी बना रहा है। जो अविवाहित जातक अपने लिये जीवन साथी की तलाश में हैं उनके लिये भी यह परिवर्तन काफी मददगार साबित हो सकता है। लाइफ पार्टनर के लिये आपकी तलाश पूरी हो सकती है। अविवाहित प्रेमी जातकों के लिये भी यह समय शानदार रहने के आसार हैं।


वृष

आपकी राशि से राशि स्वामी शुक्र का परिवर्तन 12वें स्थान में हो रहा है। कुल मिलाकर शुक्र आपके लिये लाभकारी रह सकते हैं। 12वां स्थान व्यय का स्थान माना जाता है इसलिये आपके खर्चों में बढ़ोतरी होने की भी प्रबल संभावनाएं हैं लेकिन साथ ही धन प्राप्ति के योग भी हैं। हालांकि स्वास्थ्य को लेकर थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। परिजनों व लाइफ पार्टनर के साथ अच्छा समय व्यतीत करने को मिल सकता है। कहीं बाहर घुमने का प्रोग्राम भी बना सकते हैं।


मिथुन

आपकी राशि से शुक्र लाभ स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। प्रोफेशनल एवं फाइनेंशियल लाइफ अच्छी रहने की उम्मीद कर सकते हैं। कार्यस्थल पर समय अनुकूल बने रहने के आसार हैं। कामकाज के लिये छोटी-मोटी यात्राएं भी करनी पड़ सकती हैं। रोमांटिक लाइफ में भी पार्टनर के साथ रिश्ते अनुकूल रह सकते हैं। जो अविवाहित जातक विवाह के लिये शुभ समय के इंतजार में हैं उनके लिये विवाह के योग बन सकते हैं। स्वास्थ्य कुशल रहने की संभावनाएं हैं। पर्सनल लाइफ भी खुशनुमा रहने के आसार हैं।


कर्क

कर्म भाव में शुक्र का आना आपके लिये शुभ संकेत कर रहा है। मां के लिये तो यह समय विशेष रूप से सौभाग्यशाली रह सकता क्योंकि आप उनके साथ अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। जो जातक लंबे समय से घर या गाड़ी खरीदने की फिराक में हैं उन्हें भी उनकी पसंद का घर या मनपसंद गाड़ी मिल सकती है। पानी से जुड़े कारोबार में लाभ होने की उम्मीद भी आप कर सकते हैं। संपत्ति के लेन-देन में भी लाभ मिल सकता है। कृषि क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये भी यह समय लाभकारी रहने व धन प्राप्ति के संकेत कर रहा है। विद्यार्थियों का मन भी पढ़ाई की ओर अग्रसर हो सकता है।


सिंह

सिंह राशि वालों के लिये शुक्र का परिवर्तन भाग्य स्थान में हो रहा है। यह समय आपके लिये भाग्योन्नति के संकेत कर रहा है। शुक्र आपके लिये काफी खुशियां लेकर आ सकते हैं। यदि गत दिनों में आपने कड़ी मेहनत की है तो इस समय आपको उसका फल मिल सकता है। इस समय आप किसी भी काम में हाथ आजमाएं उसी में आपको सफलता मिलेगी। जिस परियोजना में निवेश करेंगें उसी में आपको लाभ मिल सकता है। कार्योन्नति की उम्मीद भी कर सकते हैं। स्वास्थ्य बेहतर बने रहने के आसार हैं।


कन्या

आपकी राशि से शुक्र अष्टम भाव में विचरण करेंगें। हो सकता है शुक्र का यह परिवर्तन अनुकूल परिणाम न लेकर आये। अष्टम स्थान में शुक्र रहने तक आपको अपनी सेहत के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। आपको खर्च भी अनावश्यक रूप से बढ़ सकते हैं। आप मानसिक रूप से अशांत महसूस कर सकते हैं। एक प्रकार का तनाव मस्तिष्क में बना रहेगा। आपके लिये सलाह है कि हल्के फुल्के व्यायाम के साथ ध्यान व योग क्रियाओं को नियमित रूप से आरंभ करें। राहत मिलेगी।


तुला

तुला राशि के स्वामी स्वयं शुक्र हैं जो कि छठे स्थान में अपनी उच्च राशि को छोड़कर आपकी राशि से सप्तम भाव में प्रवेश कर रहे हैं। आपके लिये शुक्र शुभ समय रहने के संकेत कर रहे हैं। विशेषकर पर्सनल लाइफ काफी अच्छी रहेगी। लाइफ पार्टनर की पूरी सपोर्ट आपको मिलेगी। जो अविवाहित जातक अभी तक एकांकी जीवन व्यतीत कर रहे हैं उन्हें भी अपना लाइफ पार्टनर मिल सकता है। प्रेमी युगलों के लिये भी यह समय पोजीटिव कहा जा सकता है। व्यावसायिक तौर पर आप अपने काम को बढ़ा सकते हैं। नौकरीशुदा जातक भी कार्योन्नति की उम्मीद कर सकते हैं। हां इस दौरान आपको अपनी सेहत के प्रति थोड़ा सावधान रहने की आवश्यकता रहेगी।


