शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्री होकर गोचर करने लगे थे। 16 नवंबर को शुक्र की चाल पुन: बदल रही है व शुक्र वक्री से मार्गी हो रहे हैं। वर्षांत तक शुक्र तुला राशि में ही बने रहेंगें। 16 नवंबर को ही तुला राशि से निकलकर सूर्य वृश्चिक राशि में चले जायेंगें। नीच राशि से सूर्य का निकलना व शुक्र का वक्री से मार्गी होना सभी राशियों के लिये कहीं न कहीं पोजिटिव संकेत कर रहा है। ऐसे में सभी 12 राशियों को शुक्र कैसे प्रभावित कर रहे हैं आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि वालों के लिये सातवें स्थान में शुक्र का मार्गी होना दांपत्य जीवन में एक नया रोमांच पैदा कर रहा है। हाल ही में यदि पार्टनर के साथ आपके रिश्तों में कुछ खटपट रही है तो अब उनमें मधुरता आने के योग बन रहे हैं। जो जातक अभी तक सिंगल हैं उन्हें भी अपना प्यार मिल सकता है। नये घर या गाड़ी की खरीददारी के लिये लंबे समय से प्रयासरत जातकों को अच्छे ऑफर इस समय मिल सकते हैं। प्रोफेशनली भी आपको काफी बेनिफिट इस समय मिल सकते हैं। बेरोजगार जातक करियर में एक नई शुरुआत की उम्मीद कर सकते हैं। नौकरी में परिवर्तन के इच्छुक जातकों के लिये भी बेहतर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं।

वृषभ – शुक्र आपकी राशि के स्वामी भी हैं। छठे घर में राशि स्वामी का वक्री से मार्गी होना कहीं न कहीं हेल्थ के मामले में आपको सतर्क रहने के संकेत कर रहा है। शारीरिक कमजोरी के संकेत भी मिल रहे हैं। प्रोफेशनली आपके लिये लाभ का समय है। प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी लेकिन आप अपने प्रतिद्वंदियों पर हावि रह सकते हैं। रोमांटिक लाइफ के लिये अच्छा समय है। पार्टनर या लाइफ पार्टनर के साथ एक अच्छी यात्रा की उम्मीद रख सकते हैं।

मिथुन – मिथुन राशि वालों के लिये पांचवे स्थान में शुक्र का मार्गी होना आपके लिये संतान पक्ष की ओर से कोई खुशखबरी मिलने के संकेत कर रहा है। विद्यार्थियों के लिये भी यह समय अच्छे परिणाम लेकर आ सकता है। जो जातक विदेश जाने के इच्छुक हैं उन्हें सफलता मिल सकती है। विवाह के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। जो जातक सिंगल हैं और लंबे समय से अपने दिल की बात किसी खास के सामने व्यक्त करना चाहते हैं उन्हें सकारात्मक रिस्पोंस मिल सकता है।

कर्क – चौथे स्थान में शुक्र मार्गी हो रहे हैं। आपके लिये शुक्र की चाल में आया यह बदलाव सकारात्मक परिवर्तन लेकर आ सकता है। नये घर या नई गाड़ी लेने का विचार बना रहे हैं तो यह समय आपके लिये बहुत ही शुभ रहने वाला है। इस समय आपके लिये सफल यात्राओं के योग भी बन सकते हैं। रोमांटिक लाइफ में पार्टनर के साथ संबंध मधुर बने रहेंगें। दोस्तों व परिजनों का पूरा सहयोग आपको मिलेगा। धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं।

सिंह – सिंह राशि वालों के लिये समय भाग्य में वृद्धि करने वाला है। पराक्रम के स्थान यानि आपकी राशि से तीसरे घर में शुक्र मार्गी हो रहे हैं। करियर में सफलता के योग इस समय बन रहे हैं। परिवार में छोटे भाई बहनों का प्यार आपको मिलेगा। छोटी-छोटी यात्राएं भी आपको इस समय करनी पड़ सकती हैं।

कन्या – आपकी राशि से दूसरे स्थान में शुक्र मार्गी हो रहे हैं। यह आपके फंसे हुए पैसे को निकलवाने में सहायक हो सकते हैं। रुका हुआ धन आपको मिल सकता है। जिन जातकों के विवाह में पिछले कुछ समय से बाधाएं आ रही हैं उनके लिये रिश्ते की बात बन सकती है। यदि कहीं घुमने की योजना बना रहे हैं तो अच्छा समय हैं हां अनावश्यक खर्च करने से बचें तो बेहतर रहेगा।

तुला – आपकी राशि के स्वामी शुक्र स्वयं आपकी ही राशि में गोचर कर रहे हैं जहां वे वक्री से मार्गी हो रहे हैं। स्वास्थ्य में सुधार के संकेत शुक्र आपके लिये कर रहे हैं। मानसिक तौर पर यदि हाल ही में तनावग्रस्त रहे हैं तो तनाव से भी आपको राहत मिल सकती है। दांपत्य जीवन में भी सुधार के आसार नज़र आ रहे हैं। इस समय आपके उत्साह में भी वृद्धि हो रही है। मांगलिक कार्य के आयोजन भी इस दौरान हो सकते हैं।

