Skip Navigation Links
15 अप्रैल तक शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?


15 अप्रैल तक शुक्र हैं वक्री, क्या पड़ेगा प्रभाव?

ज्योतिष शास्त्र में शुक्र ग्रह को सौंदर्य का, भाग्य का, प्रेम का कारक ग्रह माना जाता है। शुक्र चाहे राशि परिवर्तन करें, मार्गी हों या किसी भी राशि में वक्री आपकी राशि को भाव के अनुसार प्रभावित जरूर करते हैं। हाल ही में शुक्र उच्च राशि के हैं यानि मीन राशि में विराजमान हैं लेकिन 4 मार्च से ही वे वक्री चल रहे हैं। ऐसे में कई राशियों का प्रेम जीवन प्रभावित होने के आसार हैं। 15 अप्रैल को शुक्र मार्गी होंगे तब तक किन राशियों को किस प्रकार शुक्र से प्रभावित होना पड़ेगा आइये जानते हैं।

मेष – मेष राशि का स्वामी मंगल है जो शुक्र के साथ सम माने जाते हैं। शुक्र के वक्री होने से आप पर इसका मिलाजुला असर रहने के आसार हैं। एक और शुक्र के प्रभाव से आप कामकाजी और व्यावसायिक दृष्टि से लाभ कमा सकते हैं। धन प्राप्ति के योग आपके लिये बनेंगें लेकिन शुक्र के प्रभाव से ही आमदनी से ज्यादा खर्च होने की संभावना भी है हालांकि यह खर्च व्यर्थ में नहीं होगा बल्कि घर में किसी मांगलिक आयोजन में होने के आसार हैं। आपके मान सम्मान में भी शुक्र वृद्धि लायेंगें लेकिन साथ ही आपके मन में किसी चीज़ को लेकर थोड़ी बहुत बेचैनी अवश्य हो सकती है।

वृषभ – यदि व्यक्तिगत जीवन की दृष्टि से देखा जाये तो राशि स्वामी शुक्र का उच्च में वक्री होना आपके लिये सकारात्मक परिणाम मिलने के संकेत कर रहा है। अपने जीवनसाथी से प्रेम के मामले में तो बहुत ही अच्छा रहने के आसार हैं लेकिन यदि आप अविवाहित हैं और किसी के साथ प्रेम संबंध में हैं तो साथी के साथ आपकी खट-पट हो सकती है। आप दोनों के अहं एक दूसरे से टकरा सकते हैं। आर्थिक तौर पर आपकी स्थिति बेहतर रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

मिथुन – मिथुन जातकों के लिये वक्री शुक्र बहुत कुछ अच्छी संभावनाओं के योग बनाने वाला है हालांकि इन संभावनाओं को पूरा होने में आपको इंतजार करना पड़ सकता है। आपके कार्यों की गति धीमी रहने के आसार हैं। हो सकता है आप अपना खुद का घर बनाने के लिये प्रयास करें और आपको ऐसा भी लगे कि काम बस हो गया या फिर किसी वाहन की खरीद को लेकर भी आप इस तरह का महसूस कर सकते हैं। लेकिन वक्री शुक्र के रहते कार्य पूर्ण होने मुश्किल लग रहे हैं।

कर्क – वक्री शुक्र आपके भाग्य में वृद्धि के संकेत कर रहा है। घर से लेकर दफ्तर तक का माहौल आपके लिये खुशनुमा बने रहने के आसार हैं। दांपत्य जीवन के शुभ योग भी नजर आ रहे हैं। परिणय सूत्र में बंध सकते हैं। हालांकि जिनकी नई-नई दोस्ती हुई है उनके मन में अपने संबंधों को लेकर असुरक्षा की भावना पैदा हो सकती है।

सिंह – 4 मार्च से मीन राशि में वक्री हुए शुक्र का संकेत है कि शुक्र के वक्री रहने यानि की 15 अप्रैल तक आपको अपने जीवन साथी के स्वास्थ्य को लेकर चिंतित होना पड़ सकता है। अविवाहित प्रेमी युगलों के बीच भी आपसी प्रेम में कमी आ सकती है। यदि बहुत आवश्यक न हो तो इस समय यात्रा करने से बचें। यदि यात्रा पर जाना पड़े तो अपनी सेहत का ध्यान जरूर रखें।

कन्या – शुक्र के वक्री होने से कन्या जातकों के लिये समय अनुकूल होने के आसार हैं। जीवनसाथी के साथ आपका प्रेम बढ़ने के आसार हैं। हाल ही में जो एक दूसरे के साथ परिणय सूत्र में बंधे हैं या जिनका प्यार ताजा-ताजा परवान चढ़ा है उनके संबंध और भी मधुर होने की संभावना है। आर्थिक रूप से भी धन प्राप्ति के योग आपके लिये बनते हुए नजर आ रहे हैं।

तुला – राशि स्वामी के वक्री होने से समय आपके लिये थोड़ा परेशानियों भरा हो सकता है। इस समय प्रतिस्पर्धियों, शत्रुओं से सावधान रहें वे आपको परेशान कर सकते हैं। हालांकि जीवन स्तर में वृद्धि होने के भी आसार हैं। नया वाहन या खुद का घर खरीद सकते हैं यह अलग बात है कि इसके लिये आपको कर्ज लेना पड़े।