वृश्चिक

आपकी राशि से शुक्र छठे भाव में गोचररत होंगे जो कि आपके स्वास्थ्य व प्रतिरोधियों, विपक्षियों का कारक स्थान है। आपके लिये इन दोनों ही क्षेत्रों में समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। सेहत के मामले में आपको अतिरिक्त सावधानी रखने की आवश्यकता रहेगी। खासकर डॉयबिटिज़ के रोगी सतर्क रहें। वहीं नौकरीपेशा व व्यवसायी जातकों को अपने प्रतिस्पर्धियों, प्रतिद्वंदियों से भी सावधान रहना होगा। कुल मिलाकर प्रोफेशनल लाइफ पर आपको अपना पूरा फोकस करने की आवश्यकता इस समय में रहेगी।


धनु

धनु राशि वालों के लिये शुक्र का यह परिवर्तन पंचम भाव में हो रहा है। यह समय संतान पक्ष की ओर से आपके लिये कोई खुशखबरी लेकर आ सकता है। यदि अपने बच्चों की शिक्षा को लेकर चिंतित हैं तो आपकी चिंता का निवारण भी हो सकता है। जो जातक कलाक्षेत्र खासकर अभिनय के क्षेत्र में हाथ आजमाना चाहते हैं सफलता पा सकते हैं। नाम, शोहरत व पैसा पाने के लिहाज से यह आपको लिये सही समय कहा जा सकता है।


मकर

आपकी राशि से सुख भाव में शुक्र आ रहे हैं। प्रोपर्टी संबंधी लेन-देन के मामलों में आपको लाभ हो सकता है। परिवार में किसी मांगलिक आयोजन के संकेत भी मिल रहे हैं। आपकी फाइनेंशियल कंडीशन बेहतर रहने के आसार हैं। परिजनों व दोस्तों का सहयोग आपके हौसले को बढ़ाने वाला रहेगा।


कुंभ

आपकी राशि से तीसरे स्थान में शुक्र आ रहे हैं जो कि आपके पराक्रम का स्थान है। छोटे भाई बहनों से आपके रिश्ते मधुर बने रह सकते हैं। इस समय परिजनों के साथ किसी स्थान पर घुमने का प्रोग्राम बना सकते हैं। छोटी मोटी यात्रा के योग आपके लिये बन रहे हैं। प्रोफेशनल एवं फाइनेशियल लाइफ में स्थिरता बनी रहेगी।


मीन

शुक्र का परिवर्तन आपकी राशि से ही हो रहा है। आपकी राशि में शुक्र उच्च तो बुध नीच होकर गोचर कर रहे हैं जिससे दोनों मिलकर आपके लिये नीचभंग राजयोग बना रहे हैं। शुक्र परिवर्तन के पश्चात नीच भंग राज योग तो समाप्त हो रहा है लेकिन धन भाव में शुक्र के आने से आपके लिये धन प्राप्ति के योग बन रहे हैं। परिवार या लाइफ पार्टनर के साथ काफी अच्छा समय व्यतीत करने को मिल सकता है। आपकी सेहत अच्छी बनी रहने के आसार है। कुल मिलाकर शुक्र का यह परिवर्तन आपके लिये सुखद कहा जा सकता है।

आपकी कुंडली में शुक्र की स्थिति कैसी है व शुक्र कैसे आपको प्रभावित कर रहे हैं? इसके लिये एस्ट्रोयोगी पर इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से गाइडेंस लें।


यह भी पढ़ें

ग्रह गोचर 2018   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

कन्या राशि में बुध का गोचर -   क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव?

कन्या राशि में बुध...

राशिचक्र की 12 राशियों में मिथुन व कन्या राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं। बुध बुद्धि के कारक, गंधर्वों के प्रणेता भी माने गये हैं। यदि बुध के प्रभाव की बात करें तो ...

और पढ़ें...
भाद्रपद पूर्णिमा 2018 – जानें सत्यनारायण व्रत का महत्व व पूजा विधि

भाद्रपद पूर्णिमा 2...

पूर्णिमा की तिथि धार्मिक रूप से बहुत ही खास मानी जाती है विशेषकर हिंदूओं में इसे बहुत ही पुण्य फलदायी तिथि माना जाता है। वैसे तो प्रत्येक मास की पूर्णिमा महत्वपूर्ण ...

और पढ़ें...
अनंत चतुर्दशी 2018 – जानें अनंत चतुर्दशी पूजा का सही समय

अनंत चतुर्दशी 2018...

भादों यानि भाद्रपद मास के व्रत व त्यौहारों में एक व्रत इस माह की शुक्ल चतुर्दशी को मनाया जाता है। जिसे अनंत चतुर्दशी कहा जाता है। इस दिन अनंत यानि भगवान श्री हरि यान...

और पढ़ें...
परिवर्तिनी एकादशी 2018 – जानें पार्श्व एकादशी व्रत की तिथि व मुहूर्त

परिवर्तिनी एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को व्रत, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही शुभ फलदायी माना जाता है। मान्यता है कि एकादशी व्रत ...

और पढ़ें...
श्री गणेशोत्सव - जन-जन का उत्सव

श्री गणेशोत्सव - ज...

गणों के अधिपति श्री गणेश जी प्रथम पूज्य हैं सर्वप्रथम उन्हीं की पूजा की जाती है, उनके बाद अन्य देवताओं की पूजा की जाती है। किसी भी कर्मकांड में श्री गणेश की पूजा-आरा...

और पढ़ें...