शुक्र का धनु राशि में गोचर - क्या होगा प्रभाव?

ज्योतिषशास्त्र में शुक्र को लाभ का कारक माना जाता है। राशिचक्र की दूसरी राशि वृषभ एवं सातवीं राशि तुला शुक्र की राशियां मानी जाती हैं। शुक्र की प्रत्येक गतिविधि ज्योतिषविदों के लिये बहुत अहम होती है। 21 नवंबर 2019 को अपराह्न 12 बजकर 36 मिनट पर शुक्र वृश्चिक राशि से परिवर्तन कर धनु राशि में प्रवेश कर रहे हैं। राशिनुसार शुक्र आपको कैसे प्रभावित करेंगें आइये जानते हैं।

यह राशिफल सामान्य गणना के आधार पर प्रस्तुत किया गया है अपनी कुंडली के अनुसार शुक्र के नकारात्मक परिणामों से बचने के उपाय जानने के लिये एस्ट्रोयोगी पर देश भर के प्रसिद्ध ज्योतिषियों से परामर्श करें।

 

मेष – आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन नवम भाव में हो रहा है। आपके लिये यह समय भाग्योन्नति के संकेत कर रहा है। भाग्य स्थान में शुक्र शनि व सूर्य के साथ गोचर करेंगें। कार्यक्षेत्र में आपके लिये उन्नति के योग हैं। भाई बहनों का भी आपको पूर्ण सहयोग मिल सकता है। धार्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रूझान बढ़ने के आसार हैं। रोमांटिक जीवन की बात करें तो संबंधों में स्थिरता रहने के आसार हैं।

 

वृषभ – वृषभ राशि के स्वामी स्वयं शुक्र हैं जो आपकी राशि से अष्टम भाव में प्रवेश करेंगें। अष्टम भाव में यह आपके लिये धन लाभ करना वाने वाला है। हालांकि शारीरिक तौर पर आपको कष्ट उठाने पड़ सकते हैं। स्वास्थ्य भी थोड़ा ढ़ीला रहने के आसार हैं। शत्रु पक्ष भी आप पर हावि रह सकता है। प्रतिस्पर्धियों से चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। प्रेम की बात करें तो शुक्र के प्रभाव से आप किसी की ओर आकर्षित हो सकते हैं। कुल मिलाकर आपको इस समय थोड़ा संभलकर रहने की आवश्यकता रहेगी।

 

मिथुन – आपकी राशि से शुक्र सप्तम भाव में शनि व सूर्य के साथ गोचररत हो रहे हैं। यह समय आपके लिये दांपत्य जीवन में स्थिरता लाने वाला रहने के आसार हैं। जो अविवाहित जातक परिणय सूत्र में बंधने के इच्छुक हैं उन्हें इसके लिये थोड़ा इंतजार करना पड़ सकता है लेकिन उनके विवाह संबंधी बात जरूर आगे बढ़ सकती है। आपके लिये कोई अच्छा रिश्ता आ सकता है। हालांकि अविवाहित प्रेमी युगलों में आपसी तालमेल में कमी आ सकती है। साथी की नाराज़गी भी झेलनी पड़ सकती है। जो जातक किसी के प्रेमपाश में बंधना चाहते हैं उनके लिये प्रेम के योग बन रहे हैं। शारीरिक सुख के साथ-साथ मानसिक शांति आपको मिल सकती है। स्वयं व साथी के सेहत का ख्याल रखें।

 

कर्क – कर्क राशि वालों के लिये शुक्र राशि से छठे स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। आपके लिये यह परिवर्तन कुछ खास नहीं कहा जा सकता है। विशेषकर व्यवसायी एवं नौकरीपेशा वालों के लिये अपने प्रतिस्पर्धियों पर विजय पाने के कम संभावना है इसलिए जहां तक हो सकें। विरोधियों से दूरी बना कर रहें। आपकी सेहत में भी बदलाव महसूस कर सकते हैं। शादीशुदा जातकों के जीवन में भी उचार चढ़ाव आ सकती है। विवाद बढ़ाने से बेहतर होगा कि आप बातचीत से समस्या को सुलझाएं।

 

सिंह – आपकी राशि से शुक्र पंचम भाव में गोचर करेंगें। यह समय आपके लिये लाभकारी रहने के आसार हैं। विशेषकर जो जातक किसी तरह की परीक्षा में शामिल हो रहे हैं या फिर कहीं साक्षात्कार दे रहे हैं तो उन्हें सफलता मिलने के आसार हैं। संतान पक्ष की ओर से भी आप संतुष्ट रह सकते हैं। रोमांटिक जीवन भी इस समय सुखद रहने के आसार हैं। कार्यक्षेत्र में उन्नति की उम्मीद भी कर सकते हैं। हालांकि एक अंजान सा भय भी आपको सता सकता है। इसके अलावा आपको धन लाभ भी हो सकता है।

 

