कब है दिवाली, धनतेरस और नरक चतुर्दशी? जानिए सही दिन और मुहूर्त

09 नवम्बर 2020

दिवाली या दीपावली हिंदू धर्म के सबसे बड़े और महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है। दिवाली का त्यौहार धनतेरस के दिन से शुरू होता है और भाई दूज के दिन समाप्त होता है। यह पांच दिवसीय त्यौहार धनतेरस(13 नवंबर) से शुरू होता है और दूसरे दिन नरक चतुर्दशी या छोटी दिवाली(14 नवंबर) मनाई जाती है। दिवाली(14 नवंबर) का त्यौहार तीसरे दिन मनाया जाता है, जबकि गोवर्धन पूजा(15 नवंबर) चौथे दिन मनाई जाती है। अंत में, भाई दूज(16 नवंबर) पांचवें दिन मनाया जाता है।

मुख्य रूप से, दिवाली त्योहार देवी लक्ष्मी और महाकाली को समर्पित है। हालांकि, धनतेरस, नरक चतुर्दशी, गोवर्धन पूजा और भाई दूज के दिन देव धन्वंतरि, यमराज और भगवान श्रीकृष्ण की भी पूजा की जाती है। इसके अलावा, कार्तिक अमावस्या के दिन इस 5 दिवसीय त्योहार को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन, देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है, और देवी लक्ष्मी के साथ; भगवान गणेश, देवी सरस्वती और महाकाली की भी पूजा की जाती है। हालांकि साल 2020 में धनतेरस, नरक चतुर्दशी और दिवाली की तिथियों को लेकर भ्रम पैदा हो गया है। दरअसल ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक 13 नवंबर को धनतेरस और 14 नवंबर को दिवाली का पर्व मनाया जा रहा है। तो चलिए इस लेख में एस्ट्रोयोगी ज्योतिषी आपको सही तारीखों और शुभ मुहूर्त के बारे में विस्तार से जानकारी दे देने जा रहे हैं। 

 

धनतेरस, नरक चतुर्दशी और दिवाली को लेकर भ्रम

हालांकि साल 2020 में दिवाली कब है को लेकर काफी भ्रम की स्थिति पैदा है। दरअसल हिंदू पंचांग के अनुसार तिथियां 24 घंटे की तरह नहीं होती है जैसे अंग्रेजी कैलेंडर में होता है। कई बार तिथियां 24 घंटे से कम और ज्यादा की भी होती है। इसलिए इस बार कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी तिथि की शुरुआत 12 नवंबर 2020 को रात्रि 09 बजकर 30 मिनट से हो रही है और 13 नवंबर 2020 शाम 05 बजकर 59 मिनट पर समाप्त होगी। इसलिए उदया तिथि में धनतेरस 13 नवंबर को मनाई जाएगी। 

वहीं 13 नवंबर 2020 शाम 05 बजकर 59 मिनट से कृष्ण चतुर्दशी तिथि प्रारंभ होगी और 14 नवंबर 2020 दोपहर 02 बजकर 18 मिनट पर समाप्त होगी। धार्मिक मान्यता के अनुसार, उदया तिथि में नरक चतुर्दशी पर्व मनाया जाएगा यानि छोटी दीवाली 14 नवंबर 2020 को है।

 

दिवाली पर बन रहे हैं दुर्लभ संयोग 

इसके बाद दिवाली का पर्व कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाएगा। अमावस्या तिथि की शुरुआत 14 नवंबर दोपहर 02 बजकर 17 मिनट से होगी और समाप्ति 15 नवंबर सुबह 10 बजकर 36 पर होगी। शास्त्रों के मुताबिक, जिस दिन सूर्यास्त के बाद एक घड़ी अधिक तक अमावस्या रहती है उस ही दिन दिवाली मनाते हैं। ऐसे में दिवाली 14 नवंबर 2020 को मनाई जाएगी। यदि लक्ष्मी पूजन के मुहूर्त की बात की जाए तो 14 नवंबर शाम 05 बजकर 28 मिनट से शाम 07 बजकर 24 मिनट तक रहेगा। 

 