वृश्चिक – वृश्चिक जातकों के लिये शुक्र 12वें घर में मार्गी हो रहे हैं। आपका कोई काम यदि पैसे की तंगी के कारण अभी तक अटका पड़ा है तो उसके बनने की शुरुआत होगी। यानि कहीं से आपको इस मामले में मदद मिल सकती है। माता के स्वास्थ्य को लेकर भी चिंतित रहे हैं तो सेहत में सुधार हो सकता है। प्रोफेशनल लाइफ भी अच्छी रहेगी। कार्यस्थल से कोई खुशखबरी आपको मिल सकती है। आपके लिये सलाह है कि इस दौरान घर या गाड़ी का लेन-देन करने की सोच रहे हैं तो थोड़ी सावधानी रखें।

धनु – धनु राशि वालों के लिये 11वें घर में शुक्र मार्गी हो रहे हैं जो कि लाभ का स्थान माना जाता है। शुक्र लाभ के कारक भी माने जाते हैं। आपके लिये यह समय बहुत ही लाभकारी रहने के योग बन रहे हैं। लाइफ पार्टनर के साथ यात्रा के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। रोमांटिक लाइफ भी काफी अच्छी रहने के योग आपके लिये बन रहे हैं। प्रोफेशनली भी आपके लिये काफी अच्छा समय रहने के आसार हैं। मन में उत्साह रहेगा। एक नई उमंग जगेगी। कुल मिलाकर मनोकामनाओं के पूर्ण होने का समय आपके लिये शुक्र लेकर आ रहे हैं।

मकर – मकर राशि से शुक्र दसवें स्थान में मार्गी हो रहे हैं। जो जातक किसी नये काम की शुरुआत करने के इच्छुक हैं उनके लिये बहुत ही अच्छे योग शुक्र बना रहे हैं। किसी नये बिजनेस की शुरुआत कर सकते हैं। शिक्षा क्षेत्र में भी आपके लिये यह समय शुभ रहने के संकेत बन रहे हैं। रोमांटिक लाइफ की बात करें तो जो जातक अभी तक सिंगल हैं वह अपनी रोमांटिक लाइफ की शुरुआत कर सकते हैं। विवाहित जातकों के लिये संतान प्राप्ति के योग बन रहे हैं।

कुंभ – कुंभ राशि वालों के लिये भाग्य स्थान में शुक्र का मार्गी होना भाग्य वृद्धि के संकेत कर रहा है। नया घर या गाड़ी लेने का विचार बना सकते हैं। अचानक से धन प्राप्ति के योग भी आपके लिये बन रहे हैं। जोखिम वाले क्षेत्रों में धन लगा सकते हैं बशर्ते आप अपनी रिसर्च पहले अच्छे से कर लें। धार्मिक कार्यों में भी आपकी रूचि बढ़ेगी। किसी धार्मिक स्थल की यात्रा के लिये भी जा सकते हैं।

मीन – मीन राशि वालों के लिये अष्टम भाव में शुक्र मार्गी हो रहे हैं। आठवें स्थान को मारक घर भी माना जाता है। हेल्थ के मामले में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। संतान पक्ष की ओर से भी चिंतित रह सकते हैं विशेषकर जो विवाहित जातक बच्चे की प्लानिंग कर रहे हैं उन्हें परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। रिलेशनशिप की बात करें तो एकस्ट्रा मैरिटल अफेयर करने से बचें अन्यथा गृहस्थ जीवन में अशांति व कलह के योग बन रहे हैं। प्रोफेशनल लाइफ में भी काम पर फोकस करने की आवश्यकता रहेगी। हालांकि कठिन परिस्थितियों में सगे संबंधियों व दोस्तों का सहयोग आपके हौसले को बनाए रखेगा।

प्रिय पाठकों, यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। हो सकता है आपकी कुंडली के अनुसार शुक्र का यह गोचर कुछ अलग प्रभाव डाल रहा हो। ऐसे में एस्ट्रोयोगी सलाह देते हैं कि आप अपनी कुंडली के अनुसार शुक्र का प्रभाव जानने के लिये भारत के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से परामर्श लें। एस्ट्रोलॉजर्स से ऑनलाइन परामर्श लेने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

 ग्रह गोचर 2018   |   शुक्र गोचर 2018   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   | 

एस्ट्रो लेख

खर मास - क्या क...

भारतीय पंचाग के अनुसार जब सूर्य धनु राशि में संक्रांति करते हैं तो यह समय शुभ नहीं माना जाता इसी कारण जब तक सर्य मकर राशि में संक्रमित नहीं होते तब तक किसी भी प्रकार के शुभ कार्य न...

और पढ़ें ➜

सूर्य ग्रहण 201...

ग्रहण (Grahan)इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं हैं एक और जहां इसका वैज्ञानिक मह...

और पढ़ें ➜

अधिक मास - क्या...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को मानने वाले इस शब...

और पढ़ें ➜

प्रदोष व्रत 2020

इस व्रत को उत्तर भारत में प्रदोष वर्त तथा दक्षिण भारत में प्रदोषम के नाम से जाना जाता है। व्रत में भगवान शिव की स्तुति की जाती है। मान्यताओं कि माने तो शुक्रवार को पड़ने वाला प्रदो...

और पढ़ें ➜