Skip Navigation Links
कैसे मनायें क्रिसमस


कैसे मनायें क्रिसमस

क्रिसमस के त्यौहार को लेकर पूरी दुनिया में ईसाई धर्म के अनुयायी तो उत्साहित होते ही हैं लेकिन अन्य धर्मों के लोग भी आजकल इसे खूब मनाने लगे हैं। असल में वर्तमान युग में जब पूरी दूनिया से हम जुड़े होते हैं तो सांस्कृतिक आदान-प्रदान भी चलता रहता है। जैसे हमारे देश में ही कुछ राज्यों के खास त्यौहार देश भर में प्रसिद्ध हो चुके हैं वैसे ही दूसरे देश व धर्मों के त्यौहार भी बड़े स्तर पर दुनिया भर में मनाये जाने लगे हैं। लेकिन हो सकता है आपमें से बहुत से लोग इस पर विचार कर रहे हों कि वे क्रिसमस के त्यौहार को कैसे सेलिब्रेट करें। तो हम आपके लिये पेश कर रहे हैं कुछ सुझाव जिन्हें अपनाकर आप क्रिसमस का यह त्यौहार अच्छे से मना सकते हैं।


उत्साह से मनायें क्रिसमस

सबसे पहली बात तो यह है कि कोई भी त्यौहार बिना उल्लास के, बिना उत्साह के नहीं मनाया जा सकता। अब जो लोग धर्म विशेष से जुड़े होने के कारण इसे मनाते हैं वे तो पारंपरिक रूप से इसे मनाते हैं जिसमें प्रार्थनाओं से लेकर साज-सज्जा और दोस्त रिश्तेदारों को कार्ड व उपहार भेंट करना शामिल है। लेकिन आप भी अपने लिये क्रिसमस के त्यौहार का उत्साह अपने अंदर जगाकर इस बड़े दिन को खास बना सकते हैं।


यार, प्यार व परिवार के साथ करें सेलिब्रेट

जैसे हम अपने पारंपरिक त्यौहारों को पूरे परिवार के साथ मिलकर मनाते हैं उसी प्रकार क्रिसमस को भी पूरे परिवार के साथ सेलिब्रेट करना चाहिये। क्रिसमस पर बहुत सारे लोग तो सपरिवार यात्रा पर भी जाते हैं। सर्दियों का यह बेहतरीन मौसम पहाड़ों पर बर्फ की चादर बिछाने आता है। तो आप भी रूई की तरह उड़ती हुई बर्फ और प्रकृति के मनोरम नज़ारों का आनंद ले सकते हैं। युवा अपने दोस्तों के साथ इसका आनंद उठा सकते हैं। प्रेमियों के लिये इस त्यौहार को मनाना तो उनके प्रेम जीवन में खुशियां भर सकता है क्या पता सांता क्लॉज़ आपके प्यार की नैया को पार लगा दें इसलिये इस त्यौहार को पूरी ईमानदारी व उत्साह के साथ मनायें।


क्रिसमस ट्री व घर की करें सजावट

भारत में तो हालांकि लोग दिवाली पर अपने घरों की साफ-सफाई कर साज-सज्जा भी कर चूके होते हैं लेकिन फिर भी किन्हीं कारणों से आप ऐसा नहीं कर पायें हैं तो अपने घर की सजावट करने का यह अच्छा अवसर आपके लिये हो सकता है। यदि आप घर की सजावट से संतुष्ट हैं तो क्रिसमस ट्री को अच्छे से तैयार कर सकते हैं। रंग-बिरंगी लाइट्स, चमकीले पेपर्स, ग्रिटिंग कार्ड, मोमबत्ती आदि से क्रिसमस ट्री को सजा सकते हैं। थर्मोकोल या गत्ते पर रंगीन कागज़ चिपकाकर बच्चों के हाथ या पांव की छाप लेकर भी आकर्षक डिजाइन बनाकर ट्री को सजा सकते हैं।

