Skip Navigation Links
सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?


सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?

14 मार्च को सूर्य का शनि की राशि कुंभ से गुरु की राशि मीन में परिवर्तन हो जायेगा। सूर्य जो कि स्वभाव से क्रूर ग्रह माने जाते हैं। कुंभ राशि के स्वामी शनि सूर्य से जहां शत्रुता का भाव रखते हैं वहीं मीन राशि स्वामी गुरु से सूर्य का संबंध मैत्रीपूर्ण होता है। इस समय बुध भी सूर्य के साथ मीन में दाखिल होंगे जहां शुक्र पहले से वक्री होकर बैठे हैं। ऐसे में सूर्य का मीन राशि में दाखिल होना सभी राशियों को कैसे प्रभावित करेगा आइये जानते हैं –

मेष

मेष राशि के लिये सूर्य का परिवर्तन 12वें घर में हो रहा है। विद्यार्थियों के लिये समय काफी अच्छा रहने के आसार हैं हालांकि ऐच्छिक परिणाम हासिल करने के लिये कड़ी मेहनत भी करनी होगी। वर्तमान नौकरी से असंतुष्ट जातकों को नये और बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं। लेकिन प्यार के मामले में तकारार बढ़ने के भी आसार हैं। आपके लिये सलाह है कि अपने साथी की भावनाओं को आहत न करें न ही उनके साथ किसी भी प्रकार की बहसबाजी में पड़ें।

वृष

राशि से ग्यारहवें स्थान में सूर्य का परिवर्तन आपके लिये अच्छा रहने के आसार हैं। संपत्ती खरीदने का विचार भी बना सकते हैं। यदि किसी परियोजना में निवेश करना चाहते हैं तो उसके लिये भी समय काफी शुभ है। यदि लंबे समय से दोस्तों के साथ मस्ती नहीं की है तो यह समय दोस्तों के साथ अच्छा समय व्यतीत करने के लिहाज से भी आपके लिये काफी बेहतर कहा जा सकता है।

मिथुन

मिथुन जातकों के लिये सूर्य का परिवर्तन 10वें भाव में हो रहा है। यह परिवर्तन व्यावसायिक दृष्टि से आपके लिये काफी अच्छा है। विशेषकर फाइन आर्ट के क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये तो बहुत ही भाग्यशाली कहा जा सकता है। आपकों इस समय अपनी कला में महारत के साथ प्रसिद्दि भी प्राप्त हो सकती है। अभिनय व संचार क्षेत्र में काम करने वाले मिथुन जातकों के लिये भी समय शुभ रहने के आसार हैं।

कर्क

सूर्य आपकी राशि से 9वें घर में प्रवेश कर रहा है जो कि पिता के लिये अच्छा रहेगा। यदि पिछले कुछ समय से आपके पिता अस्वस्थ हैं तो उनका स्वास्थ्य सूर्य के प्रभाव से बेहतर होगा। इस समय आपका रूझान धार्मिक कार्यों की ओर अग्रसर होने की संभावना है। चूंकि सूर्य क्रूर ग्रह माने जाते हैं अत: यह समय यह आपके छोटे भाई-बहनों के लिये शुभ नहीं कहा जा सकता। हो सकता है उनके साथ आपका मनमुटाव हो या उन्हें किसी अन्य परेशानी का सामना करना पड़े।

सिंह

आपके राशि स्वामी आपकी राशि से परिवर्तित होकर अष्टम भाव में आ जायेंगें अत: इस समय आपको या आपके किसी करीबी को स्वास्थ्यगत परेशानियों से दो चार होना पड़ सकता है। आंख व हड्डियों संबंधी रोगों से विशेष रूप से सावधान रहने की जरूरत है। जरा सा भी लक्षण दिखाई दे चिकित्सक से परामर्श लेने में किसी तरह की लापरवाही न बरतें। इस समय आर्थिक रूप से भी आपके खर्चों में बढ़ोतरी हो सकती है इसलिये अपनी जेब का भी ध्यान रखें और सोच-समझकर आवश्यक वस्तुओं पर ही खर्च करें।

कन्या

सातंवा स्थान दांपत्य जीवन को प्रभावित करता है, यह विवाह का स्थान माना जाता है। सूर्य परिवर्तित होकर आपकी राशि से सप्तम भाव में ही आ रहे हैं इस लिये इस समय अपने संबंधों को लेकर थोड़ी सतर्कता बरतें। जीवन साथी के साथ किसी तरह वाद-विवाद न करें और न ही किसी भी तरह उनकी भावनाओं को आहत होने दें। हालांकि सुदूर क्षेत्र में व्यवसाय करने वालों को इस समय लाभ प्राप्त हो सकते हैं कुल मिलाकर सूर्य का यह परिवर्तन आपके व्यक्तिगत जीवन में नकारात्मक तो व्यावसायिक जीवन में सकारात्मक परिणाम देने वाला रह सकता है।

