Skip Navigation Links
धन के लिये घर लगायें क्रासुला का पौधा


धन के लिये घर लगायें क्रासुला का पौधा

भारतीय वास्तु शास्त्र हो या चीनी वास्तु शास्त्र फेंगशुई, घर में सुख शांति व समृद्धि लाने के अनेक उपाय बताये गये हैं। सुख-शांति व समृद्धि के लिये धन एक बहुत ही जरूरी तत्व है। इसलिये धन पाने के भी कई तरीके वास्तु में मौजूद हैं। इन्हीं में से एक है धन प्राप्ति के लिये लगाये जाने वाले पौधे। धन के पौधे के नाम मशहूर मनी प्लांट के बारे में तो आप जानते ही होंगे अगर सही दिशा में इसे लगाया जाये तो यह काफी लाभकारी होता है लेकिन गलत दिशा में लगाने से नुक्सान भी उठाना पड़ता है। लेकिन हम अपने इस लेख में आपको मनी प्लांट के बारे में नहीं बल्कि ऐसे ही एक अन्य पौधे की जानकारी दे रहे हैं जिसे अपने घर में लगाकर आप धन प्राप्ति की कामना कर सकते हैं।

दरअसल फेंगशुई एक चीनी वास्तु शास्त्र है जो कि सकारात्मक व नकारात्मक ऊर्जा के सिद्धांत पर काम करता है। फेंगशुई वास्तु में जितने भी उपाय बताये जाते हैं वे घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर घर के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा को प्रवाहित करते हैं।

फेंगशुई के अनुसार धन देता है क्रासुला का पौधा

क्रासुला, यह बहुत ही मुलायम मखमली लगने वाला फैलावदार पौधा होता है जिसकी चौड़ी पत्तियां होती हैं। इसकी पत्तियों का रंग हरे और पीले रंग का मिश्रण जैसा होता है क्योंकि यह न तो सही से हरा होता है और न ही अच्छे से पीला बल्कि दोनों के मिले-जुले रंग सी पत्तियां होती हैं इसकी।

क्रासुला का यह पौधा दिखने में सुंदर, छूने में मखमली लगता है, लेकिन दिखने में यह जितना मखमली होता है इसकी पत्तियां उतनी ही मजबूत भी होती हैं। दरअसल ये रबड़ जैसी होती हैं जिन्हें छूने या हाथ लगाने से टूटने या मुड़ने का खतरा नहीं रहता। वहीं आपको इसकी ज्यादा देखभाल करने की भी जरूरत नहीं होती हफ्ते में दो या तीन बार भी आप इसे पानी दे देते हैं तो यह सूखता नहीं है। साथ ही इसके लिये कोई लंबी-चौड़ी जगह की भी आवश्यकता नहीं होती, एक छोटे से गमले में इसे लगाया जा सकता है। छांव में भी अपने आपको यह पौधा पाल लेता है।

घर में कहां पर लगायें क्रासुला का पौधा

फेंगशुई के अनुसार क्रासुला का पौधा घर का प्रवेश द्वार जहां से खुलता है उसके दाहिनी ओर रखना चाहिये।

फेंगशुई वास्तु शास्त्र में क्रासुला के पौधे को सकारात्मक ऊर्जा का बहुत ही अच्छा स्त्रोत माना गया है। मान्यता है कि घर में इस पौधे को रख लिया जाये तो यह पौधा घर में धन वृद्धि करता है। धन को घर की ओर खींचने लगता है। यानि यदि आपके घर में धन नहीं ठहरता है तो भी आप फेंगशुई के इस उपाय को अपना सकते हैं।

यदि आपकी घर में धन नहीं ठहरता या हानि होती रहती है तो अपनी कुंडली के अनुसार आप ज्योतिषीय उपाय जान सकते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। ज्योतिषियों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

संबंधित लेख

धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र   |   धन पाने के लिये दूध से करें ये ज्योतिषीय उपाय   |   यदि चाहते हैं घर में सुख शांति तो अपनायें ये उपाय

यदि आपमें दिखाई देते हैं ये लक्षण तो सपने होंगे सच   |   स्वस्तिक से मिलते हैं धन वैभव और सुख समृद्धि   |   हनुमान यज्ञ से प्राप्त होता है धन और यश

कुंडली के वह योग, जो व्यक्ति को बनाते हैं धनवान !   |   इन 5 वास्तु उपायों की मदद से प्राप्त हो सकता है धन   |   जानिये, राशि के अनुसार धन प्राप्ति के मंत्र   

इन 7 आदतों से दूर हो जाती हैं धन की देवी लक्ष्मी जी   |   घर की बगिया लाएगी बहार   |   वास्तु के अनुसार, इन पेड़-पौधों को घर में लगाने से मिलता है सुख




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...