व्यापारी वर्ग के लिए शुभ है दिवाली

साल 2020 पर दीवाली के दिन तीन ग्रहों की युति से दुर्लभ संयोग बनने जा रहा है। दरअसल 14 नवंबर को बृहस्पति अपनी स्वराशि धनु में गोचर करेंगे और शनि अपनी स्वराशि मकर में और शुक्र कन्या राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। वहीं यह दुर्लभ संयोग लगभग 499 वर्षों के बाद बन रहा है। खास बात यह है कि इस बार दिवाली शनिवार को है और शनि मकर में जाकर मंगलकारी योग भी बना रहे हैं, जिसकी वजह से व्यापारी वर्ग को लाभ प्राप्त होगा। 


वास्तु और फेंगशुई के अनुसार यदि दिवाली में कुछ उपाय किए जाए तो आपके घर में सुख-समृद्धि हमेशा बनी रहेगी। 

 

पूजा स्थल को सही ढंग से व्यवस्थित करें

पूजा घर के लिए एक घर का उत्तर-पूर्व कोना पूरी तरह से उपयुक्त है। इसलिए, यदि संभव हो तो, पूजा घर को इस विशेष दिशा में स्थापित करें, यदि नहीं, तो आप इसे पूर्व में बना सकते हैं। आपको इस पवित्र स्थान के अंदरूनी हिस्सों में काले रंग का उपयोग करने से बचना चाहिए। फोटो और मूर्तियों को साफ करने के लिए कपड़े का एक नया और साफ टुकड़ा अलग रखें। इस कपड़े का उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए न करें। गणेशजी कहते हैं कि पूजा करते समय काले और गहरे रंग पहनने से बचें।

 

मूर्तियों की सही स्थापना

किसी घर का उत्तरी भाग धन से जुड़ा होता है। इसलिए, आदर्श रूप से, उस स्थान पर लक्ष्मी पूजा आयोजित की जानी चाहिए। हालांकि, पूजा घर में एक ही भगवान की दो मूर्तियां न रखें। भगवान गणेश को देवी लक्ष्मी के बाईं ओर रखा जाना चाहिए और देवी सरस्वती को देवी लक्ष्मी के दाईं ओर रखा जाना चाहिए। इन सभी भगवान और देवी की मूर्तियों को बैठने के रूप में होना चाहिए। इसके अलावा मूर्तियों को उत्तर-पूर्व दिशा में और पानी के चित्रों और 'कलश' को पूजन कक्ष के पूर्व या उत्तर में रखें। जब आप देवी और देवताओं की तस्वीरें लगाते हैं, तो सुनिश्चित करें कि उन्हें इस तरह से नहीं रखा गया है कि वे पूजा कक्ष या किसी दूसरे के दरवाजे का सामना करें।

 

अवांछित और बेकार वस्तुओं को फेंक दें 

दिवाली के त्योहार से पहले, घर में चारों ओर पड़े हुए सभी अवांछित और बेकार वस्तुओं को फेंक दें और नए के लिए कुछ जगह बनाएं। वास्तु शास्त्र के अनुसार, सामने का दरवाजा अवसरों से संबंधित है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि आपके घर का दरवाजा पूरी तरह से खुलता है और इसके पीछे कोई कचरा जमा नहीं है। अन्यथा, दिव्य ऊर्जा और अवसर आपके घर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। मुख्य हॉल वह स्थान है जहां आप मुख्य रूप से बाहरी दुनिया से जुड़ते हैं, इसलिए इसे हमेशा साफ-सुथरा, सुंदर और स्वागत योग्य होना चाहिए। इस कमरे में अनावश्यक और पुराने सामान न रखें, क्योंकि वे नकारात्मक ऊर्जा पैदा करते हैं।

 

यह सामान्य जानकारी है यदि आप राशि अनुसार वास्तु उपाय करना चाहते हैं तो  भारत के जाने-माने वास्तु विशेषज्ञों से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श करने के लिए यहां क्लिक करें।