वृश्चिक – वक्री शुक्र होने से आपके खर्च बढ़ने के आसार हैं। विशेषकर संतान पर आपको खर्च करना पड़ सकता है। हो सकता है यह खर्च आपको शिक्षा क्षेत्र में करना पड़े। इस समय यदि भविष्य के लिये कुछ बचाकर रखने की सोच रहे हैं तो शायद इसमें आपको मुश्किल का सामना करना पड़े। हालांकि धीरे-धीरे समय अनुकूल भी आपको होता दिखाई देगा।

धनु – पिछले कुछ समय से मन में जो इच्छाएं चल रही हैं शुक्र के वक्री होने से उन इच्छाओं के पूरी होने के आसार बन सकते हैं। व्यक्तिगत जीवन में प्रेम बढ़ेगा, जिन अविवाहित जातकों की आंखे किसी से दो चार नहीं हुई हैं वे अपने किसी खास के प्रति भावनात्मक जुड़ाव महसूस कर सकते हैं। इस समय आपको परिवार में किसी मांगलिक आयोजन में भी शामिल होना पड़ सकता है।

मकर – मकर जातकों को वक्री शुक्र सचेत रहने के संकेत कर रहा है। कोई भी कार्य करने से पहले यदि उसकी अच्छे से जांच परख करें तो आपके लिये बेहतर रहेगा। इस समय आपके शत्रु भी आपको परेशान कर सकते हैं। लेकिन आपके लिये सुझाव है कि आप किसी से भी बेवजह न उलझें व अपने काम पर ध्यान लगाते हुए लक्ष्य को हासिल करने के लिये कड़ी मेहनत के साथ लगे रहें। आप देखेंगें आपको अपनी मेहनत का फल मिल रहा है। तमाम परेशानियों से झूझते हुए आप अंतत: सफलता प्राप्त करने में सफल हो सकते हैं।

कुंभ – कुंभ जातकों के लिये वक्री शुक्र के कारण यह समय अनुकूल हो रहा है। यदि पिछले कुछ समय से धन को लेकर आपको मानसिक तनाव से गुजरना पड़ा है तो उसमें इस समय कमी आयेगी। नये कार्य को आरंभ करने की योजना भी बना सकते हैं। साथ ही प्रेम जीवन में भी जिन्होंने हाल ही में प्रवेश किया है उनके संबंधों में बेहतर सुधार होंगे।

मीन – मन में नई उमंग नई तरंग वक्री शुक्र के कारण आ सकती हैं। इस समय आपके लिये भाग्य के भरोसे बैठे रहना उचित नहीं है अपनी मेहनत में यकीन रखें। यदि परिवार या दोस्तों के साथ कहीं बाहर घूमने की योजना बना रहे हैं तो यह समय आपके लिये एकदम उपयुक्त है। इस समय मन से किये गये कार्य में आपको सफलता मिलने की संभावनाएं बलवती हैं। हालांकि आपसी संबंधों को लेकर थोड़ा तनावपूर्ण स्थिति हो सकती है। अपने साथी के प्रति वफादार रहें समय के साथ सब सही होगा।

वक्री शुक्र के नकारात्मक प्रभावों से बचने के ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये यहां क्लिक कर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।

यह भी पढ़ें

वित्तीय राशिफल 2017-18 क्या होगी धन की वर्षा   |  शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर   |  

बृहस्पति वक्री 2017 - क्या होगा आपकी राशि पर असर गुरु कन्या में हुए वक्री   |   सूर्य करेंगें राशि परिवर्तन क्या रहेगा राशिफल?   |  

बुध बदलेंगे राशि - क्या होगा असर? जानें राशिफल




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

हरियाली तीज 2017 - जानें श्रावणी तीज की व्रत कथा व पूजा विधि

हरियाली तीज 2017 -...

श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को “श्रावणी तीज” कहते हैं। परन्तु ज्यादातर लोग इसे हरियाली तीज के नाम से जानते हैं। यह त्यौहार मुख्य रूप स...

और पढ़ें...
नाग पंचमी 2017 - भगवान शिव और नागों की पूजा का दिन है

नाग पंचमी 2017 - भ...

नाग पंचमी एक  हिन्दू पर्व है जिसमें नागों और सर्पों की पूजा की जाती है। श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में यह पर्व पूरे देश में पूर्ण...

और पढ़ें...
शुक्र राशि परिवर्तन – किसको मिलेगा लाभ किसको होगी हानि जानें राशिफल

शुक्र राशि परिवर्त...

किसी भी जातक की कुंडली में लाभ, सुख-समृद्धि आदि के कारक शुक्र माने जाते हैं इसलिये शुक्र का गोचर भी ज्योतिषीय दृष्टिकोण से खास अहमियत रखता है...

और पढ़ें...
राशिनुसार कैसे करें शिव की पूजा

राशिनुसार कैसे करे...

शिव भक्तों के लिये सावन माह सभी महीनों में सबसे पवित्र माह होता है। इसलिये इस माह को भगवान शिव की उपासना के लिये सर्वोत्तम भी माना जाता है। इ...

और पढ़ें...
श्रावण सोमवार 2017 - जानें सावन सोमवार की व्रतकथा व पूजा विधि

श्रावण सोमवार 2017...

सावन माह का नाम आते ही हमारे मन में भी बादल घुमड़ने लगते हैं, ठंडी हवाओं के झौंके सुकून देने लगते हैं, तपती ज्येष्ठ और आषाढ़ में गरमी से बेहा...

और पढ़ें...