ड्रेस कोड यानि पजामा पार्टी

यदि आप अपने घर में क्रिसमस का त्यौहार मना रहे हैं और इसके लिये अपने दोस्तों व रिश्तेदारों को भी आमंत्रित कर रहे हैं तो इसे आप थोड़े से अतिरिक्त प्रयास के खास बना सकते हैं। दरअसल क्रिसमस पार्टी में आने वाले दोस्तों से आप किसी खास पोशाक में आने का अनुरोध कर सकते हैं। वैसे शांता जो ड्रेस पहन कर आते हैं आप अपने दोस्तों को सुझा सकते हैं कि सांता के वेश में आयें। अक्सर क्रिसमस पर पजामा पार्टी का आयोजन भी किया जाता है आप भी अपने दोस्तों के लिये पजामा बतौर ड्रेस कोड रख सकते हैं। यह इस तरह के आयोजन के लिये बिल्कुल आरामदायक पोशाक भी रहती है। इसमें आप खुलकर मौजमस्ती कर सकते हैं।


कैमरे में कैद करें खुशियां

क्रिसमस पर मनाये जाने वाले जश्न को अपने मोबाइल फोन के कैमरों से फिर प्रोफेशनल फोटोग्राफर की सहायता से भी इन खूबसूरत लम्हों को सहेज कर रख सकते हैं। किसी मॉल में सांता के साथ बच्चों की तस्वीरें आपको लंबे समय तक गुदगुदा सकती हैं। खुद भी इस एक दिन बच्चे बनकर आप अपने बचपन को जी सकते हैं।


बच्चों के लिये घर पर बनायें बार

बच्चों के लिये क्रिसमस को थोड़ा और रोमांचक बनाने के लिये आप चॉकलेट, कॉफी आदि उनकी प्रिय चीज़ों का बार बना सकते हैं। इसके लिये उन्हें पॉकेट मनी से खर्च करने के लिये भी कह सकते हैं। असल में बाकि दिनों में तो आप बच्चों को उनकी इन मनपसंद चीज़ों से दूर रखते ही हैं लेकिन क्रिसमस तो बच्चों की विश पूरी करने का त्यौहार है इसलिये सर्दियों के इस मौसम में उनकी प्रिय कॉफी की डिमांड तो आप पूरी कर ही सकते हैं।


जरुरत मंद बच्चों की करें मदद

कहते हैं अपने लिये तो हम हर पल खुशी की दुआ मांगते हैं लेकिन जरुरतमंद गरीब बच्चों की मदद कर आप उनकी दुआएं ले सकते हैं जो कि निश्चित तौर पर आत्मिक संतुष्टि के साथ आपकी खुशियों को भी सुनिश्चित करेगी। गरीब बच्चों को खाने-पीने की वस्तुओं के साथ-साथ गरम कपड़े भी आप उपहार स्वरुप भेंट कर सकते हैं।


क्रिसमस पर समझें बच्चों के मन की बात

बच्चों के लिये क्रिसमस का त्यौहार खास मायने रखता है। इस दिन उनके प्रिय सैंटा क्लॉज उनकी इच्छाओं को पूरी करते हैं। उन्हें आकर्षक उपहार देते हैं। लेकिन इस दिन आप अपने बच्चे के मन को भी अच्छे से समझ सकते हैं। दरअसल यदि आपको महसूस हो कि आपका बच्चा आपके साथ किसी बात को शेयर करने में हिचकता है। या वह अपने मन में कोई बात दबाये हुए है तो क्रिसमस पर उसकी बात जानने का बेहतर अवसर पा सकते हैं। आप अपने बच्चे को कहें कि वह अपने मन की बात व अपनी किस विश को सैंटा क्लॉज को एक चिट्ठी के रूप में लिखे और क्रिसमस ट्री के पास रखे बॉक्स में डाल दे ताकि सैंटा उसकी बात को सुनें व विश पूरी करें। अब आप बच्चे के सोने के बाद उस चिट्ठी को पढ़ें। इससे आपको अपने बच्चे को समझने में तो मदद मिलेगी ही साथ ही कोशिश करें की उसकी विश भी पूरी कर दें। चाहे दबे पांव रात को जुराब या तकिये के नीचे उसकी मनपसंद चीज़ें रखने वाले सांता के रूप में ही क्यों न आपको आना पड़े।

तो उपरोक्त तरीकों को अपना कर आप क्रिसमस के इस त्यौहार को खास मना सकते हैं। एस्ट्रोयोगी की ओर से आप सबको क्रिसमस के त्यौहार पर ढ़ेर सारी शुभकामनाएं।


संबंधित लेख

ईसा मसीह - जानें कैसे हुआ था ईसा मसीह का जन्म   |   क्रिसमस दान का त्योहार   |   क्रिसमस 2016




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...