कन्या – कन्या जातकों के लिये शुक्र का परिवर्तन सुखभाव में हो रहा है। इस समय आपके सुख में वृद्धि होने के आसार हैं। यदि लंबे समय से मकान या वाहन की खरीददारी का विचार बना रहे हैं तो आपको सफलता मिल सकती है। कार्यक्षेत्र में भी आपके लिये उन्नति के योग बन रहे हैं। भाग्य का भी आपको पूरा साथ मिलेगा। हालांकि इस दौरान आपके खर्चों में भी बढ़ोतरी होने के आसार हैं। परंतु धन लाभ भी होगा। इसके साथ ही आप अपने माता पिता से साथ कुछ महत्वपूर्ण क्षण विताएंगे। परिवार में सुख का वास होगा।

 

तुला – आपकी राशि से शुक्र तीसरे भाव में दाखिल हो रहे हैं। शुक्र आपकी राशि के स्वामी भी हैं। पराक्रम भाव में गोचर करने से यह समय आपके लिये अच्छा है। आपके वरिष्ठ सहयोगियों का आपको सहयोग मिलेगा। इसके साथ ही आपके कार्य की सराहना की जाएगी। बात आपके धन पक्ष की करें तो  धन लाभ की संभावना दिखायी दे रही है। भाई-बहनों से भी आपके रिश्ते उत्साहजनक नहीं कहे जा सकते। इस दौरान आप धार्मिक यात्रा पर जा सकते हैं।

 

वृश्चिक – आपकी राशि से शुक्र दूसरे भाव में आ रहे हैं। धन भाव में शुक्र के आने से इस समय आपके लिये धन वृद्धि के योग बन रहे हैं। लंबे समय से यदि किसी बिमारी से परेशान हैं तो निजात मिलने की प्रबल संभावनाएं हैं। हालांकि दांपत्य जीवन में आपको थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है आपको रिश्तों में अस्थिरता का सामना करना पड़ सकता है। परंतु समय के साथ यह ठीक हो जाएगा। लेकिन अविवाहित जातकों का रोमांटिक जीवन अच्छा रहने के आसार हैं साथी के साथ आपके संबंध मधुर रहने की उम्मीद कर सकते हैं। आपको धन प्राप्ति तो होगी लेकिन साथ ही खर्च भी बढ़ सकते हैं। आर्थिक स्थिति बेहतर बनाये रखने के लिये खर्चों पर नियंत्रण कर संतुलन बनाये रखने का प्रयास करें।

 

धनु – शुक्र आपकी ही राशि में प्रवेश कर रहे हैं। यह समय स्वास्थ्य के मामले में आपके लिये सौभाग्यशाली कहा जा सकता है। इस दौरान आपकी मुलाकात कुछ पुराने मित्रों से भी हो सकती है जिससे आपको काफी खुशी मिलेगी। व्यवसायी जातकों के लिये प्रतिस्पर्धी चुनौतियां खड़ी कर सकते हैं। इस दौरान आपके लिये यात्रा के योग भी बनेंगे जो कि आपके लिये लाभकारी रह सकती हैं। पैतृक संपत्ति से भी आपको लाभ मिलने के आसार हैं। जो मित्र, दोस्त, सगे-संबंधि दूर रहते हैं उनसे लाभ मिल सकता है।

 

मकर – आपकी राशि से शुक्र का 12वें स्थान में गोचररत हो रहे हैं। इस दौरान कामकाजी जीवन के लिये समय लाभकारी रहने के आसार हैं। साक्षात्कार एवं प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिल सकती है। प्रेम जीवन भी अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं। विवाहित दंपति संतान संबंधी खुशखबरी पा सकते हैं। इस समय आपके प्रतिद्वंदि भी कमजोर प्रतीत होंगे। कुल मिलाकर शुक्र का यह राशि परिवर्तन आपके लिये शुभ कहा जा सकता है।

 

कुंभ – कुंभ राशि वालों के लिये लाभ का कारक माने जाने वाले शुक्र लाभ स्थान में ही प्रवेश कर रहे हैं। भाग्य का साथ आपको मिल सकता है। इसके साथ ही धन लाभ भी आपको होगा। इसकी भी संभावना है। माता-पिता की ओर से आपको सुख का अनुभव हो सकता है। भौतिक सुख तो आपको मिलेगा लेकिन हो सकता है आप आत्मिक तौर पर संतुष्टि महसूस न करें। जिन कार्यों से आपको लाभ प्राप्ति की अपेक्षा है उनमें विलंब हो सकता है। परंतु सहयोगियों व वरिष्ठ सहयोगियों से सम्मान मिलेगा। इसके साथ बड़े बुजूर्गों से आपको सहयोग मिल सकता है।

 

मीन – मीन राशि वालों के लिये शुक्र कर्म स्थान में प्रवेश करेंगे आपके लिये यह समय कार्योन्नति का समय है। यदि किसी नये कार्य की शुरुआत करना चाहते हैं उसकी योजना बनाने के लिये यह समय एकदम सही है। भाग्य का आपको पूरा साथ मिल सकता है। भाई-बहनों के साथ थोड़ा तनाव हो सकता है। परिवार का माहौल उतार-चढ़ाव भरा हो सकता है। धैर्य से काम लें। समय के साथ सब कुछ ठीक हो जाएगा।

 

यह भी पढ़ें

 ग्रह गोचर 2019   |   शुक्र गोचर 2019   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