तुला

आपकी राशि से सूर्य का परिवर्तन छठे घर में हो रहा है जिसका आपकी राशि पर नकारात्मक प्रभाव पड़ने के आसार हैं। अपने खर्चों पर नियंत्रण करने का प्रयास करें। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। बुखार, सिरदर्द, आंख सबंधी संक्रामक रोग का शिकार बन सकते हैं। अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने के लिये अपने खान-पान संबंधी आदतों में सुधार कर सकते हैं। यदि न्यायालय में आपका कोई मामला विचाराधीन है तो आपका पलड़ा भारी हो सकता है।

वृश्चिक

राशि से पंचम स्थान पर सूर्य का आना आपके लिये बहुत ही भाग्यशाली कहा जा सकता है। कामकाजी जीवन भी काफी अच्छा रहने के आसार हैं। समय रहते लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं। सार्वजनिक क्षेत्र में कार्यरत जातकों के लिये बहुत ही शुभ समय है। संतान पक्ष की ओर से भी आपको शुभ समाचार मिल सकता है। वृश्चिक राशि के बालक इस समय में काफी ऊर्जावान और उत्साही रहेंगें। आपका आत्मविश्वास भी सूर्य के प्रभाव से चरम पर रहने के आसार हैं।

धनु

लंबे समय से यदि आप अपने परिवार को समय नहीं दे पायें हैं तो परिजनों के साथ एक बेहतर समय व्यतीत करने को मिल सकता है। चतुर्थ भाव में सूर्य का दाखिल होना इसी का संकेत हैं। सरकारी नौकरी करने वाले जातकों के लिये भी यह समय काफी अच्छा नज़र आ रहा है। अपना घर बनाने का सपना यदि संजो रखा है तो प्रयास सफल हो सकते हैं। वाहन आदि की खरीददारी करना चाहते हैं तो उसके लिये भी समय शुभ है। कुल मिलाकर हर क्षेत्र में आप अपने आत्मबल से सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

मकर

मकर जातकों के लिये राशि से तीसरे स्थान पर सूर्य आयेगें जो कि आपके लिये शुभ संकेत नहीं है। भाई-बहनों के स्वास्थ्य के प्रति आप चिंतित हो सकते हैं। या फिर उनका गलत संगत में पड़ना और आपकी बातों को नजरंदाज करना भी आपको अखर सकता है। पिता के स्वास्थ्य को लेकर भी आप परेशान हो सकते हैं। दूसरों की देखभाल करते-करते आप स्वयं कब बिमार होंगे हो सकता आपको इसका पता भी न चले इसलिये अपनी सेहत के प्रति भी सचेत रहें। छोटी-मोटी यात्रा के योग भी आपके लिये बनेंगें कुल मिलाकर सूर्य का यह परिवर्तन आपके जीवन में परेशानियां लाने वाला रह सकता है लेकिन परेशान न हों यह दौर लंबे समय तक नहीं रहेगा।

कुंभ

अपनी राशि दूसरे घर में सूर्य का परिवर्तन हो रहा है। सूर्य चूंकि क्रूर ग्रह माने जाते हैं दूसरे भाव में यह आपकी वाणी को प्रभावित कर सकते हैं। इस समय आप अनावश्यक वाद-विवाद में पड़ सकते हैं जिसका असर आपके संबंधों पर भी नकारात्मक रूप से पड़ सकता है। आपकी बातें आपके साथी की भावनाओं को ठेस पंहुचा सकती हैं। कुल मिलाकर इस समय आपको अपनी वाणी को नियंत्रण करने की आवश्यकता है।

मीन

कुंभ से परिवर्तित होकर आपकी ही राशि में सूर्य का प्रवेश हो रहा है जहां बुध पहले से ही विराजमान हैं। लेकिन शुक्र वक्री अवस्था में गोचर कर रहे हैं। ऐसे में सूर्य का आना आपके स्वास्थ्य व संबंधों में तो परेशानी खड़ी करेगा ही साथ ही आपके व्यवसाय में भी इसके नकारात्मक प्रभाव पड़ने की संभावनाएं हैं।


कुल मिलाकर सूर्य का परिवर्तन विभिन्न राशियों को सकारात्मक और नकारात्मक दोनों ही रूपों में प्रभावित करेगा। हालांकि राशिफल की सटीकता  लेकिन यदि आप चाहते हैं सूर्य परिवर्तन के नकारात्मक प्रभाव आप पर न पड़ें तो इसका सरल ज्योतिषीय समाधान आप एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिष पंडितों से परामर्श कर जान सकते हैं। ज्योतिषियों से परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

अन्य लेख

शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर   |   बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर गुरु कन्या में हुए वक्री 

क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से   |   आपकी राशि और नापसंद बातें   |   राशि के अनुसार धन प्राप्ति के मंत्र   |   

दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग   |   आपका राशि चक्र और रूचि   |   आपका राशि चक्र और शौक   |   

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |   राशिनुसार धारण करें रत्न 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...