अपने घर से नकारात्मक ऊर्जा निकालें

काली चौदस आपके घर से सभी प्रकार की नकारात्मकताओं को दूर करने के लिए सबसे अच्छे दिनों में से एक है। काली चौदस के दिन, यानी दिवाली के दूसरे दिन, आपको शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक शरीर से नकारात्मकता को दूर करने के लिए देवी काली या भगवान हनुमान की पूजा करनी चाहिए। हिंदू धार्मिक शास्त्रों जैसे वेदों में कई विधियों का उल्लेख किया गया है, जो घरों और कार्यालयों से नकारात्मक प्रभावों को दूर करने में मदद करते हैं। अपने घर को बुरी आत्माओं से बचाने के लिए यहां कुछ उपाय दिए गए हैं। सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि ये टिप्स आपको घर में शांति और खुशी खोजने में भी मदद करेंगे। हालांकि, इन युक्तियों का पालन करने और लागू करने से पहले, आपको अपने घर की ऊर्जा क्षेत्र की अवधारणा को समझने की आवश्यकता है। यह आपके घर के आस-पास एक कॉस्मो-मैग्नेटिक ऊर्जा क्षेत्र है जो ज्यादातर लोगों को दिखाई नहीं देता है, लेकिन वास्तु विशेषज्ञों की मदद से सहज रूप से अनुभव किया जा सकता है।

 

गूगल धुप अर्पित करें

वास्तु के अनुसार, वास्तुपुरुष की पूरी टीम, द्वारपाल (रक्षा द्वार), क्षेत्र पाल (क्षेत्रों का रक्षक), दिक पाल (रक्षा कवच) से युक्त है, इसे ऊर्जा धूप से प्राप्त होती है। इसके अलावा, गूगल धूप घरेलू वातावरण से तनाव को दूर करता है और परिवार में सामंजस्य स्थापित करता है। अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखने के लिए आप हर दिन गूगल धूप भी दे सकते हैं।

 

नमकीन पानी का छिड़काव करें

पानी में नमक मिलाएं और इस नमकीन पानी को नियमित रूप से अपने घर के हर कोने में छिड़कें, विशेष रूप से दीवाली के समय। यह माना जाता है कि नमक हवा से सभी नकारात्मकता को अवशोषित करता है, पर्यावरण को शुद्ध करता है और आपको खुश और संतुष्ट रहने में मदद करता है। आप इस उपाय को सप्ताह में दो बार कर सकते हैं। साथ ही पानी का छिड़काव करने के बाद अपने हाथ धोना न भूलें।

 

श्रीयंत्र की स्थापना

श्री यंत्र शुभ और शक्तिशाली यन्त्रों में से एक है जो देवी लक्ष्मी को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि श्री यंत्र स्वास्थ्य, धन और सफलता प्रदान करता है। जो व्यक्ति नियमित रूप से श्री यंत्र की पूजा करता है वह सफलता प्राप्त करता है और जीवन में खुश रहता है। संस्कृत में, श्री का अर्थ है धन और यंत्र का अर्थ है यंत्र। इसे धन का एक महत्वपूर्ण साधन माना जाता है। श्री यंत्र हर समस्या का सबसे अच्छा समाधान है। श्री यंत्र एक व्यक्ति को नाम और प्रसिद्धि प्रदान करता है। यह यंत्र व्यवसाय में सफलता और आपकी आय में वृद्धि प्रदान करता है। यदि आप स्वास्थ्य, धन और समृद्धि से संबंधित समस्याओं का सामना कर रहे हैं, तो आप दिवाली पर श्री यंत्र पूजा कर सकते हैं।

 

नोट -  इस बार जानलेवा महामारी की वजह से सरकारी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए दिवाली सावधानीपूर्वक मनाएं। सामाजिक दूरियों के नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए और मास्क पहनना ना भूलें। एस्ट्रोयोगी की तरफ से सभी पाठकों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं और हम आशा करते है कि आप के बीच यूँ ही प्रेम, स्नेह बना रहें।  

 

संबंधित लेख

छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |   गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   दीपावली – दिवाली पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   दीवाली 2020   |   दीवाली पूजा मंत्र   |लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र

एस्ट्रो लेख

देवोत्थान एकादशी 2020 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

क्या आप भी जन्मे हैं दिसंबर महीने में? तो जानिए अपना स्वभाव

गोपाष्टमी 2020 तिथि मुहूर्त व व्रत कथा

अक्षय नवमी पर करें आंवले के वृक्ष का पूजन मिलेगा शुभ फल

Chat now for Support
Support